सरिस्का का राजा बाघ एसटी- 6 एक साल से एनक्लोजर में कैद

सरिस्का टाइगर रिजर्व पर लंबे समय तक राज कर चुके बाघ एसटी-6 खराब स्वास्थ्य के चलते आखिरी पड़ाव पर एनक्लोजर में जीवन गुजारने को मजबूर है। ढलती उम्र एवं पूछ में घाव के बाद खराब स्वास्थ्य के चलते बाघ एसटी- 6 को करीब एक साल पहले सरिस्का के एनक्लोजर में लाया गया था, तभी से यह बाघ वहीं डॉक्टर का इलाज व कैटल का भोजन लेकर जीवन गुजार रहा है।

By: Prem Pathak

Published: 14 Oct 2021, 12:44 AM IST

अलवर. सरिस्का टाइगर रिजर्व पर लंबे समय तक राज कर चुके बाघ एसटी-6 खराब स्वास्थ्य के चलते आखिरी पड़ाव पर एनक्लोजर में जीवन गुजारने को मजबूर है। ढलती उम्र एवं पूछ में घाव के बाद खराब स्वास्थ्य के चलते बाघ एसटी- 6 को करीब एक साल पहले सरिस्का के एनक्लोजर में लाया गया था, तभी से यह बाघ वहीं डॉक्टर का इलाज व कैटल का भोजन लेकर जीवन गुजार रहा है।

शुरू से ही हमलावर प्रकृति का रहा बाघ एसटी-6 की युवा अवस्था में रणथंभौर से निकलकर मथुरा, धौलपुर व भरतपुर तक सैर कर चुका है। वहीं रणथंभौर में वन अधिकारी समेत कई लोगों को हमले में घायल भी कर चुका है। इतना ही नहीं सरिस्का में टैरिटरी को लेकर हुए संघर्ष में बाघ एसटी-4 को गंभीर घायल कर चुका है। संघर्ष में घायल होने के बाद बाघ एसटी-4 की मौत हो गई। वहीं टैरिटरी के संघर्ष में बाघ एसटी-15 को भी टहला रेंज में खदेड़ चुका है। इसके अलावा भी कई अन्य बाघों को भी वापस लौटने को मजबूर कर चुका है।

पूंछ में घाव होने एवं कीड़े लग जाने के बाद बाघ एसटी-6 का इलाज कर गत वर्ष अक्टूबर-नवम्बर में सरिस्का के एनक्लोजर में छोड़ा गया था, तभी से यह बाघ वहीं है। पूंछ में घाव कुछ ठीक हुआ तो उसके पैरों में चोट लग गई। पशु चिकित्सक बाघ का एनक्लोजर में ही इलाज कर रहे हैं। बाघ की उम्र 15 साल से अधिक हो चुकी है।

वनकर्मी रखते हैं नजर

एनक्लोजर में बंद बाघ एसटी-6 पर मॉनिटरिंग टीम में शामिल वनकर्मी नजर रखते हैं तथा भोजन के लिए आवश्यकता अनुसार कैटल की व्यवस्था की जाती है। साथ ही डॉक्टरों की टीम भी हर 15 दिन में उसके स्वास्थ्य की जांच करती है।

हर 15 दिन में होती है जांच

बाघ एसटी- 6 सरिस्का का सबसे उम्रदराज बाघ है। बाघ की पूंछ के ऊपरी हिस्से पर जख्म हो गया था। इसका पता अक्टूबर 2020 में लगा था। डॉक्टरों ने बाघ का इलाज किया, लेकिन सुधार नहीं हुआ। बाद में 8 नवंबर 2020 को बाघ को बेहोश कर घाव की ड्रेसिंग की। उस समय घाव में कीड़े पड़ गए थे। इसके बाघ को सरिस्का में बने एनक्लोजर में है। डॉक्टरों की टीम 15 दिनों में बाघ की जांच पड़ताल करती है।

बाघ एसटी- 6 का एनक्लोजर में इलाज जारी

बाघ एसटी-6 का एनक्लोजर में इलाज जारी है। बाघ को आवश्यकता अनुसार भोजन व पानी की व्यवस्था की गई है तथा मॉनिटरिंग टीम उस पर नजर रखती है। बाघ की उम्र करीब 15 साल है और अभी ठीक है।

सुदर्शन शर्मा

डीएफओ, सरिस्का बाघ परियोजना

Prem Pathak Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned