मिल्क केक में मिलावट रोकने का किया संकल्प


ग्यारह सदस्यों की कमेटी का गठन


अलवर. मिलावट करने का खुलासा होने के बाद अब व्यापारियों की नींद खुल गई है। इस दाग को धोने को शपथ ली है। जिसकी जिम्मेदारी 11 सदस्यों की कमेटी को दी है। उल्लेखनीय है हाल में विभाग ने किशनगढ़बास में बड़ी बडी मात्रा में मिलावटी कलाकंद पकड़ा था।
मिलावट के नाम पर खूब बदनामी होने के बाद खैरथल, किशनगढ़बास व तिजारा सहित आसपास के मिठाई कारोबारियों ने सोमवार को बैठक की। जिसमें स्वास्थ्य विभाग के निरीक्षक हारुन खान को भी बुलाया गया। सर्वसम्मति से निर्णय किया गया कि अब कलाकन्द भट्टी वाले रिफ ाइंड तेल, सूजी ,चावल का आटा व अन्य कोई भी हानिकारक तत्व की मिलावट नहीं करेगा। जिस पर मॉनिटरिंग करने के लिए 11 सदस्यासें की समिति बना दी है। जो औचक निरीक्षण करेगी। मिलावट मिलनेपर जुर्माना वसूला जाएगा। इसके अलावा व्यापारी ही खाद्य विभाग व पुलिस को सूचित कर खुद सरकारी गवाह बनेंगे।


साख बनाए रखना जरूरी
स्वास्थ्य निरीक्षक हारून खान ने बताया कि मिलावट से अलवर के प्रसिद्ध कलाकंद की साख भी धूमिल होती है। इसे बचाए रखना सबकी जिम्मेदारी है। प्रशासन का व्यापारियों से सहयोग मिला तो मिलावट को रोकना अधिक आसान हो सकेगा। खैरथल कलाकन्द निर्माता संघ के अध्यक्ष भगवानदास बालानी ने बताया कि बैठक में खैरथल, किशनगढ़, तिजारा, बहादुरपुर, रामगढ़, बड़ोदा मेव चावण्डी सहित ग्रामीण क्षेत्रों के भट्टी वालंो को बुलाकर समझाइश की गई है। सभी ने आगे से किसी भी तरह की मिलावट नहीं करने का आश्वासन दिया है। ग्यारह सदस्यों की कमेटी को पूर्ण अधिकार दिया गया है कि वे स्वयं भी अवैध कारोबार करने वालों के खिलाफ कार्रवाई कराएंगे।


ये रह मौजूद

बैठक में भगवान दास बालानी, विजय बच्चानी, राजकुमार पुजारा, सुभाष गोयल,देवानन्द असरानी, पंकज रोघा, धर्मदास बच्चानी, गोर्धनदास, ईश्वरदास गोरवानी, वासदेव माखीजा, मेहबूब, इब्राहिम, रवि मेहता सहित लगभग पांच दर्जन कलाकन्द निर्माता शामिल रहे।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned