scriptभगवान जगन्नाथ को बांधे कंगन-डोरे, गूंज उठे वैवाहिक मंगल गीत | Patrika News
अलवर

भगवान जगन्नाथ को बांधे कंगन-डोरे, गूंज उठे वैवाहिक मंगल गीत

जयपुर से तैयार करवाई गई पोशाक पहनाई, दूल्हे के रूप में किया शृंगार

अलवरJul 08, 2024 / 06:05 pm

mohit bawaliya

भगवान जगन्नाथ को कंगन-डोरे बांधते पूजारी ।

अलवर. प्राचीन जगन्नाथ मंदिर में रविवार को भगवान जगन्नाथ व जानकी मैया के विवाह उत्सव के कार्यक्रमों की शुरुआत हुई। इस दिन भगवान को कंगन डोरे बांधे गए। भगवान का पहले अभिषेक किया गया और फिर दूल्हा रूप में श्रृंगार कर वैदिक मंत्रोच्चार के साथ भगवान के कंगन डोरे बांधने की रस्म निभाई गई।
भगवान को जयपुर से तैयार करवाई गई पोशाक पहनाई गई। भगवान जगन्नाथ ने पीले वस्त्र धारण किए। इस दौरान महिलाओं ने मांगलिक गीत गाए। श्रद्धालुओं ने मनोकामना पूरी होने के लिए नारियल चढ़ाया। महिलाएं पीली साडिय़ां पहनकर मांगलिक कार्यक्रम में शामिल हुई।
alwar patrika
मंगल गीतों पर नृत्य करते श्रद्धालु।

शादी की कामना के लिए पहुंचे युवक-युवतियां: इस अवसर पर अविवाहित युवक-युवतियों ने भी शीघ्र शादी की कामना के लिए कंगन डोरे बंधवाए। ऐसी मान्यता है कि भगवान के मंदिर में कंगन डोरे बंधवाने से शादी जल्दी हो जाती है।
देवशयनी एकादशी को विवाह कर सो जाते हैं भगवान: आषाढ़ मास शुक्ल पक्ष की एकादशी को भगवान जगन्नाथ व जानकी मैया की वरमाला महोत्सव होता है। इस दिन देवशयन एकादशी रहती है। भगवान विवाह के बाद सो जाते हैं और चार माह के लिए मांगलिक कार्यों पर विराम लग जाता है। इसके बाद देवउठनी एकादशी को देवों के जागने पर वैवाहिक कार्यक्रम फिर से प्रारंभ होते हैं।
मेले में भक्तों को होंगे बूढ़े जगन्नाथजी के दर्शन
पुराना कटला जगन्नाथ मंदिर के गर्भगृह में भगवान जगन्नाथ की दो प्रतिमाएं विराजमान है। एक प्रतिमा चंदन की लकड़ी की बनी हुई है। यह चल है और रथयात्रा के दौरान इसे रूपबास तक रथयात्रा के रूप में ले जाया जाता है। दूसरी प्रतिमा अचल है जो कि ठोस धातु की बनी हुई है। जिसे बूढ़े जगन्नाथ जी के नाम से जाना जाता है। इस प्रतिमा के दर्शन भक्तों को साल में एक बार मेले के दौरान ही होते हैं। जगन्नाथ जी की रथयात्रा के दौरान वर्तमान प्रतिमा रूपबास पहुंचती है तो मंदिर में बूढ़े जगन्नाथ जी के ही दर्शन होते हैं। रथयात्रा के वापस लौटने तक ही इनके दर्शन होते हैं।

Hindi News/ Alwar / भगवान जगन्नाथ को बांधे कंगन-डोरे, गूंज उठे वैवाहिक मंगल गीत

ट्रेंडिंग वीडियो