खैरथल किराना व्यापारी हत्याकांड में पुलिस के साथ हो रहा कुछ ऐसा...

Prem Pathak

Publish: Mar, 14 2018 12:37:00 PM (IST)

Alwar, Rajasthan, India
खैरथल किराना व्यापारी हत्याकांड में पुलिस के साथ हो रहा कुछ ऐसा...

अलवर के खैरथल में व्यापारी की हत्या के मामले में पुलिस असमंजस में है। पुलिस को आरोपियों को पहचानने में दिक्कत आ रही है।

अलवर. खैरथल व्यापारी हत्याकांड के खुलासे को लेकर उत्साहित पुलिस की उम्मीद बार-बार जाग व टूट रही है। जैसे ही पुलिस की टीमें किसी बदमाश को पकड़ कर लाती है, हत्याकांड के खुलासे को लेकर पुलिस की उम्मीद जाग उठती है। बाद में उसका हत्याकांड में हाथ नहीं निकलने पर पुलिस की उम्मीद टूट जाती है। खैरथल में व्यापारी की हत्या के बाद ऐसा पुलिस के साथ कई बार हो चुका है। हत्या के खुलासे के लिए पुलिस ने 12 टीमें गठित कर अलग-अलग स्थानों पर भेजी। इन टीमों ने दिनरात मेहनत कर कई संदिग्धों को कब्जे में भी लिया। बाद में जब संदिग्धों से गहनता से पूछताछ की गई तो उनका हत्याकांड में कोई हाथ नहीं निकला।
सूत्रों की मानें तो पुलिस मामले में अब तक दो दर्जन से ज्यादा संदिग्धों से पूछताछ कर चुकी है। कई शातिर बदमाशों को दूसरे जिले व राज्यों से भी लाया गया, लेकिन अब तक पुलिस के हाथ खाली बने हुए है।

पहचान में आ रही दिक्कत

किराना व्यापारी हत्याकांड में पुलिस को सबसे अधिक दिक्कत बदमाशों की पहचान में आ रही है। दरअसल, व्यापारी की हत्या के दौरान बदमाशों के मुंह कपड़े से ढके हुए थे। ऐसे में उनकी पहचान पुलिस के लिए मुश्किल बनी हुई है। सच्चाई ये है कि मामले में पुलिस अब तक अंधेरे में तीर चला रही है। रात्रि के चलते पुलिस को बदमाशों की कदकाठी का भी ठीक से अंदाज नहीं लग रहा है।

कभी लोकल तो कभी बाहरी बदमाशों पर शक

मामले में पुलिस कभी लोकल बदमाशों का हाथ मान रही है तो कभी उसकी जांच बाहरी बदमाशों पर जा टिकती है। मामले के खुलासे के लिए पुलिस ने क्षेत्र के कई लोकल बदमाशों से भी पूछताछ की, लेकिन सफलता नहीं मिली। रविवार को पुलिस दूसरे जिलों से भी कुछ बदमाशों को पकड़ कर लाई। उनसे भी पूछताछ में कोई नतीजा नहीं निकला। खैर जो भी रहा हो। पुलिस अधिकारियों को उम्मीद है कि जल्द ही मामले का खुलासा हो जाएगा और आरोपित सलाखों के पीछे होंगे।

डाउनलोड करें पत्रिका मोबाइल Android App: https://goo.gl/jVBuzO | iOS App : https://goo.gl/Fh6jyB

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned