Video : राजस्थान में साढ़े चार साल बाद राजपुरा सिख के चर्चित हत्याकांड का खुलासा, दो आरोपित गिरफ्तार

Video : राजस्थान में साढ़े चार साल बाद राजपुरा सिख के चर्चित हत्याकांड का खुलासा, दो आरोपित गिरफ्तार
Two accused arrested in murder case bansur alwar

Rajeev Goyal | Updated: 13 Sep 2017, 06:21:00 PM (IST) Alwar, Rajasthan, India

राजपुरा सिख निवासी राजेश बागड़ा पुत्र बनवारीलाल ब्राह्मण तथा भरतराम पुत्र दीनाराम यादव को गिरफ्तार कर हत्या के इस चर्चित मामले का खुलासा किया।

अलवर.

करीब साढ़े चार साल पहले राजपुरा सिख निवासी एक महिला की हत्या कर उसके शव को गढ़ी मामोड के जंगल में रेत के टीबों में दबा देने के चर्चित मामले का खुलासा कर पुलिस ने दो आरोपितों को गिरफ्तार किया है।

 

अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक ग्रामीण डॉ. मूलसिंह राणा ने बताया कि 22 फरवरी 2013 को बानसूर के होलीटीबा निवासी मोहनलाल यादव पुत्र बाबूलाल ने नारायणपुर थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई कि उसकी बहन सीमा की शादी वर्ष 2000 में राजपुरा सिख निवासी नरेश उर्फ नरसी के साथ हुई। शादी के बाद सीमा के दो लड़के हुए, लेकिन उसके ससुरालीजन उसे दहेज की मांग को लेकर तंग करते रहे।

 

२० फरवरी २०१३ को उसके बहनोई पूरण ने सूचना दी कि सीमा घर पर नहीं है। बाद में सीमा का शव गढ़ी मामोड के जंगल में रेत के टीबों में दबा मिला। मामले में पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज कर अनुसंधान किया। अनुसंधान के बाद पुलिस ने मामले में एफआर लगा दी। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक ग्रामीण ने बताया कि मामले में न्यायिक मजिस्ट्रेट थानागाजी के निर्देश पर जिला पुलिस अधीक्षक ने मामले की जांच एएसपी ग्रामीण से कराई। पुलिस ने मंगलवार को मामले में राजपुरा सिख निवासी राजेश बागड़ा पुत्र बनवारीलाल ब्राह्मण तथा भरतराम पुत्र दीनाराम यादव को गिरफ्तार कर हत्या के इस चर्चित मामले का खुलासा किया।

 

पुलिस ने बताया कि सीमा के पति नरसी का राजेश बागड़ा से दोस्ताना था। बाद में दोनों में किसी बात पर बिगड़ गई, लेकिन सीमा राजेश पर इसके बाद भी उतना ही विश्वास करती थी। राजेश ने सीमा व उसके पति के रिश्तों में खटास पैदा करने के लिए नरसी के पड़ोस की एक लड़की से अवैध संबंधों की कहानी भी फैलाई। वहीं, नरसी का अपने परिवार के ही भरतराम यादव आदि से जमीन को लेकर विवाद चल रहा था।

 

पुलिस के अनुसार सीमा की मौत से एक माह पहले राजेश ने सीमा को भड़काकर उसके पति सहित ससुरालीजनों के खिलाफ नारायणपुर थाने में दहेज प्रताडऩा का परिवाद भी दिलवाया। बाद में सीमा के भाई आदि ने समझाइश कर राजीनामा कराया।

 

पुलिस के अनुसार सीमा को रास्ते से हटाने एवं उसकी मौत के लिए ससुरालीजनों को जिम्मेदार ठहराने के लिए राजेश ने भरतराम से हाथ मिला लिया। पुलिस पूछताछ में आरोपितों ने बताया कि १९ फरवरी २०१३ को दोनों (राजेश व भरतराम) ने शराब पी और रात करीब १०.३० बजे राजेश नरसी के घर की गली में पहुंचा और इशारे से सीमा को बाहर बुलाया।

 

सीमा के बाहर आने पर वह उसे मोटरसाइकिल पर बिठाकर करीब एक किलोमीटर दूर झाडि़यों में ले गया। जहां राजेश व भरतराम ने सीमा से दुष्कर्म किया। सीमा के पुलिस में रिपोर्ट की बात कहने पर दोनों ने गला घोंटकर उसकी हत्या कर दी और उसके शव को बाइक पर रखकर गढ़ी मामोड़ लाए। यहां उसके शव को उन्होंने मिट्टी के टीबों में दबा दिया। बाद में मृतका का शव अकडऩे से उसका एक हाथ मिट्टी से बाहर आ गया, जिसे भेड-बकरी चराने वालों ने देख लिया और पुलिस को सूचना दी।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned