scriptsariska letest news | सरिस्का के जंगल में आग ही नहीं, अवैध निर्माण की आ रही बाढ़ | Patrika News

सरिस्का के जंगल में आग ही नहीं, अवैध निर्माण की आ रही बाढ़

सरिस्का बाघ परियोजना इन दिनों जंगल में लग रही आग के चलते ही देश भर में सुर्खियों में नहीं है, बल्कि यहां कोर एरिया में बिना रोक टोक हो रहे बेशुमार अवैध निर्माण कार्यां से भी यह प्रदेश भर में चर्चा में बना हुआ है।

अलवर

Published: April 03, 2022 11:59:35 pm

अलवर. सरिस्का बाघ परियोजना इन दिनों जंगल में लग रही आग के चलते ही देश भर में सुर्खियों में नहीं है, बल्कि यहां कोर एरिया में बिना रोक टोक हो रहे बेशुमार अवैध निर्माण कार्यां से भी यह प्रदेश भर में चर्चा में बना हुआ है।
सरिस्का के जंगल में आग ही नहीं, अवैध निर्माण की आ रही बाढ़
सरिस्का के जंगल में आग ही नहीं, अवैध निर्माण की आ रही बाढ़
वन क्षेत्र में जरूरी कार्यां पर पाबंदी, अवैध निर्माण को खुली छूट

सरिस्का के कोर एरिया में निर्माण कार्यों पर पाबंदी है। इस कारण नटनी का बारा से सरिस्का तक व्यावसायिक निर्माण कार्यों पर रोक है, इसके बाद भी नटनी का बारां से कुशालगढ़ तक अवैध निर्माण की बाढ़ आई हुई है। सरिस्का के आसपास ज्यादातर वन क्षेत्र हैं, यहां व्यावसायिक गतिविधियों पर पाबंदी है, लेकिन सरकारी नियमों का ऐसा पेच कि धड़ाधड़ होटलों का निर्माण होता गया।
नियमों का पेच यह

राज्य सरकार के नियमानुसार वर्ष 2015 से पहले निर्मित होटल पर पाबंदी नहीं थी। वहीं 2016 से 20 तक सरिस्का की पैराफेरी के जीरो किलोमीटर में होटल निर्माण की छूट रही। वर्ष 2020 से अब एक किलोमीटर दूरी पर होटल निर्माण का नियम है। इन नियमों के चलते वन अधिकारी व्यावसायिक गतिविधियों के संचालन पर रोक लगाने में असहाय महसूस करते हैं।
पैराफेरी में भी चल रही व्यावसायिक गतिविधियां

सरिस्का की पैराफेरी में व्यावसायिक गतिविधियों का संचालन हो रहा है। अलवर- सरिस्का मार्ग पर सिलीसेढ़ के समीप से ही सरिस्का क्षेत्र शुरू होता है, लेकिन यहां बड़ी संख्या में व्यावसायिक गतिविधियों का संचालन हो रहा है। इस मार्ग पर सरिस्का तक कई होटल बन चुके हैं और कई स्थानों पर निर्माण कार्य जारी है। वहीं सिलीसेढ़ क्षेत्र में भी होटल व व्यावसायिक गतिविधियां संचालित हो रही हैं। इसक अलावा टहला के आसपास का क्षेत्र भी सरिस्का में शामिल है, लेकिन टहला के आसपास बड़ी संख्या में होटल का निर्माण हो गया।
वन क्षेत्र में व्यावसायिक गतिविधियों का यह नुकसान

वन क्षेत्र में व्यावसायिक गतिविधियों के संचालन का वन्यजीवों पर विपरीत प्रभाव पड़ता है। होटल एवं अन्य व्यावसायिक गतिविधियों के चलते वन क्षेत्र में मानवीय दखल बढ़ता है, जिससे बाघ एवं अन्य वन्यजीव जंगल से दूर चले जाते हैं। ऐसे में कई बार बाघ एवं अन्य वन्यजीव सरिस्का क्षेत्र से बाहर निकल कर आबादी क्षेत्र में पहुंच जाते हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather. राजस्थान में आज 18 जिलों में होगी बरसात, येलो अलर्ट जारीसंस्कारी बहू साबित होती हैं इन राशियों की लड़कियां, ससुराल वालों का तुरंत जीत लेती हैं दिलशुक्र ग्रह जल्द मिथुन राशि में करेगा प्रवेश, इन राशि वालों का चमकेगा करियरउदयपुर से निकले कन्हैया के हत्या आरोपी तो प्रशासन ने शहर को दी ये खुश खबरी... झूम उठी झीलों की नगरीजयपुर संभाग के तीन जिलों मे बंद रहेगा इंटरनेट, यहां हुआ शुरूज्योतिष: धन और करियर की हर समस्या को दूर कर सकते हैं रोटी के ये 4 आसान उपायछात्र बनकर कक्षा में बैठ गए कलक्टर, शिक्षक से कहा- अब आप मुझे कोई भी एक विषय पढ़ाइएUdaipur Murder: जयपुर में एक लाख से ज्यादा हिन्दू करेंगे प्रदर्शन, यह रहेगा जुलूस का रूट

बड़ी खबरें

'मैं उन्हें गोली मारने को भी तैयार',पीसी जॉर्ज की पत्नी ने CM विजयन को दी खुलेआम धमकीAmravati Murder Case: उमेश कोल्हे की हत्या को पहले डकैती का एंगल दिया गया, इसकी जांच करवाएंगे- डिप्टी सीएमपंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान सोमवार को मंत्रिमंडल का करेंगे विस्तार, कई नए मंत्री ले सकते हैं शपथAmravati Murder Case: उमेश कोल्हे की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट आई सामने- गर्दन पर चाकू का गहरा घाव, दिमाग व आखं की नस और खाने की नली डैमेजIND vs ENG: Jonny Bairstow ने भारत के खिलाफ जड़ा तूफानी शतक, बनाए कई महत्वपूर्ण रिकॉर्ड्सराजधानी में आधे दिन तक ही रहा प्रदेश बंद का असर, यात्रियों को हुई असुविधा, तो कहीं राशन के लिए भटके लोगMaharashtra: आरटीआई एक्ट का गलत फायदा उठाकर रंगदारी वसूलने के आरोप में 23 गिरफ्तार, पुलिस ने खोले बड़े राजसड़क पर उतरे लोग, बोले-हत्यारों को फांसी दो
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.