अलवर के हल्दीना में खुलेगा प्रदेश का तीसरा सैनिक स्कूल, राज्य सरकार ने भूमि आवंटन को दी मंजूरी

अलवर में सैनिक स्कूल की भूमि आवंटन के लिए मंजूरी मिल गई है। प्रदेश में चित्तौड़गढ़ और झुंझनू के बाद यह तीसरा सैनिक स्कूल होगा।

By: Lubhavan

Published: 21 Jan 2021, 06:41 PM IST

अलवर. अलवर के लिए अच्छी खबर है। लम्बे समय से सैनिक स्कूल का इंतजार कर रहे अलवर जिले में आख़िरकार सैनिक स्कूल पर मुहर लग गई। राज्य सरकार ने गुरुवार को अलवर जिले के मालाखेड़ा के समीप हल्दीना में सैनिक स्कूल के लिए निशुल्क जमीन आवंटन करने के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है। चित्तौड़गढ़ और झुंझुनू के बाद यह प्रदेश का तीसरा सैनिक स्कूल होगा।

राजस्व विभाग के नक्शे में जून 2015 में जिला कलक्टर की ओर से 23.59 हेक्टेयर भूमि चिन्हित की गई थी। इससे पूर्व राज्य सरकार ने अक्टूबर 2013 में भारत सरकार के रक्षा मंत्रालय के साथ सैनिक स्कूल स्थापित करने के लिए एक सहमति-पत्र हस्ताक्षरित किया था। लेकिन बीच में यह प्रस्ताव अटका रहा, अब एक बार फिर से गहलोत सरकार ने इसकी भूमि आवंटन के लिए मंजूरी दे दी है।

कीमत 8 करोड़ 41 लाख

राज्य सरकार के वित्त विभाग ने प्रस्ताव का अनुमोदन कर दिया जिसके कीमत 8 करोड़ 41 लाख रूपए है। पूर्व में यह सैनिक स्कूल केंद्र और राज्य सरकार के बीच समन्यवय नहीं होने के कारण अटका रहा, लेकिन अब जमीन आवंटन के बाद फिर से सैनिक स्कूल की राह खुल गई है।

मंत्री जूली ने मुख्यमंत्री गहलोत का आभार जताया

श्रम राज्य मंत्री टीकाराम जूली ने गुरुवार को हल्दीना में स्थापित होने वाले सैनिक स्कूल के लिए नि:शुल्क भूमि आवंटन के प्रस्ताव को मंजूरी मिलने पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का आभार व्यक्त किया। श्रम राज्य मंत्री टीकाराम जूली ने कहा कि पूर्व केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह के अथक प्रयासों से अलवर के विकास को पंख लगाने के उद्देश्य से किए गए कार्य अब रंग ला रहे है। दो दिन पूर्व ही जिले में ईएसआईसी हॉस्पिटल के शुरू होने को मंजूरी मिली और अब अलवर जिले सैनिक स्कूल जल्द ही स्थापित होगा।श्रम राज्य मंत्री ने कहा कि अलवर जिले के युवाओं में सेना के प्रति विशेष रुझान है। जिले में बड़ी संख्या में सैनिक भी रहते है इसलिए यहां के युवाओं में सेना के प्रति जज्बा है जिसके देखते हुए पूर्व केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह के प्रयास से जिले में सैनिक स्कूल स्वीकृत कराया गया था।

Lubhavan Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned