राजस्थान के लाखों बेरोजगार युवाओं को REET का इंतजार, राजस्थान बेरोजगार एकीकृत महासंघ ने की यह मांग

प्रदेश के 11 लाख से ज्यादा बेरोजगार असमंजस की स्थिति में है, युवाओं को रीट भर्ती होने का इंतजार है ।

By: Lubhavan

Published: 07 Jun 2020, 12:58 PM IST

अलवर. REET 2020: रीट को लेकर राजस्थान के युवाओं में असमंजस बरकरार है, युवाओं का कहना है कि ना रीट की विज्ञप्ति जारी हुई और ना रीट लेवल 2 का पैटर्न जारी हुआ है जिससे युवाओं में असमंजस बना हुआ है।24 दिसंबर 2019 को मुख्यमंत्री ने 31000 पदों पर तृतीय श्रेणी शिक्षक भर्ती 2 अगस्त 2020 को रीट के माध्यम से करवानी की घोषणा थी लेकिन 5 महीने 13 दिन बीत जाने के बावजूद भी सरकार की तरफ से ना तो रीट की विज्ञप्ति जारी हो पाई है और ना ही रीट लेवल 2 का पैटर्न जारी हो पाया। ऐसे में प्रदेश के 11 लाख से ज्यादा बेरोजगार असमंजस की स्थिति में है।

राजस्थान बेरोजगार एकीकृत महासंघ लगातार सरकार से मांग कर रहा है कि रीट शिक्षक भर्ती 2020 की विज्ञप्ति और लेवल 2 का पैटर्न जल्द से जल्द जारी किया जाए जिससे बेरोजगार अपनी तैयारी अच्छे से जारी रख सके।

पहले बना था राजनीति मुद्दा

कांगेस के प्रदेश महासचिव सुशील शर्मा ने रीट 2018 में चयनित 26000 बेरोजगार अभ्यर्थियों की नियुक्ति प्रक्रिया रोकने को लेकर चुनाव आयोग को लिखा था पत्र तब भाजपा सरकार ने रीट शिक्षक भर्ती 2018 के चयनित 26000 अभ्यर्थियों की नियुक्ति अटकाने का आरोप कांग्रेस पार्टी पर लगाया था।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह, पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे, पूर्व भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सहित कई भाजपा के राष्ट्रीय नेताओं ने रीट को लेकर कांग्रेस की घेराबंदी की थी और उस समय कांग्रेस पार्टी बैकफुट पर आ गई थी और उसी समय कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष सचिन पायलट ने राजस्थान बेरोजगार एकीकृत महासंघ प्रदेश अध्यक्ष उपेन यादव को लिखित में लैटर दिया था और सरकार बनते ही रीट की विसंगतियों को दूर करने और रीट के अभ्यर्थियों को जल्द से जल्द नियुक्ति देने का आश्वासन दिया था।

इसके बाद राजस्थान बेरोजगार एकीकृत महासंघ ने कांग्रेस को समर्थन देकर रीट विवाद में कांग्रेस को मजबूती प्रदान की थी और वहीं कांग्रेस पार्टी ने अपने घोषणा पत्र में डाला था कि कांग्रेस सरकार आते ही प्राथमिकता के साथ रीट की सभी विसंगतियों को दूर करके जल्द से जल्द रीट के माध्यम से बेरोजगारों को नियुक्ति दी जाएगी लेकिन 5 माह 13 दिन बीत जाने के बाद भी ना तो रीट की विसंगतियां दूर हो पाई है और ना ही विज्ञप्ति जारी हो पाई है।ऐसे में प्रदेश के बेरोजगारों में रोष बढ़ता जा रहा है।

राजस्थान बेरोजगार एकीकृत महासंघ ने मांग की है कॉमर्स के विद्यार्थियों को रीट में शामिल किया जाए।
राजस्थान बेरोजगार एकीकृत महासंघ के प्रदेश प्रवक्ता उपेन यादव का कहना है कि कांग्रेस के घोषणा पत्र में भी डाला गया था रीट की सभी विसंगतियां दूर की जाएंगी इसलिए सरकार से मांग है। ऐसे में सभी विसंगतियां दूर करते हुए जल्द से जल्द रीट 2020 की विज्ञप्ति रीट लेवल 2 का पैटर्न जारी किया जाए जिससे 11 लाख बेरोजगारों का इंतजार खत्म हो सके।

Lubhavan Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned