राजस्थान में यहां सुप्रीम कोर्ट के आदेश बेअसर, एनसीआर क्षेत्र में ईंट-भट्टों पर लगा रखी है रोक, लेकिन भट्टे उगल रहे हैं धुंआ

सुप्रीम कोर्ट ने एनसीआर में प्रदूषण को लेकर ईंट-भट्टों को बंद रखने का आदेश दिया है, लेकिन इसकी खुलेआम अवहेलना की जा रही है।

अलवर. दिल्ली एनसीआर में प्रदूषण को लेकर सुप्रीम कोर्ट काफी सख्त नजर आ रहा है। वहीं सुप्रीम कोर्ट के आदेश है कि दिल्ली एनसीआर में ईंट-भट्टे 18 दिसंबर तक बंद रखने के कड़े निर्देश हैं, लेकिन अलवर जिले में खुलेआम अवहेलना हो रही है। अलवर जिले के बहरोड़ कुण्ड सड़क मार्ग पर संचालित अनेक ईंट-भट्टे जहरीली धुंआ उगल रहे हंै।
बढ़ते प्रदूषण के चलते सुप्रीम कोर्ट ने 18 दिसंबर तक सभी ईंट-भट्टे बंद रखने के निर्देश दे रखे हैं। सुप्रीम कोर्ट ने निर्देश दिए थे कि यदि कोई ईंट-भट्टा संचालक 18 दिसंबर से पहले ईंट-भट्टे चलाता है तो प्रशासन उसके खिलाफ कार्रवाई करे, लेकिन माजरीकलां से मांढ़ण सड़क मार्ग पर कुछ ईंट-भट्टे धड़ल्ले से चल रहे हंै जिससे प्रदूषण हो रहा है।

जानकारी के अनुसार ईंट-भट्टे संचालक रात्रि व सुबह में ईंट-भट्टे चलाकर चिमनियों से काली जहरीला धुंआ उगला रहे हैं। नीमराणा उपखंड अधिकारी व नीमराणा तहसीलदार सहित प्रदूषण विभाग के अधिकारी कोई कार्रवाई नहीं कर रहे हंै । ग्रामीणों की मांग है कि प्रसाशन ईट भट्टो को बंद करवाए।

Lubhavan
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned