एनजीटी ने रुकवाया खानपुर एसटीपी का काम, ग्रामीणों में हर्ष

एनजीटी ने रुकवाया खानपुर एसटीपी का काम, ग्रामीणों में हर्ष

| Publish: May, 01 2017 07:22:00 PM (IST) Alwar, Rajasthan, India

भिवाड़ी. खानपुर के ग्रामीणों की ओर से गांव में निर्माणाधीन एसटीपी का विरोध एनजीटी ने सुन लिया है। मास्टर प्लान के विपरीत हो रहे निर्माण कार्य को एनजीटी ने रोकने के आदेश दिए हैं।

भिवाड़ी. खानपुर के ग्रामीणों की ओर से गांव में निर्माणाधीन एसटीपी का विरोध एनजीटी ने सुन लिया है। मास्टर प्लान के विपरीत हो रहे निर्माण कार्य को एनजीटी ने रोकने के आदेश दिए हैं। जिससे ग्रामीणों में हर्ष का माहौल है। 



अलवर जिले के खानपुर गांव में अमृत योजना के तहत निजी कंपनी की ओर से एसटीपी का निर्माण कार्य कराया जा रहा है। ग्रामीणों ने काम शुरू होते ही एसटीपी निर्माण का विरोध किया। पुलिस प्रशासन के अधिकारियों ने भारी पुलिस बल की तैनाती के बीच काम शुरू करवा दिया। पुलिस बल की मौजूदगी में ग्रामीण विरोध दर्ज नहीं कर सके। 



पिछले कई महीने से एसटीपी निर्माण का कार्य जारी था। स्थानीय स्तर पर विरोध दबने के बाद ग्रामीणों ने एनजीटी का रुख किया। पूर्व सरपंच धनीराम यादव और धर्मवीर यादव ने दिल्ली एनजीटी में याचिका दायर की। 



एनजीटी के सामने तथ्य पेश करते हुए बताया कि एसटीपी का निर्माण गलत तरीके से हो रहा है। निर्माण में मास्टर प्लान की अनदेखी की गई है।



 निर्माण गांव के बीच में हो रहा है, जिससे ग्रामीणों के स्वास्थ्य को खतरा है। एसटीपी के नजदीक स्कूल है, जिससे बच्चों के स्वास्थ्य पर विपरीत प्रभाव पड़ेगा। मास्टर प्लान में एसटीपी निर्माण के लिए हरियाणा सीमा पर जगह आरक्षित है। 



जोधपुर हाईकोर्ट के 12 जनवरी 2017 के आदेश के अनुसार मास्टर प्लान में फेरबदल नहीं किया जा सकता। निर्माण से पूर्व पर्यावरणीय स्वीकृति भी नहीं ली गई है। 



एनजीटी ने ग्रामीणों की याचिका पर सुनवाई करते हुए निर्माण को पर्यावरणीय स्वीकृति मिलने तक रोकने के आदेश दिए हैं।  ग्रामीणों का कहना है कि स्थानीय प्रशासन ने ग्रामीणों की आवाज को दबाया। एनजीटी में जाकर हमें न्याय मिला है।



 ग्रामीणों ने बताया कि एनजीटी के फैसले की कॉपी नगर परिषद, यूआईटी और फूलबाग थाने में दी गई है। जिसके आधार पर सभी विभागों को जल्द से जल्द निर्माण कार्य रुकवाना चाहिए। 


राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned