इमरजेंसी में इलाज के बजाए देरी कर रहा अलवर का सामान्य अस्पताल, नहीं मिल पाता तुरंत इलाज

अलवर के राजीव गांधी सामान्य चिकित्सालय में ट्रोमा सेंटर में इमरजेंसी सुविधा न होने के कारण परिजनों को जाना पड़ता है दूर।

By: Prem Pathak

Published: 13 Mar 2018, 01:52 PM IST

अलवर. राजीव गांधी सामान्य अस्पताल के ट्रोमा सेंटर में इलाज के लिए आने वाले गम्भीर मरीजों को उपचार से पहले रोगी की पर्ची बनवाने के लिए लंबी दौड़ लगानी पड़ती है।
जिला मुख्यालय स्थित अस्पताल में सरकार ने गंभीर मरीजों के उपचार के लिए ट्रोमा सेंटर तो शुरू किया, लेकिन यहां आपाताकालीन कक्ष स्थापित नहीं किया। इस कारण दुर्घटना में गंभीर घायल मरीज को इलाज से पहले ट्रोमा सेंटर से अस्पताल के मुख्य भवन स्थित इमरजेंसी कक्ष में डॉक्टर से जांच कराने के लिए चक्कर लगाने पड़ते हैं। ऐसे में कई बार गंभीर रोगियों की जान भी चली जाती है। सामान्य अस्पताल के ट्रोमा सेंटर में सडक़ हादसों, जलने, बिजली का करंट लगने सहित अन्य तरह के हादसों में घायल मरीजों के इलाज की सुविधा देय है। ट्रोमा सेंटर में प्रतिदिन 35 से 40 मरीज इलाज के लिए पहुंचते या भर्ती होते हैं। इन मरीजों को तुरंत इलाज की आवश्यकता होती है।

अभी यह है ट्रोमा सेंटर में मरीजों के इलाज की व्यवस्था

गंभीर मरीज को इलाज के लिए पहले ट्रोमा सेंटर में लेकर परिजन पहुंचते हैं, लेकिन वहां से जवाब मिलता है कि इमरजेंसी में ले जाकर पहले डॉक्टर से जांच कराए और पर्ची बनवा कर लाए। परिजन गंभीर हालत में मरीज को लेकर करीब 100 मीटर दूर अस्पताल के मुख्य भवन स्थित इमरजेंसी में ले जाना पड़ता है। वहां मरीजों की लंबी कतार में जगह बनाकर डॉक्टर से जांच कराते हैं। यहां पर्ची बनवाकर वापस मरीज को लेकर ट्रोमा सेंटर पहुंचते हैं और उसे वार्ड में भर्ती कर इलाज शुरू होता है। इस प्रक्रिया में कई बार 10 से 20 मिनट का समय लग जाता है। इस दौरान कई बार मरीज की जान तक भी चली जाती है। मरीज के परिजनों की तरफ से ट्रोमा सेंटर में पर्ची बनने व डॉक्टर की व्यवस्था के लिए कई बार आवाज उठाई गई। इस सम्बंध में लोगों ने प्रमुख चिकित्सा अधिकारी को ज्ञापन दिए। ट्रोमा सेंटर में डॉक्टर के लिए कमरा भी बना हुआ है। लेकिन अभी तक वहां डॉक्टर की व्यवस्था नहीं हो सकी है।

Show More
Prem Pathak Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned