scriptOPD services stalled in Dr. Archana Sharma case, patients returned | डॉ. अर्चना शर्मा प्रकरण में ओपीडी सेवाएं रही ठप, मरीज वापस लौटे | Patrika News

डॉ. अर्चना शर्मा प्रकरण में ओपीडी सेवाएं रही ठप, मरीज वापस लौटे

अलवर. लाल सोट की गायनोलॉजिस्ट डा . अर्चना शर्मा के आत्महत्या के मामले में विरोध में आईएमए के आव्हान पर सोमवार को सामान्य चिकित्सालय की ओपीडी बंद रही।

अलवर

Published: April 02, 2022 12:22:04 am

अलवर. लाल सोट की गायनोलॉजिस्ट डा . अर्चना शर्मा के आत्महत्या के मामले में विरोध में आईएमए के आव्हान पर सोमवार को सामान्य चिकित्सालय की ओपीडी बंद रही। इस दौरान इमरजेंसी सेवाएं ही चालू रही। अस्पताल में ओपीडी के कमरा नंबर दस में जहां प्रतिदिन चार से पांच चिकित्सक उपिस्थत रहते हैं वहीं हड़ताल के चलते यहां इमरजेंसी सेवाएं सुचारू रही। दो चिकित्सक यहां मरीजों का इलाज कर रहे थे। जिसमें गंभीर बीमार मरीजों को ही देखा गया।
सामान्य ऑपरेशन हुए स्थगित : अस्पताल की ओपीडी में सुबह से ही बडी संख्या में मरीज पहुंच गए ज्यादातर मरीज ग्रामीण क्षेत्रो से ही थे, मरीजों ने पर्ची भी बनवाई लेकिन वह कोई काम नहीं आई। चिकित्सक नहीं होने पर मरीज बिना इलाज लिए ही लौट गए। इससे बुजूर्ग मरीजों के साथ साथ पेंशनर भी परेशान होते रहे। चिकित्सकों के हड़ताल पर होने के कारण कुछ ही समय में अस्पताल पूरी तरह से खाली हो गया । वहीं अस्पताल में प्रतिदिन होने वाले सामान्य ऑपरेशन भी नहीं हो पाएं जबकि ऑपरेशन के लिए मरीज भी यहां ़ पहुंच गए।
डॉ. अर्चना शर्मा प्रकरण में ओपीडी सेवाएं रही ठप, मरीज वापस लौटे
डॉ. अर्चना शर्मा प्रकरण में ओपीडी सेवाएं रही ठप, मरीज वापस लौटे

महिला चिकित्सालय में भी यही हालात नजर आए। यहां पर प्रतिदिन ओपीडी में गर्भवती महिलाओं की लंबी कतार रहती है लेकिन हड़ताल के चलते ओपीडी परिसर पूरी तरह से खाली दिखाई दिया। इमरजेंसी में दो महिला चिकित्सक डयूटी पर महिला मरीजों को देख रही थी। जबकि पर्ची काउंटर, दवा काउंटर ,सोनोग्राफी कक्ष पूरी तरह से खाली थे।
शिुश चिकित्सालय की इमरजेंसी में मरीजों की लंबी कतार
शिशु चिकित्सालय की ओपीडी में मरीजों की भीड़ सुबह से ही पहुंच गई थी लेकिन हड़ताल के चलते यहां भी इमरजेंसी सेवाएं ही चालू रही। इमरजेंसी में करीब सौ से ज्यादा मरीज थे जबकि दो शिशु चिकित्सक यहां बच्चों का उपचार कर रहे थे। शिशु रोग विशेषज्ञ डा. महेश शर्मा ने बताया कि गर्मी जनित बीमारियों के चलते मरीज ज्यादा आ रहे हैं इसलिए इमरजेंसी सेवाएं चालू हैं। किसी मरीज को परेशान नहीं होने दिया जाएगा। हडताल की जानकारी मिलने के बाद बहुत से अभिभावक बच्चों को निजी अस्पताल में इलाज के लिए लेकर पहुंचे।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

17 जनवरी 2023 तक 4 राशियों पर रहेगी 'शनि' की कृपा दृष्टि, जानें क्या मिलेगा लाभज्योतिष अनुसार घर में इस यंत्र को लगाने से व्यापार-नौकरी में जबरदस्त तरक्की मिलने की है मान्यतासूर्य-मंगल बैक-टू-बैक बदलेंगे राशि, जानें किन राशि वालों की होगी चांदी ही चांदीससुराल को स्वर्ग बनाकर रखती हैं इन 3 नाम वाली लड़कियां, मां लक्ष्मी का मानी जाती हैं रूपबंद हो गए 1, 2, 5 और 10 रुपए के सिक्के, लोग परेशान, अब क्या करें'दिलजले' के लिए अजय देवगन नहीं ये थे पहली पसंद, एक्टर ने दाढ़ी कटवाने की शर्त पर छोड़ी थी फिल्ममेष से मीन तक ये 4 राशियां होती हैं सबसे भाग्यशाली, जानें इनके बारे में खास बातेंरत्न ज्योतिष: इस लग्न या राशि के लोगों के लिए वरदान साबित होता है मोती रत्न, चमक उठती है किस्मत

बड़ी खबरें

कांग्रेस के बाद अब 20 मई को जयपुर में भाजपा की राष्ट्रीय बैठक, ये रहा पूरा कार्यक्रमTRAI के सिल्वर जुबली प्रोग्राम में PM मोदी ने लॉन्च किया 5G टेस्ट बेड, बोले- इससे आएंगे सकारात्मक बदलावपूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिंदबरम के बेटे के घर पर CBI की रेड, कार्ति बोले- कितनी बार हुई छापेमारी, भूल चुका हूं गिनतीकुतुब मीनार और ताजमहल हिंदुओं को सौंपे भारत सरकार, कांग्रेस के एक नेता ने की है यह मांगकोर्ट में ज्ञानवापी सर्वे रिपोर्ट पेश होने में संशय, दूसरी ओर सुप्रीम कोर्ट में एक बजे सुनवाई, 11 बजे एडवोकेट कमिश्नर पहुंचेंगे जिला कोर्टहरियाणा: हरिद्वार में अस्थियां विसर्जित कर जयपुर लौट रहे 17 लोग हादसे के शिकार, पांच की मौत, 10 से ज्यादा घायलConstable Paper Leak: राजस्थान कांस्टेबल परीक्षा रद्द, आठ गिरफ्तार, 16 मई के पेपर पर भी लीक का सायाShivling In Gyanvapi: असदुद्दीन ओवैसी का अजीबोगरीब दावा, ज्ञानवापी में शिवलिंग नहीं, फव्वारा मिला
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.