पिकअप में रस्सियों से बुरी तरह बांध ले जाया जा रहा था गोवंश, ग्रामीणों के रुकवाने पर गाड़ी छोड़ भागे तस्कर

पिकअप में रस्सियों से बुरी तरह बांध ले जाया जा रहा था गोवंश, ग्रामीणों के रुकवाने पर गाड़ी छोड़ भागे तस्कर

Nidhi Mishra | Publish: Sep, 16 2018 11:35:35 AM (IST) Alwar, Rajasthan, India

https://www.patrika.com/rajasthan-news/

अलवर। जिले के कठूमर थाना क्षेत्र के ग्राम तसई पीलू के नगला में गौ तस्कर गाय से भरी पिकअप छोड़कर भाग गए। मौके पर पहुंची पुलिस ने गायों को मैथना गौशाला पहुंचाया। पिक अप में एक बछड़ा मृत मिला। मौके पर पहुंचे भाजपा नेता व समाजसेवी राजेंद्र धोबी व ग्रामीणों ने बताया कि तसई के जाटौली थून मार्ग पर भरतपुर की तरफ से एचआर 45 बी ओ 532 सुबह 4:00 बजे आ रही थी कि ग्रामीणों ने पिकअप को रुकने का इशारा किया। गाड़ी तो रुकी, लेकिन गौ तस्कर पिकअप छोड़कर भाग गए। सूचना मिलने पर पुलिस भी मौके पर पहुंच गई। जांच करने पर पिकअप में छ: गाय व दो बछड़े मिले। जो रस्सियों से बुरी तरह बांधकर पिकअप में ठूंसे गए थे। इनमें एक बछड़ा मृत मिला। पुलिस ने गोवंश को मैथना में स्थित गौशाला पहुंचा दिया और पिकअप को थाने ले आए। मामला दर्ज कर जांच शुरु कर दी गई है।

 

आपको बताते चलें कि अलवर जिले के लिए बड़ी समस्या बन चुकी गो तस्करी की घटनाओं से पुलिस, प्रशासन व आमजन ही परेशान नहीं है, बल्कि गोपालन के लिए खोली गई गोशालाएं भी अब गो तस्करी के गोवंश से अटने लगे हैं। नतीजतन गो शालाओं में दुधारु गायों को रखने की जगह कम पडऩे लगी है।

 

जिले से हरियाणा की सीमा सटी होने के कारण गो तस्करी की घटनाओं पर रोक लगा पाना पुलिस प्रशासन के लिए चुनौती बन गया है। पुलिस के लिए बड़ी समस्या गो तस्करी में पकड़े जाने वाले गोवंश को छोडऩा है। गो तस्करी में पकड़ा जाने वाला ज्यादातर गोवंश दुधारु नहीं होता। वहीं खेतों में जुताई या बैलगाड़ी के लिए उपयोग का होता है। इस कारण ऐसे गोवंश को ज्यादातर लोग लेने को तैयार नहीं होते। वहीं पुलिस के पास गोवंश को रखने के लिए अलग से स्थान नहीं है। इस कारण गोवंश को गोशालाओं में पहुंचाना पुलिस की मजबूरी है। यही कारण है कि जिले की ज्यादातर बड़ी गोशालाओं में दुधारु गोवंश की कमी होने के साथ ही गो तस्करी के गोवंश की संख्या निरंतर बढ़ रही है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned