करगिल युद्ध में पराक्रम दिखाते हुए पाक बंकर पर अकेले टूट पड़े सत्यवीर सिंह, कई पाकिस्तानियों को मारकर हुए शहीद

करगिल युद्ध में पराक्रम दिखाते हुए पाक बंकर पर अकेले टूट पड़े सत्यवीर सिंह, कई पाकिस्तानियों को मारकर हुए शहीद

Lubhavan Joshi | Updated: 26 Jul 2019, 05:32:47 PM (IST) Alwar, Alwar, Rajasthan, India

Kargil War : करगिल युद्ध में अलवर के सत्यवीर सिंह ने देश के लिए लड़ते हुए शहादत दी थी।

अलवर. Kargil war : ( kargil vijay diwas ) आज करगिल विजय दिवस है। पूरा देश करगिल युद्ध में शहीद हुए वीर सपूतों को याद कर उन्हें श्रद्धांजलि दे रहा है। करगिल के युद्ध में देश के वीर सैनिकों ने अदम्य साहस दिखाते हुए पाकिस्तान के छक्के छुड़ा दिए थे। करगिल युद्ध ( kargil war ) में राजस्थान के कई सपूतों ने बलिदान दिया। बात करें अलवर की तो जिले के भी तीन वीर जवानों ने करगिल युद्ध में शहादत दी थी। अलवर जिले के रायपुर के सिपाही करण सिंह, मोहम्मदपुर के सिपाही वेद प्रकाश और बहरोड़ के गांव भोपालसिंहपुरा के सत्यवीर सिंह देश के लिए लड़ते हुए शहीद हो गए थे।

नीमराणा पंचायत समिति के गांव बसई भोपालसिंह में सत्यवीर सिंह का 15 अगस्त 1962 में जन्म हुआ। उनका बचपन से ही देश की सेवा करने का सपना था। 1982 में उनकी यह ख्वाहिश पूरी हो गई और वे 1982 में राजपुताना राइफल्स 2 बटालियन में सिपाही के पद पर भर्ती हो गए।

अकेले बोला दुश्मनों पर धावा

वीर सत्यवीर सिंह ने करगिल के युद्ध में पराक्रम दिखाते हुए अपने साथियों को पीछे छोड़ते हुए अकेले ही दुश्मनों के बंकर पर धावा बोल दिया था। अपने जान की परवाह ना करते हुए वे दुश्मनों पर कहर बनकर टूटे, उन्होंने कई पाकिस्तानियों को मार गिराया, लड़ते-लड़ते वे 28 जून 1999 को वे वीरगति को प्राप्त हो गए। उनकी शहादत से क्षेत्र के सभी लोगों की आंखें नम हो गई।

परिवार में है फौजी

शहीद सत्यवीर सिंह चौहान के पिता सरदार सिंह स्वयं सेना में सिपाही थे। उनके भाई भी सेना में थे। सत्यवीर सिंह के चार बच्चे हैं जिसमें बेटी ओमबाई व रेखा है तथा पुत्र जगदीश सिंह व नाहर सिंह है। शहादत के समय बच्चे छोटे थे जिनका उनकी मां कृपादेवी ने पालन पोषण कर अपनी जिम्मेदारी निभाई। शहीद की अंत्येष्टि में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने भाग लेकर परिजनों को सांत्वना दी थी। परिवार को पत्रिका के जनमंगल ट्रस्ट की ओर से 51 हजार की सहायता दी गई थी जो परिवार के लिए बड़ा सहारा बनी

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned