scriptSale of firecrackers in secret in alwar | गुपचुप तरीके से हो रही पटाखों की बिक्री, अलवर शहर में जल रहा कचरा फैला रहा प्रदूषण | Patrika News

गुपचुप तरीके से हो रही पटाखों की बिक्री, अलवर शहर में जल रहा कचरा फैला रहा प्रदूषण

सुप्रीम कोर्ट के आदेशों के बाद ईंट-भट्टे तो बंद हो गए, लेकिन औद्योगिक इकाइयों की चिमनियों का धुंआ उगलना कम नहीं हुआ है।

अलवर

Published: October 18, 2017 07:14:40 am

अलवर.

दिल्ली सहित एनसीआर क्षेत्र में बढ़ते प्रदूषण में कमी के लिए एनसीआर क्षेत्र में पटाखों की बिक्री पर तो रोक लगा दी, लेकिन अब भी अलवर सहित एनसीआर में पटाखों की धड़ल्ले से बिक्री हो रही है। वहीं, दूसरी ओर नेशनल ट्रिब्यूनल के आदेशों के बावजूद सड़क किनारे कचरा जलाया जा रहा है। सुप्रीम कोर्ट के आदेशों के बाद ईंट-भट्टे तो बंद हो गए, लेकिन औद्योगिक इकाइयों की चिमनियों का धुंआ उगलना कम नहीं हुआ है।
Sale of firecrackers in secret in alwar
Sale of firecrackers in secret in alwar
 

सुप्रीम कोर्ट की 31 अक्टूबर तक एनसीआर क्षेत्र में पटाखों की बिक्री पर रोक के बावजूद अलवर जिले में बड़े पैमाने पर पटाखों की बिक्री हो रही है। दरअसल, ज्यादातर पटाखा विक्रेताओं ने रोक से पहले ही आतिशबाजी की खरीद कर ली। अब बिक्री पर प्रतिबंध के बाद वे गुपचुप तरीके से पटाखे बेच रहे हैं। वही, कुछ विके्रताओं ने अपने पटाखों को एनसीआर से बाहर दूसरे जिलों में भेजना शुरू कर दिया है।
 

अलवर की बात करें तो शहर में रोक के बावजूद अब भी पटाखे बिक रहे हैं। वहीं, बाजार में बिक्री के लिए चायनीज पटाखे भी आए हैं, जिनका बिक्री भी जोरों पर है। उधर, पटाखा विक्रेताओं की मानें तो दीपावली पर बिक्री के लिए वे लाखों रुपए के पटाखों की खरीद कर चुके हैं। अब एकाएक सरकार ने अस्थायी लाइसेंसों को निरस्त कर पटाखों की बिक्री पर प्रतिबंध लगा दिया। ऐसे में उनके पटाखे गोदामों में धरे रह गए।
 

बिक्री का बदला ट्रेंड

पटाखों की बिक्री पर रोक के बाद पटाखा विक्रेताओं ने इनकी बिक्री का ट्रेंड बदल दिया है। अब वे दुकान-दुकान पटाखे बेचने की जगह होम डिलीवरी सर्विस देने लगे हैं। वे एसएमएस से पटाखों का आर्डर ले रहे हैं और उन्हें आकर्षक पैक कर लोगों के घरों तक पहुंचा रहे हैं।
 

कचरा पात्रों में जल रहा कचरा

नेशनल ग्रीन ट्रीब्यूनल के आदेशों के बावजूद अलवर शहर में कचरा जलाया जा रहा है। कचरा पात्रों में भी कचरा जल रहा है और बाहर सड़क पर भी। जबकि एनजीटी के साफ आदेश हैं कि कचरा किसी भी कीमत पर जलाया नहीं जा सकता। प्रदूषण को लेकर सुप्रीम कोर्ट हाल में एनसीआर में पटाखों की बिक्री पर भी रोक लगाई है। जबकि अलवर जिला पूरा एनसीआर में होने के बावजूद यहां कचरा खुले आम जल रहा है। प्रशासन का इस ओर ध्यान नही है।
 

नए कचरा पात्र लगाए, उनमें भी जल रहा

नगर परिषद ने हाल में नए कचरा पात्र लगाए हैं। उनमें पड़े कचरे को भी जलाया जा रहा है। एेसा इसलिए हो रहा है कि कचरा समय नहीं उठ रहा। पड़ा-पड़ा सड़कर सूख जाता है। उसके बाद कभी गलती से तो कभी लोग परेशान होकर कचरे को जला देते हैं, जिसकी शिकायतें भी खूब नगर परिषद प्रशासन के पहुंचती हैं।
 

पुलिस ने मुखबिर तंत्र किया मजबूत

जिले में पटाखों की बिक्री रोकने के लिए पुलिस व प्रशासन अलर्ट हो गया है। इसके लिए पुलिस ने अपने मुखबिर तंत्र को भी मजबूत किया है। सभी थाना प्रभारियों एवं पुलिसकर्मियों को अपने-अपने क्षेत्र में पटाखों की बिक्री पर नजर रखने के निर्देश दिए गए हैं। पुलिस शहर सहित जिले में पटाखा विके्रताओं की सूची भी बना रही है।
 

पटाखों के बिना फीकी रहेगी दिवाली

उधर, पटाखों पर रोक से इस बार दीपावली की रौनक फीकी रह सकती है। लोगों को इस बार पटाखों का शोर सुनने को नहीं मिलेगा। लोगों के अनुसार दीपावली पर पटाखे फोडऩे का सबसे ज्यादा के्रज बच्चों में रहता था, लेकिन इस बार पटाखों पर रोक से बच्चों को मायूस रहना पड़ेगा।
 

परिषद के खुद के आदेश

सुप्रीम कोर्ट के पटाखों को लेकर आए आदेश के बाद अलवर नगर परिषद प्रशासन ने भी पटाखे व कचरा जलाने पर पूरी तह रोक लगाने के आदेश जारी किए हैं। इसके बावूजद शहर में कचरा खुले आम जल रहा है। एक नहीं अनेक जगहों पर एेसा देखने को मिलता है। दो दिन पहले बरफ खाना रोड पर कचरा पात्र में ही कचरा जल रहा था। रविवार को अल्कापुरी के पास कचरा जलता रहा। अम्बेडकर नगर रोड पर आए दिन कचरा जलता है। यह सब प्रशासने के सामने होने के बावजूद कोई ठोस कार्रवाई और परिणाम सामने नहीं आते हैं। जबकि कई बार लोक अदालत ने भी नगर परिषद को फटकार लगाई है।
 

सुप्रीम कोर्ट की पटाखों पर रोक के आदेशों की पालना कराई जाएगी। इसके लिए सभी थाना प्रभारियों को निर्देश दिए गए हैं।
राहुल प्रकाश, जिला पुलिस अधीक्षक अलवर

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

ज्योतिष: ऊंची किस्मत लेकर जन्मी होती हैं इन नाम की लड़कियां, लाइफ में खूब कमाती हैं पैसाशनि देव जल्द कर्क, वृश्चिक और मीन वालों को देने वाले हैं बड़ी राहत, ये है वजहताजमहल बनाने वाले कारीगर के वंशज ने खोले कई राजपापी ग्रह राहु 2023 तक 3 राशियों पर रहेगा मेहरबान, हर काम में मिलेगी सफलताजून का महीना इन 4 राशि वालों के लिए हो सकता है शानदार, ग्रह-नक्षत्रों का खूब मिलेगा साथJaya Kishori: शादी को लेकर जया किशोरी को इस बात का है डर, रखी है ये शर्तखुशखबरी: LPG घरेलू गैस सिलेंडर का रेट कम करने का फैसला, जानें कितनी मिलेगी राहतनोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेर

बड़ी खबरें

IPL 2022: टिम डेविड की तूफानी पारी, मुंबई ने दिल्ली को 5 विकेट से हराया, RCB प्लेऑफ मेंपेट्रोल-डीज़ल होगा सस्ता, गैस सिलेंडर पर भी मिलेगी सब्सिडी, केंद्र सरकार ने किया बड़ा ऐलान'हमारे लिए हमेशा लोग पहले होते हैं', पेट्रोल-डीजल की कीमतों में कटौती पर पीएम मोदीArchery World Cup: भारतीय कंपाउंड टीम ने जीता गोल्ड मेडल, फ्रांस को हरा लगातार दूसरी बार बने चैम्पियनआय से अधिक संपत्ति मामले में ओम प्रकाश चौटाला दोषी करार, 26 मई को सजा पर होगी बहसऑस्ट्रेलिया के चुनावों में प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन हारे, एंथनी अल्बनीज होंगे नए PM, जानें कौन हैं येगुजरात में BJP को बड़ा झटका, कांग्रेस व आदिवासियों के लगातार विरोध के बाद पार-तापी नर्मदा रिवर लिंक प्रोजेक्ट रद्दजापान में होगा तीसरा क्वाड समिट, 23-24 मई को PM मोदी का जापान दौरा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.