उपचुनाव से पहले सरकार ने यहां केवल दिखावे के लिए लगाए डॉक्टर, अभी तक किसी ने भी नहीं किया ज्वाइन

उपचुनाव से पहले सरकार ने यहां केवल दिखावे के लिए लगाए डॉक्टर, अभी तक किसी ने भी नहीं किया ज्वाइन

Himanshu Sharma | Publish: Feb, 15 2018 12:13:53 PM (IST) Alwar, Rajasthan, India

अलवर के राजीव गांधी सामान्य चिकित्सालय में सरकार ने उपचुनाव से पूर्व चिकित्सक लगाए थे लेकिन उन में से किसी ने भी अब तक यहां काम चालू नहीं किया है।

अलवर. जब चुनाव सिर पर थे पूरी सरकार अलवर में लग गई। चाहे डॉक्टरों की बात हो या किसी और की। सबका ध्यान अलवर पर था। रात दिन शहर की सडक़ों को बनाने का काम शुरू हुआ। अस्पतालों में नए डॉक्टर लगाए। अब असलियत यह है कि चुनाव निकल गए लेकिन अधिकांश चिकित्सकों ने ज्वॉइन ही नहीं किया।

चुनाव से पहले जो काम स्वीकृत हुए थे, वे अधिकांश लटक गए हैं। चुनाव से पहले सडक़ निर्माण कार्य शुरू हुआ था, जो अब रुक चुका है। हालात यह है कि अभी आधे काम भी शुरू नहीं हुए हैं। यह काम कहीं वित्तीय व कहीं तकनीकी स्वीकृतियों में अटक गए हैं। अब इनका फॉलोअप करने वाला भी कोई नहीं है। चुनाव से पहले अलवर में दो तरह से डॉक्टरों को लगाया गया था। प्रतिनियुक्ति पर 31 विशेषज्ञ लगाए गए थे। इनमें से एक भी डॉक्टर ने ड्यूटी ज्वाइन नहीं की। इसके अलावा 46 नए डॉक्टरों की नियुक्ति की गई थी। नए डॉक्टरों में से 24 डॉक्टरों ने ड्यूटी ज्वाइन कर ली है। ऐसे में जिले के हालात में अब तक कोई बदलाव नहीं हुआ। मरीज अब भी इलाज के लिए परेशान हो रहे हैं। इस वजह से उन्हे इलाज के लिए बाहर जाना पड़ रहा है।

विशेषज्ञों की भारी कमी

जिले में महिला रोग विशेषज्ञ, हड्डी, शिशु रोग विशेषज्ञ सहित अन्य पद खाली पड़े हुए हैं। सीएचसी में लोगों को इलाज नहीं मिल पाता है। इलाज के लिए प्रसूताएं व बच्चों के परिजन धक्के खाते हैं। ऐसे में मजबूरी में उनको निजी अस्पताल में इलाज के लिए जाना पड़ रहा है।

अब भी हैं पद खाली

डॉक्टरों के ज्वाइन नहीं करने की सूचना स्वास्थ्य विभाग के मुख्यालय में भेज दी गई है। नए डॉक्टरों में से कुछ ने ज्वाइन किया है, जबकि विशेषज्ञ एक भी नहीं आया है। ऐसे में अब भी कुछ जगहों पर डॉक्टरों के पद खाली है।
डॉ. एसएस अग्रवाल, सीएमएचओ, अलवर।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned