रीट 2018: रीट परीक्षा में बिहार का गिरोह, यहां दो जनों को दबोचा

रीट 2018: रीट परीक्षा में बिहार का गिरोह, यहां दो जनों को दबोचा

Rajeev Goyal | Publish: Feb, 12 2018 09:06:28 AM (IST) Alwar, Rajasthan, India

रीट परीक्षा में एक ब्लूटूथ से नकल करता मिला व दूसरा फर्जी परीक्षार्थी दबोचा।

अलवर. राजस्थान अध्यापक पात्रता परीक्षा (रीट) में रविवार को अलवर जिले के दो परीक्षा केन्द्रों पर नकल के दो हाईटेक प्रकरण सामने आए हैं। एक जगह परीक्षार्थी ब्लूटुथ से निकल करते पकड़ा। दूसरी जगह असली की जगह नकली परीक्षार्थी को परीक्षा देते दबोच लिया। दोनों मामले पुलिस में दर्ज कराए गए। पुलिस मामले की गहनता से जांच कर रही है। अंदेशा है कि ये नकल कराने वाले बड़े गिरोह हो सकते हैं। संदेह यहां है कि ब्लूटुथ पर प्रश्नों के उत्तर कहां से मिल रहे थे। दूसरा नकली परीक्षार्थी कई घंटे तक खुद का पता ही नहीं बता रहा था। बाद में उसने खुद को बिहार निवासी बताया, जिससे यह संदेह है कि बिहार से कोई नकल कराने के लिए अलवर पहुंचा है। एेसे नकली परीक्षार्थी और भी हो सकते हैं। या फिर सख्ती से जांच के बाद नया खुलासा सामने आ सकता है।

रीट की पहली पारी में बहरोड़ के राजकीय पीजी कॉलेज में सांचौर निवासी परीक्षार्थी रुगनाथ बिश्नोई पुत्र चौखा राम को ब्लूटुथ से नकल करते पकड़ा गया। परीक्षार्थी पर उस समय शक हो गया जब वह ब्लूटुथ पर सवालों के जवाब पूछ रहा था। परीक्षार्थी के होठ हिलते देखा और धीमी-धीमी आवाज बार-बार आने लगी तो शक बढ़ता गया। बाद में उसकी जांच की तो अण्डर गारमेंट्स में पूरी चिप लगी मिली। कान में बहुत बारिक ब्लूटूथ मिला। परीक्षा को पकडक़र पुलिस थाने भेजा। पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

अभ्यर्थी की जगह दे रहा था परीक्षा

दुर्गादेवी रा.उ.मा.वि. मालाखेड़ा बाइपास परीक्षा केन्द्र पर एक एेसे अभ्यर्थी को पकड़ा है तो असली अभ्यर्थी की जगह परीक्षा दे रहा था। जिला प्रशासन को इस तरह नकली परीक्षार्थी केन्द्र में परीक्षा देने की सूचना मिली थी, जिसकी जांच करने अतिरिक्त जिला कलक्टर प्रथम राकेश कुमार भी गए। मौके पर जब परीक्षार्थी से हस्ताक्षर कराए गए तो वह हड़बड़ा गया। हस्ताक्षर हुबहू नहीं कर सका। कुछ मिनट बाद उसने खुद ने ही कबूल लिया कि वह दूसरे की जगह परीक्षा देने आया है। जब उससे पता पूछा तो नहीं बताया। काफी देर तक टालमटोल करता रहा। आखिर में उसने खुद का पता उत्सव पुत्र उपेन्द्र शर्मा निवासी सुन्दरपुर बिहार बताया।

ये सवाल, जिनके उत्तर पुलिस ढूंढ़ेगी

ब्लू्रटूथ से नकल करने वाले को प्रश्नों के उत्तर कौन बता रहा था? यह कोई गिरोह है या नहीं। सामान्य व्यक्ति इस तरह का दुस्साहस नहीं कर सकता।
नकली परीक्षार्थी बिहार का है। बिहार से अलवर तक लाने में कोई गिरोह काम कर रहा है या नहीं। सबको अंदेशा है कि यह गिरोह है। जिसकी जांच भी पुलिस करेगी।
गिरोह मिलता है तो कितने और केन्द्रों पर भी एेसे परीक्षार्थी हो सकते हैं, जो पकड़ में नहीं आए। परीक्षा में नकल करने या दूसरा परीक्षार्थी के आने वालों की जांच से ही इसका खुलासा हो सकेगा।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned