अलवर जेल में 90 पुलिस जवानों व अधिकारियों ने ली चार घंटे तलाशी, बंदियों के पास मिला कुछ ऐसा, जानकर आपके भी उड़ जाएंगे होश

अलवर जेल में 90 पुलिस जवानों व अधिकारियों ने ली चार घंटे तलाशी, बंदियों के पास मिला कुछ ऐसा, जानकर आपके भी उड़ जाएंगे होश

Hiren Joshi | Publish: Sep, 06 2018 09:29:17 AM (IST) Alwar, Rajasthan, India

https://www.patrika.com/alwar-news/

अलवर. कुख्यात बदमाश सलाखों के पीछे बैठकर भी मोबाइल के जरिए बाहर अपना नेटवर्क चला रहे हैं। जेल प्रशासन इसे रोक पाने में नाकाम है। केन्द्रीय कारागार अलवर में मंगलवार देर रात जेल प्रशासन ने भारी पुलिस लवाजमे के साथ सघन तलाशी अभियान चलाया। करीब चार घंटे चली चैकिंग के दौरान जेल के भीतर बंदियों के कब्जे से 9 मोबाइल, चार सिम कार्ड और दो चार्जर बरामद हुए। उल्लेखनीय है कि अलवर जेल में तलाशी के दौरान पूर्व में भी कई बार बंदियों के कब्जे से मोबाइल बरामद हो चुके हैं।

पुलिस महानिदेशक (जेल) कार्यालय से मंगलवार रात डीएसपी संजीव कुमार और शायरसिंह अलवर पहुंचे। जिला पुलिस अधीक्षक राजेन्द्र सिंह मिले और जेल में तलाशी अभियान की कार्ययोजना तैयार की।

इसके बाद जयपुर टीम, स्थानीय जेल प्रशासन व पुलिस अधिकारी और जवानों की मदद से रात 11 बजे जेल के भीतर सघन तलाशी अभियान चलाया। इस दौरान बंदियों के बैरक, उनके कपड़ों और सामान की तलाशी ली गई।
तलाशी के दौरान पुलिस अधिकारियों को अलग-अलग बंदियों के कब्जे से 9 मोबाइल और चार सिमकार्ड मिले। इसके अलावा अलग-अलग हिस्सों में दो चार्जर और मोबाइल की इयरफोन लीड बरामद हुई। तलाशी अभियान रात करीब तीन बजे तक जारी रहा। इस सम्बन्ध में जेल प्रशासन की ओर से शहर कोतवाली थाने में प्रकरण दर्ज कराया गया है।

पूर्व में कई बार मिल चुके हैं मोबाइल

अलवर जेल में तलाशी के दौरान बंदियों से मोबाइल मिलने की यह पहली घटना नहीं है। यहां पूर्व में भी कई बार बंदियों से मोबाइल और सिम कार्ड बरामद हो चुके हैं। करीब पांच साल पहले पुलिस ने अलवर जेल में बड़ी कार्रवाई करते हुए डेढ़ दर्जन से ज्यादा मोबाइल बरामद किए थे। इसके बाद भी कई बार जेल से मोबाइल बरामद हो चुके हैं। जेल से लगातार मोबाइल मिलने की घटनाएं सामने आने के बावजूद भी जेल प्रशासन इस पर लगाम नहीं लगा पा रहा है।

कार्रवाई में 80 से 90 अधिकारी और जवान

जेल में सघन तलाशी कार्रवाई में जेल अधीक्षक राजेन्द्र कुमार, जेल उपाधीक्षक अजय कुमार, कोतवाल जितेन्द्र सिंह सोलंकी, यातायात प्रभारी बालाराम चौधरी, जेलर चंदन सिंह सहित अन्य अधिकारी और जेल पुलिस के जवानों के अलावा 70 पुलिस जवानों का जाप्ता पुलिस लाइन से मौजूद रहा। कुछ 80 से 90 अधिकारी और जवान कार्रवाई में शामिल रहे।

पहले भी जेल से फोन कर मांगी थी फिरौती

अलवर जेल में बंदियों से मारपीट, जेल से फोन कर फिरौती मांगने और वारदातों को अंजाम दिलाने के कई मामले सामने आ चुके हैं। छह दिन पहले 30 अगस्त को ही रामगढ़ के तिलवाड़ निवासी राजकुमार ने जेल में बंद उसके भतीजे रवि से मारपीट और फोन कर 20 हजार रुपए की फिरौती मांगने का मामला कोतवाली थाने में दर्ज कराया है।

समय-समय पर तलाशी ली जाती है

जेलों में अवैध सामग्री और मोबाइल आदि की जांच के लिए समय-समय पर तलाशी अभियान चलाया जाता है। इसी के तहत मंगलवार रात अलवर जेल में तलाशी ली गई। जिसमें बंदियों से 9 मोबाइल मिले हैं। जिनके खिलाफ कार्रवाई की जा रही है। ये भी पता लगाया जा रहा है कि उन बंदियों के जेल में किन-किन से सम्पर्क है।
- रुपेन्द्र सिंह, पुलिस महानिरीक्षक (जेल), जयपुर।

तलाशी में मिले मोबाइल

अलवर सेंट्रल जेल में मंगलवार देर रात सघन तलाशी अभियान चलाया
गया। जिसमें बंदियों के
कब्जे और उनके बैरकों से 9 मोबाइल, चार सिमकार्ड, दो चार्जर और एक इयरफोन बरामद हुए। इस सम्बन्ध में कोतवाली थाने में प्रकरण दर्ज कराया गया है।
- अजय यादव, उपाधीक्षक, केन्द्रीय कारागार, अलवर।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned