scriptMartyr Ramavatar's funeral with deafening slogans, tears did not stop | सैन्य सम्माव व गगनभेदी नारों के साथ शहीद रामावतार की अंत्येष्टि, पत्नी व बेटी की आंखों से नहीं रुके आंसू | Patrika News

सैन्य सम्माव व गगनभेदी नारों के साथ शहीद रामावतार की अंत्येष्टि, पत्नी व बेटी की आंखों से नहीं रुके आंसू


कोटकासिम. हरियाणा बॉर्डर से ग्रामीणों की भारी भीड़, सेना के जवान एवं पुलिस बल के साथ देशभक्ति से ओत-प्रोत धुनों के बीच शहीद रामावतार का पार्थिव शरीर शनिवार को उनके पैतृक गांव लालपुर स्थित घर लाया गया। शहीद की पत्नी सहित बेटी एवं शहीद के परिवार की महिलाओं में कोहराम मच गया।

अलवर

Published: April 17, 2022 08:38:47 pm


कोटकासिम. हरियाणा बॉर्डर से ग्रामीणों की भारी भीड़, सेना के जवान एवं पुलिस बल के साथ देशभक्ति से ओत-प्रोत धुनों के बीच शहीद रामावतार का पार्थिव शरीर शनिवार को उनके पैतृक गांव लालपुर स्थित घर लाया गया। शहीद की पत्नी सहित बेटी एवं शहीद के परिवार की महिलाओं में कोहराम मच गया। वहां मौजूद हजारों आंखें नम हो गई। शहीद की अंतिम विदाई यात्रा में सैकड़ों लोग शामिल हुए। शहीद की सैनिक सम्मान से अंत्येष्टि की गई।
सैन्य सम्माव व गगनभेदी नारों के साथ शहीद रामावतार की अंत्येष्टि, पत्नी व बेटी की आंखों से नहीं रुके आंसू
सैन्य सम्माव व गगनभेदी नारों के साथ शहीद रामावतार की अंत्येष्टि, पत्नी व बेटी की आंखों से नहीं रुके आंसू

जम्मू-कश्मीर के सोपिया में गाड़ी पलटने से शहीद हुए जवान लालपुर निवासी रामावतार यादव फिरोजपुर पंजाब में 17 राजपूताना सेना में तैनात थे। इनको तीन साल के लिए 44 आरआर रेजिमेंट जम्मू-कश्मीर में प्रमोशन के लिए भेजा गया था। जम्मू कश्मीर के चोगाम कैंप से जवानों की एक टुकड़ी एक वैन में सवार होकर मुठभेड़ स्थल की ओर जाते समय सडक़ हादसा हो गया, जिसमें आठ जवान घायल हो गए तथा रामावतार सहित तीन जवान शहीद हो गए थे। रामावतार का पार्थिव शरीर शनिवार को उनके पैतृक गांव लालपुर दोपहर करीब ढाई बजे लाया गया। जैसे ही शहीद का पार्थिव शरीर राजस्थान सीमा पर पहुंचा। वहां से करीब दो किलेामीटर दूर शहीद के घर तक भारत माता की जय, शहीद रामावतार अमर रहे, जब तक सूरज चांद रहेगा, शहीद रामोतार तेरा नाम रहेगा..., के उद्घोष से पूरा वातावराण गूंजायमान हो उठा।
पापा-पापा कहकर बिलख पड़े पुत्र-पुत्री : पैतृक गांव स्थित घर में जैसे ही शहीद का पार्थिव शरीर लाया गया। शहीद का इकलौता नौ वर्षीय यश पापा-पापा कहकर बिलख पड़ा। शहीद की 14 वर्षीय पुत्री अंशिका भी बिलख पड़ी और कहा कि पापा मुझे किसके भरोसे छोडकऱ चले गए।

सेना ने दिया गार्ड ऑफ ऑनर : अंतिम संस्कार में शामिल सेना के जवानों ने शहीद के पार्थिव शरीर को मातमी धुन के साथ सलामी दी तथा तीन राउंड फायर कर गार्ड ऑफ ऑनर दिया। शहीद के इकलौते पुत्र यश ने मुखाग्नि दी। इस दौरान सेना व प्रशासन के आला अधिकारियों सहित कैप्टन ज्योति प्रकाश, नायब सूबेदार बलराम ङ्क्षसह, हवलदार विकास, क्षेत्रीय विधायक दीपचंद खैरिया, तिजारा विधायक संदीप यादव, पूर्व विधायक मामन, जिला प्रमुख बलवीर छिल्लर, प्रधान विनोद कुमारी सांगवान, जिला पार्षद प्रतिनिधि दिनेश यादव, एसडीएम गंगाधर मीणा, डीएसपी प्रेमबहादुर, एसएचओ महावीर ङ्क्षसह शेखावत, खुशखेड़ा एसएचओ मनोज यादव, पूर्व मंडल अध्यक्ष कृष्ण कुमार, सतीश यादव, सरपंच संघ अध्यक्ष कुलदीप ग्वाला, भूपेश लहकरा, सरपंच तेजपाल, ओमप्रकाश आदि ग्रामीण मौजूद रहे।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Maharashtra Politics: संजय राउत का बड़ा दावा, कहा-मुझे भी गुवाहाटी जाने का प्रस्ताव मिला था; बताया क्यों नहीं गएक्या कैप्टन अमरिंदर सिंह बीजेपी में होने वाले हैं शामिल?कानपुर में भी उदयपुर घटना जैसी धमकी, केंद्रीय मंत्री और साक्षी महाराज समेत इन साध्वी नेताओं पर निशानाआतंकी सोच ऐसी कि बाइक का नम्बर भी 2611, मुम्बई हमले की तारीख से जुड़ा है नंबर, इसी बाइक से भागे थे दरिंदेपाकिस्तान में चुनावी पोस्टर में दिख रहीं सिद्धू मूसेवाला की तस्वीरें, जानिए क्या है पूरा मामला500 रुपए के नोट पर RBI ने बैंकों को दिए ये अहम निर्देश, जानिए क्या होता है फिट और अनफिट नोटनूपुर शर्मा के समर्थन में पोस्ट लिखने पर अमरावती में दुकान मालिक की हुई हत्या!Maharashtra Politics: उद्धव और शिंदे के बीच सुलह कराना चाहते हैं शिवसेना के सांसद, बीजेपी का बड़ा दावा-12 एमपी पाला बदलने के लिए तैयार
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.