पांडूपोल मेला 2018 : मुख्य पोल पर जाने व नहाने पर रहेगी रोक, वन क्षेत्र में भी सर्तक रहेंगे वनकर्मी

पांडूपोल मेला 2018 : मुख्य पोल पर जाने व नहाने पर रहेगी रोक, वन क्षेत्र में भी सर्तक रहेंगे वनकर्मी

Hiren Joshi | Publish: Sep, 11 2018 11:10:09 AM (IST) Alwar, Rajasthan, India

https://www.patrika.com/alwar-news/

पाण्डूपोल हनुमान मेले पर सरिस्का में मुख्य पोल पर जाने और नाले में नहाने पर पूर्ण पाबंदी रहेगी। मेले के दौरान किसी भी प्रकार की अप्रिय घटना से बचने के लिए सरिस्का प्रशासन ने उमरी तिराहे से बूढ़े हनुमान मंदिर तक छह प्वाइंट पर दो-दो वनकर्मियों की दिन रात तैनाती की है। सरिस्का स्थित पाण्डूपोल हनुमान मंदिर पर तीन दिवसीय मेला सोमवार को शुरु हुआ। मेले के दौरान श्रद्धालुओं को सरिस्का गेट एवं टहला गेट से रोडवेज बसों से पाण्डूपोल मंदिर तक जाना होगा। किसी भी श्रद्धालु को सरिस्का में निजी वाहन ले जाने की अनुमति नहीं होगी। यह व्यवस्था सोमवार से शुरू 13 सितम्बर तक जारी रहेगी।

चुग्गा डालने पर रहेगी पाबंदी

मेले के दौरान श्रद्धालुओं को मंदिर के आसपास या रास्ते में किसी भी स्थान पर वन्यजीवों को चुग्गा डालने पर पूर्ण पाबंदी रहेगी। इसके लिए छह प्वाइंट पर वनकर्मी निगरानी करेंगे। वहीं प्रसाद व खाद्य सामग्री में पॉलीथिन के उपयोग पर भी पाबंदी रहेगी। सरिस्का, टहला व सिलीबेरी गेट से किसी भी श्रद्धालु को पॉलीथिन में प्रसाद ले जाने की अनुमति नहीं दी जाएगी। मेले के दौरान बड़ी मात्रा में पॉलीथिन का कचरा फैलने और पर्यावरण संरक्षण की दृष्टि से यह निर्णय किया गया है।

इन प्वाइंटों पर लगाए वनकर्मी

मेले के दौरान सरिस्का में सुरक्षा की दृष्टि से छह प्वाइंट बनाए गए हैं। इनमें उमरी तिराहे से माकबुंडा पुलिया, माकबुंडा पुलिया से पाण्डूपोल किलोमीटर स्टोन, पाण्डूपोल किलोमीटर स्टोन से सहारनवाली रपट, सहारनवाली रपट से बूढ़े हनुमान मंदिर तथा बूढ़े हनुमान मंदिर से मुख्य पोल प्वाइंट शामिल हैं। यहां दो-दो वनकर्मी तीन पारियों में सुरक्षा के लिए तैनात रहेंगे। सरिस्का गेट, टहला गेट व सिलीबेरी गेट पर पूर्व की तरह नियमित सुरक्षाकर्मी तैनात रहेंगे।

नाले में पहले कई बार हो चुकी घटनाएं

मुख्य पोल से पाण्डूपोल हनुमान मंदिर व आगे तक बहने वाले नाले में पूर्व में भी पानी के तेज बहाव के चलते दुखद घटनाएं हो चुकी हैं। इस कारण मेले के दौरान सरिस्का प्रशासन की ओर से नाले में किसी भी व्यक्ति के उतरने या नहाने की किसी को अनुमति नहीं दी जाएगी। वहीं छह प्वाइंट पर लगे वनकर्मियों को नाले पर विशेष ध्यान रखने के निर्देश दिए गए हैं।

भर्तृहरि मेले के दौरान भी रहेगी सुरक्षा

भर्तृहरि मेले के दौरान भी आगामी 16, 17 व 18 सितम्बर को पाण्डूपोल मेले की तरह छह प्वाइंटों पर तीन पारियों में दो-दो वनकर्मी तैनात रहेंगे।

पाण्डूपोल मेले के दौरान वनकर्मियों को विशेष चौकसी बरतने के निर्देश दिए गए हैं। सुरक्षा के लिहाज से छह प्वाइंट पर तीन पारियों में वनकर्मी तैनात किए हैं।
-हेमंत सिंह, डीएफओ, सरिस्का बाघ परियोजना

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned