राजस्थान में गरमाया मॉब लिंचिंग मामला, गृहमंत्री कटारिया ने दिए पुलिस को आदेश, जांच हुई तेज!

www.patrika.com/rajasthan-news/

By: rohit sharma

Published: 24 Jul 2018, 05:55 PM IST

जयपुर।

राजस्थान में इन दिनों मॉब लिंचिंग यानि भीड़ के पीट-पीट कर हत्या करने का मामला गरमाया हुआ है। मॉब लिंचिंग के मामले ने इतना तूल पकड़ लिया की मामला अब संसद तक पहुंच गया है।

हाल ही में मॉब लिंचिंग मामले में जयपुर से आई पुलिस अधिकारियों की टीम ने घटना स्थल का किया निरक्षण किया है। प्रदेश के गृहमंत्री गुलाब चंद कटारिया के निर्देश पर पुलिस महानिदेशक ने एक दल बनाया है। इस दल ने मामले से जुडे सभी पहलुओं की सघन जांच शुरू कर दी है।

टीम ने सोमवार को दोपहर करीब चार बजे अलवर पहुंची व मामले की जांच पडताल शुरू कर दी। पुलिस महानिदेशक ने विशिष्ट महानिदेशक पुलिस व कानून व्यवस्था एनआरके रेडडी, अतिरिक्त महानिदेशक पुलिस सीआईडी, सीबी पीके सिंह, अतिरिक्त महानिदेशक पुलिस जयपुर रेंज हेमंत प्रियदर्शी एवं महानिरीक्षक पुलिस सीआईडी सीबी व राज्य नोडल अधिकारी गौर सतर्कता महेन्द्र सिंह चौधरी को शामिल किया गया है। टीम सोमवार को दोपहर के समय अलवर पहुंची। टीम ने घटना स्थल, रामगढ अस्पताल सहित इस मामले से जुडे हुए लोगों से पूछताछ शुरू कर दी है।

देशभर में चर्चा का विषय बना माॅब लिंचिंग अलवर में हुई माॅब लिंचिंग की घटना पूरे देश में चर्चा का विषय बनी हुई है। भाजपा, कांग्रेस, टीएमसी, समाजवादी पार्टी, बसपा सहित प्रदेष के सभी प्रमुख पार्टी व उनके नेता इस पर बयान देने में लगे हैं। तो दूसरी तरफ विभिन्न समाज व संगठन भी इस पर अपनी रोटी सेकने में लगे हुए है। रामगढ की एक वीडियो रिकाॅर्डिंग वायरल हुई है। उसमें रात के समय एक खाली गाडी व उसके पीछे पुलिस की गाडी जाती हुई नजर आ रही है। लोगों ने बताया कि गौशाला में गौवंश छोडने के बाद लौटते समय की वह रिकाॅर्डिंग है।


गौरतलब है कि शुक्रवार देर रात ललावंडी गांव में जंगलों से गोवंश लेकर हरियाणा जा रहे रकबर उर्फ अकबर और उसके साथी असलम की गांववालों ने लाठी डंडों से बुरी तरह पिटाई की। इसमें अकबर ने दम तोड़ दिया, जबकि असलम जान बचाकर भाग गया।

पुलिस का कहना है कि गोवंश की तस्करी कर हरियाणा ले जाने की सूचना पर पुलिस पहुंची तो ललावंडी निवासी धर्मेन्द्र व परमजीत दो गोवंश के साथ मिले। उनके पास ही एक व्यक्ति कीचड़ में घायलावस्था में पड़ा था। उसने अपना नाम रकबर उर्फ अकबर निवासी कोलगांव जिला नूंह मेवात (हरियाणा) बताया। रकबर ने बताया, वह असलम के साथ लाडपुर से दो गोवंश खरीदकर गांव जा रहा था, तभी लोगों ने पीटना शुरू कर दिया।

इतना बताते ही वह बेहोश हो गया। पुलिस उसे अस्पताल ले गई, जहां उसे मृत घोषित कर दिया गया। उल्लेखनीय है कि मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट ने भीड़ की हिंसा को लेकर कड़ी टिप्पणी की थी। शुक्रवार को संसद में भी मॉब लिंचिंग पर बहस हुई थी।

Show More
rohit sharma
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned