राजस्थान में बिजली का बिल लोगों की जेब पर मार रहा झटका, अधिक बिल से घरों का बजट बिगड़ा

राजस्थान में अधिक बिजली के बिल का आम आदमी की जेब पर असर पड़ रहा है, अधिक दरों से आम आदमी का बजट बिगड़ गया है

By: Lubhavan

Published: 16 Sep 2020, 02:02 PM IST

अलवर. बिजली की दरें इतनी ज्यादा हो गई है आम आदमी अपने खर्चों में कटौती के बाद भी बिल के लिए राशि का इंतजाम नहीं कर पा रहा है। कोरोना के इस दौर में जब हर तरफ आर्थिक मंदी छाई हुई है । बिजली का बिल भरना आम आदमी के लिए सबसे बड़ी परेशानी बन गया है। सबसे खास बात यह है कि बिजली की यूनिट की कीमत बढऩे से जो बिल 2 महीने में आता था वह अब एक महीने में आ रहा है। इन दिनों घरेलू हो या व्यवसाय या फिर खेती हर किसान सब कोई बिजली के बिलों से परेशान है। लेकिन सरकार को लोगों की समस्या नजर नहीं आ रही बिजली के बिलों में रियायत देने के बजाय यूनिट को बढ़ाकर आम आदमी पर बोझ डाला जा रहा है।

स्थानीय लोगों से बातचीत

कोरोना के समय में कांग्रेस सरकार को बिजली के बिलों में सब्सिडी देनी चाहिए थी। बिजली के बिलों पर लगाए गए अलग-अलग चार्ज को हटाना चाहिए जिससे बिल की राशि कम हो जाएगी लोगों को राहत मिलेगी।

-कपिल शर्मा, प्राइवेट कर्मी

इस समय बिजली के बिल भरना सबसे बड़ी मुसीबत बन गया है। सरकार ने लोगों को राहत देने के बजाय परेशानी में डाल दिया है। रसोई का 1 महीने का बजट इतना नहीं है जितना कि बिजली का बिल होता है। इन दिनों बच्चों की फीस भरना भी जरूरी है। सब बेरोजगार हो गए हैं बिलों के लिए पैसा कहां से लाएं।
-किरण देवी

इस समय ज्यादातर लोगों के काम धंधे छूट गए हैं। लोग एक-एक पैसे के मोहताज हो गए हैं।
ऐसे हालात में सरकार को बिजली के बिल माफ करने चाहिए थे, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। पहले 1 महीने में बिल भरना होता था अब हर महीने भरना पड़ रहा है। सरकार को आम आदमी की परेशानी नजर नहीं आ रही।

-रामप्यारी मुखीजा

इस समय हर आदमी परेशान है। निजी क्षेत्र में कोरोना काल में लोग काम पर नहीं जा सके ऐसे में बहुत से लोगों की तनख्वाह नहीं मिली। इनके लिए 1 महीने का बिल भरना मुसीबत है। बिजली का बिल हजारों में आ रहा है। घर के खर्च चलाएं या बिजली का बिल भरें। मजबूरी में उधार लेना पड़ रहा है।
-जय प्रकाश शर्मा

Lubhavan Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned