सरकार में मंत्री तो रहे हेमसिंह भडाना, लेकिन क्या उनके किए गए वादे पूरे हो पाए? जानिए आप

सरकार में मंत्री तो रहे हेमसिंह भडाना, लेकिन क्या उनके किए गए वादे पूरे हो पाए? जानिए आप

Hiren Joshi | Publish: Nov, 08 2018 09:40:35 AM (IST) | Updated: Nov, 08 2018 09:40:36 AM (IST) Alwar, Alwar, Rajasthan, India

https://www.patrika.com/alwar-news/

थानागाजी. प्रदेश में विधानसभा चुनाव का बिगुल बज चुका है, विभिन्न राजनीतिक दलों के नेता चुनावी वैतरणी पार करने के लिए फिर से जनता के बीच नए वादों की फेहरिस्त लेकर पहुंचने लगे हैं, लेकिन गत विधानसभा चुनाव के दौरान क्षेत्र की जनता को विकास के दिखाए सपनों में ज्यादातर के पूरे होने का इंतजार ही रहा। यह हाल तो तब रहा, जब थानागाजी क्षेत्र की राज्य की सरकार में शुरू से ही भागीदारी रही।
विधानसभा चुनाव 2013 के दौरान प्रत्याशियों की ओर से किए वादों को याद करें तो जनता के समक्ष किए वादे खोखले हीं साबित हुए। यहां से जीते विधायक राज्य की सरकार में केबिनेट मंत्री रहे और क्षेत्र में उनकी आवाजाही तो दिखी, लेकिन जनता की समस्याओं से ज्यादा सरोकार नहीं रहा। वहीं कांग्रेस की विपक्ष की भूमिका भी कमजोर रही। वहीं अन्य प्रत्याशी भी विपक्ष की दमदार भूमिका नहीं निभा पाया। गत विधानसभा चुनाव में राजपा प्रत्याशी कांति मीणा दूसरे स्थान पर रहे। थानागाजी की टीस है कि राज में भागीदारी होने के बावजूद वे आज विकास को तरस रहे हैं।
थानागाजी को विकसित शहर के रूप में विकसित करने का वादा अधूरा है। वहीं थानागाजी की आत्मा से जुड़ा सरिस्का मार्ग को भी बंद होने से नहीं बचा पाए। कृषि मंडी की सौगात देने का वादा भी अधूरा रह गया। टहला से राजगढ़ रोड़ पर सुरंग बनाने की सौगात भी अधूरी ही साबित हुई। इतना ही नहीं क्षेत्रीय विधायक भडाणा की ओर से जनता को इंडस्ट्रीज क्षेत्र विकसित करा युवाओं को रोजगार देने का वादा भी खोखला हीं साबित हुआ।

चिकित्सा व्यवस्था में सुधारने की बजाय स्थिति और बदहाल ही हुई। क्षेत्र की जिला मुख्यालय से दूरी करीब 50 किलोमीटर होने से क्षेत्र की जनता को इलाज के लिए परेशानियां झेलनी पड़ी। यही नहीं क्षेत्र की जनता को थानागाजी में प्रसव की सुविधा भी नहीं मिल पाई। सदैव ही स्वास्थ्य विभाग में कर्मचारियों का टोटा रहा। थानागाजी में महिला कालेज नहीं खुल पाने से भी लोगों को निराशा हुई। सरकारी स्कूलों में शिक्षकों के पद रिक्त हैं। थानागाजी में पार्किंग सुविधा नहीं है, इस कारण मुख्य मार्ग कस्बे के बीच होकर गुजरता है, जिससे रोज जाम की स्थिति रहती है। कस्बे में गंदगी की समस्या भी यथावत रही, थानागाजी कस्बे का गंदा पानी रूपा रेल नदी में छोडऩे का भी लोगों ने विरोध किया, लेकिन समस्या का निदान नहीं हो पाया।

क्षेत्र में अवैध खनन भी पांव पसारता रहा, लेकिन इस पर रोक की प्रभावी कार्रवाई नहीं हो सकी। बीते पांच साल में क्षेत्र में अपराधों का ग्राफ भी बढ़ा। क्षेत्र के नीमडी गांव में बंजारा बस्ती में आग लगाने, गोलाका बास प्रकरण, घाटा में वृद्धा के साथ सामूहिक दुष्कर्म की घटनाओं की अलवर जिला ही नहीं प्रदेश में भी गूंज रही।

 

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned