अलवर. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सर संघचालक मोहन भागवत बुधवार को तिजारा के गहनकर गांव में 123 साल के बाबा कमलनाथ के आश्रम पहुंचे। यहां सबसे पहले उन्होंने बाबा कमलनाथ का आर्शीवाद लिया। इसके बाद उनका संघ कार्यकर्ताओं से परिचय कराया गया। संघ प्रमुख मोहन भागवत ने अपने संक्षिप्त संबोधन में कहा कि वे यहां केवल बाबा कमलनाथ से मिलने के लिए पहुंचे हैं। मोहन भागवत ने कहा कि आपके क्षेत्र का सौभाग्य है कि यहां बाबा कमलनाथ जैसे महात्मा मौजूद हैं, आपको उनका लाभ उठाना चाहिए, अगर संत-महात्माओं के अनुभव का लाभ नहीं उठाया तो समझो चूक गए। भागवत ने कहा कि देश में अब ऐसे साधु-महात्मा कम ही बचे हैं। ऐसे संत हजारों साल पहले होते थे, वो आपके क्षेत्र में आज भी है।
इस मौके पर बाबा कमलनाथ ने कहा कि वे आश्रम पर लंबे समय से कैंसर पीडि़त लोगों का इलाज कर रहे हैं। इसमें उपयोग आने वाली जड़ी-बूटियां बाहर से मंगानी पड़ती है, दवाइयां उपलब्ध कराने में संघ के कार्यकर्ताओं का सहयोग रहता है। बाबा कमलनाथ ने अपने संबोधन में देश और समाज की स्थिति पर भी चिंतन किया। इसके बाद संघ प्रमुख मोहन भागवत और बाबा कमलनाथ के बीच करीब 10 मिनट तक एकांत में विशेष बातचीत भी हुई। आश्रम के निकलकर वे सीधे बहरोड़ पहुंचे जहां

जनता की सेवा करना ही हमारा काम-बाबा कमलनाथ

मोहन भागवत से मुलाकात के बाद पत्रिका से बातचीत में बाबा कमलनाथ ने कहा कि जनता की सेवा करना हमारा काम है। संघ के कार्यकर्ता इसमें हमारा सहयोग करते हैं। इसी क्रम में मोहन भागवत से मुलाकात हुई। बाबा कमलनाथ ने बताया कि वे प्रतिदिन सुबह 4 बजे उठ जाते हैं। शिष्यों के सहयोग से ही वे नित्य कार्य कर पाते हैं। आश्रम में दिनभर इलाज का सिलसिला जारी रहता है और वे भगवान का नाम जपते हैं।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned