मंत्री के बेटे पर लगे आरोप के बाद मंत्री के नौकर ने पीडि़त पर ही कर डाला केस

मंत्री के बेटे पर लगे आरोप के बाद मंत्री के नौकर ने पीडि़त पर ही कर डाला केस

Rajeev Goyal | Publish: Dec, 22 2017 11:17:22 AM (IST) Alwar, Rajasthan, India

ये दोनों पिता-पुत्र आपराधिक प्रवृत्ति के हैं। ये लोग कॉलोनी में खौफ पैदा करना चाहते हैं। इसके लिए कुछ भी हथकंडे अपना सकते हैं।--------हेमसिंह भड़ाना ,

अलवर में सामान्य प्रशासन एवं मोटर गैराज मंत्री हेमसिंह भड़ाना के बेटों के खिलाफ युवक का अपहरण कर जानलेवा हमले का मामला दर्ज होने के बाद गुरुवार को मंत्री के नौकर ने घायल युवक व उसके साथियों पर लाठी-डंडों से मारपीट का आरोप लगा डाला। मंत्री के नौकर प्रधान पुत्र गोविन्द सिंह गुर्जर ने इस संदर्भ में शिवाजी पार्क थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई है।
खास बात ये है कि रिपोर्ट दर्ज कराने पहुंचे मंत्री के नौकर की जब पुलिस ने चोटें देखीं तो उसके शरीर पर कोई चोटें नहीं थीं। उसने बाएं कान व पीठ में दर्द जरूर बताया। उधर, मंत्री के बेटे व साथियों के हमले में घायल डहरा-शाहपुर निवासी तेजसिंह को तबीयत बिगडऩे पर परिजन गुरुवार को फिर से निजी चिकित्सालय लेकर पहुंचे, जहां हालत गंभीर होने पर उसे आईसीयू में भर्ती किया गया।


उधर, मामले में पीडि़त पक्ष के रिपोर्ट दर्ज कराने के बावजूद पुलिस आरोपितों की गिरफ्तारी की जगह मामले की जांच में लगी है। गुरुवार को पुलिस उपाधीक्षक जयसिंह नाथावत व शिवाजी पार्क थाना प्रभारी विनोद सामरिया अस्पताल पहुंचे और घायल युवक के बयान दर्ज किए। बाद में पुलिस ने घटना स्थल का मौका-मुआयना भी किया। घायल युवक के पिता सतीश यादव, भाई जयकिशन सहित जिस मकान में युवक रहता था, उसमें रहने वाले एक किराएदार युवक के बयान दर्ज किए।

पुलिस ने दवाब बनाने के लिए करवाई रिपोर्ट- सतीश यादव

मामले में अस्पताल में भर्ती घायल युवक तेजसिंह के पिता ने आरोप लगाया है कि पुलिस ने दवाब बनाने के लिए मंत्री के नौकर से क्रॉस एफआईआर कराई है। उन्होंने दावा किया कि मंत्री भड़ाना ने थाना प्रभारी को घर बुलाया। यहां उनकी बातें हुई। आरोप है कि इस दौरान थाना प्रभारी ने पीडि़त पक्ष को दबाव में लाने के लिए मुकदमा दर्ज कराने की सलाह दी। इसके बाद मंत्री के नौकर ने मामला दर्ज कराया है।

सिर में तीन जगह चोट, लगाए टांके

उधर, निजी अस्पताल में भर्ती घायल युवक तेजसिंह के सिर में तीन जगह चोट मिलने पर चिकित्सकों ने टांके लगाए। इससे पूर्व उसकी सोनोग्राफी व एक्सरा कराया गया। वहीं, बुधवार को घायल युवक का सीटी स्केन हुआ। युवक के पिता ने दावा किय कि तेजसिंह के सिर में लगी चोटों पर चिकित्सकों ने पुलिस के सामने टांके लगाए। युवक को फिलहाल चिकित्सकों ने 48 घंटे के लिए आईसीयू में रखने की कहा है।

ये कराया मामला दर्ज


मामले में मंत्री भड़ाना के नौकर पान्होरी (डीग) भरतपुर हाल वीर सावरकर नगर निवासी प्रधान पुत्र गोविन्द सिंह गुर्जर ने शिवाजी पार्क थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई कि वह मंत्री भड़ाना के घर नौकरी करता है। मंत्री के नौकर प्रधान ने दर्ज रिपोर्ट में बताया कि शाम को करीब 5-6 बजे तेजसिंह, सतीश व दो अन्य लोग हाथों में डंडे-सरिया लेकर मंत्री भड़ाना के घर आए और उसके साथ मारपीट करने लगे। उन्होंने कहा कि मंत्री और सुरेन्द्र कहां हैं? मैने कहा कि वे तो जयपुर हैं। इसके बाद इनमें से एक युवक ने कहा कि मेरा नाम तेजसिंह है। मैं मुकदमों से नहीं डरता। मुझ पर पूर्व में भी कई मुकदमे लगे हुए हैं। इतना कहकर उन्होंने लाठी-सरियों से मारपीट शुरू कर दी। इतने में रामकरण, रवि कसाना, निहालसिंह, हिमांशु आ गए, जिन्हें देख युवक भाग गए। --------------

- मामले में मंत्री भड़ाना के नौकर ने भी पुलिस में तेजसिंह व उसके साथियों के खिलाफ मारपीट का मामला दर्ज कराया है। मामले की जांच की जा रही है। मामले में फिलहाल अस्पताल में भर्ती युवक, उसके पिता, भाई व एक किराएदार के बयान लिए गए हैं। दूसरे पक्ष के बयान अभी नहीं लिए हैं। मामले में आरोपितों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

विनोद सामरिया, थाना प्रभारी शिवाजी पार्क

- जब मंत्रीजी पुलिस कंट्रोल रूम में शिकायत और अन्य आरोप की फुटेज व कॉल डिटेल पेश कर सकते हैं तो वे 20 दिसम्बर को तेजसिंह के साथ मारपीट नहीं हुई, इसके भी प्रमाण पेश करें। मंत्री के नौकर से यदि हमने मारपीट की है तो उन्हें इसके फुटेज भी पुलिस को उपलब्ध कराने चाहिए।

सतीश यादव, पीडि़त युवक का पिता।

- 20 दिसम्बर को मेरा बेटा सुरेन्द्र जयपुर व दूसरा बेटा अपनी ससुराल गया था। शाम को तेजसिंह, उसका पिता सतीश सहित दो अन्य लोग मेरे घर आए और गाली-गलौच की। ये हमारे घर आए, इसके हमने पुलिस को फुटेज दिए हैं। हमने पुलिस को कंट्रोल रूम पर सूचना दी। इसके भी प्रमाण हैं।
हेमसिंह भड़ाना, सामान्य प्रशासन मंत्री।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned