scriptjabalpur: subhash chandra bose's memories here | मौत का रहस्य! यहां मौजूद हैं नेताजी 'सुभाषचंद्र बोस' की स्मृतियां | Patrika News

मौत का रहस्य! यहां मौजूद हैं नेताजी 'सुभाषचंद्र बोस' की स्मृतियां

पश्चिम बंगाल सरकार ने स्वतंत्रता सेनानी नेताजी की मौत से जुड़े रहस्य से पर्दा उठाने के लिए उनसे जुड़ी 64 फाइलें सार्वजनिक कर दीं।

जबलपुर

Published: September 19, 2015 06:52:37 pm

जबलपुर। पश्चिम बंगाल सरकार ने स्वतंत्रता सेनानी नेताजी की मौत से जुड़े रहस्य से पर्दा उठाने के लिए उनसे जुड़ी 64 फाइलें सार्वजनिक कर दीं। अब नेताजी की मौत से जुड़े कई जानकारियां सामने आने की उम्मीद जताई जा रही है।

नेताजी सुभाषचंद्र बोस चार बार जबलपुर आए थे। जबलपुर जेल में आज भी उनकी स्मृतियां शेष हैं। नेताजी का लोहा स्वयं गांधीजी ने माना था और ऐसी कई इतिहासप्रद स्मृतियां हैं जो नेताजी की स्मृति में आज भी यहां मौजूद हैं। 1945 के बाद भी नेताजी के जिंदा रहने के समाचार के बाद एक बार फिर उनकी देशभक्ति व विजयगाथाओं को याद किया जा रहा है।
मार्च 1939 में त्रिपुरी अधिवेशन में नेताजी का जबलपुर आगमन हुआ। उन्होंने पट्टाभि सीतारमैया जिन्हें गांधी जी सहित कई दिग्गज नेताओं का समर्थन प्राप्त था जबलपुर आए थे। बताया जाता है कि उस दौरान नेताजी 104 डिग्री बुखार में यहां आए थे। इसे इतिहास में स्वाधीनता आंदोलन का भूकंप के नाम से जाना जाता है।

उन दिनों तिलवाराघाट के पास सजावट हुई थी। 52 हाथियों का जुलूस निकाला गया। त्रिपुरी स्मारक अब भी उनकी याद दिलाता है। 20 मई 1932को वे बड़े शरतचंद्र के साथ जेल आए थे। यहां से उन्हें मद्रास से जाया गया। इसके बाद तीसरी बार 1933 में एक बार फिर जबलपुर जेल लाया गया था।
नेताजी अंतिम बार जुलाई 1939 राष्ट्रीय नवयुवक मंडल का उद्घाटन करने आए थे। अंग्रेजों के नजरबंद करने के बाद उन्होंने यूरोप कूच किया। फारवर्ड ब्लॉक की स्थापना की और फिर आजाद हिंद फौज की, जो इतिहासप्रद और अविस्मरणीय है।

इनका कहना है

देशभक्त स्वतंत्रता संग्राम सेनानी नेताजी सुभाषचंद्र बोस की यादें इस शहर से जुड़ी हुई हैं वे चार बार जबलपुर आए थे। अब भी उनकी मौत पर रहस्य बना हुआ है।

-आनंद सिंह राणा, इतिहासकार जबलपुर
bose
bose

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

ओमिक्रोन वायरस के इलाज में कौन सी दवा है सही, जानिए WHO की गाइडलाइनIND vs SA: साउथ अफ्रीका ने 31 रनों से जीता पहला वनडे, ये है भारत की हार का सबसे बड़ा कारणभारत विरोधी कंटेंट चलाने वाले यूट्यूब चैनलों के खिलाफ होगा एक्शन- अनुराग ठाकुरटोक्यो पैरालंपिक में Gold Medal लाने वाली अवनी लेखारा तक पहुंची खास XUV700, आनंद महिंद्रा ने कहा 'Thank You'पापा के खजानें को 25 साल बाद लेकर आए घर, जानें चोरी की गई Royal Enfield Bullet को खोजने की अद्भुत कहानीसेना में भर्ती की तैयारी के दौरान लिया संकल्प, जम्मूकश्मीर से कन्याकुमारी तक करेगा पैदल यात्राक्या है IREDA, मोदी सरकार क्यों इसमें करने जा रही 1500 करोड़ रुपए का निवेश, जानिए सब कुछUP PCS Main 2021 Postponed: यूपी पीसीएस की मुख्य परीक्षा स्थगित, ये हैं नयी तारीख
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.