अलवर, जानिए गौ तस्करी मामले का पूरा घटनाक्रम, अंधेरी रात में गोतस्कर फिल्मी अंदाज में फायर कर पुलिस को ललकारते रहे

अलवर, जानिए गौ तस्करी मामले का पूरा घटनाक्रम, अंधेरी रात में गोतस्कर फिल्मी अंदाज में फायर कर पुलिस को ललकारते रहे

Rajeev Goyal | Publish: Dec, 08 2017 10:18:59 AM (IST) Alwar, Rajasthan, India

अलवर में अंधेरी रात में गोतस्कर फिल्मी अंदाज में पुलिस पर फायर का ललकारते रहे, पुलिस की बहादुरी के बाद 1 गौ तस्कर ढ़ेर व अन्य भागे

हिमांशु शर्मा/राजीव गोयल/अंशुम आहूजा

अलवर. सर्द रात में लोग घरों में गहरी नींद में थे, तभी शहर में तीन अलग-अलग स्थानों पर गोली चलने की आवाज ने लोगों को चौंका दिया। बुधवार को अंधेरी रात में करीब डेढ़ घंटे तक शहर में गो तस्कर न केवल सरपट वाहन दौड़ाकर खौफ फैलाते रहे, बल्कि फिल्मी अंदाज में एक रास्ते से दूसरे मार्ग पर गाड़ी भगाकर पुलिस पर खुलेआम फायर करते रहे। अंधेरी रात में गोतस्करों के खौफ का यह मंजर करीब 1.25 बजे शुरू हुआ।


गोतस्करों ने स्कीम नंबर आठ स्थित एक निजी अस्पताल के पास से गोवंश को पिकअप में भरा और रात 1.33 बजे सिगमा के कांस्टेबलों ने इसकी सूचना कंट्रोल रूम पर दी। गोतस्कर पुलिस को छकाते हुए रात 1.38 बजे एसएमडी सर्किल पहुंचे, लेकिन वहां पुलिस को देख उन्होंने पिकअप को रुख प्रताप ऑडिटोरियम की तरफ कर दिया। रात 1.42 बजे गोतस्कर पिकअप को दौड़ाते हुए प्रताप ऑडिटोरियम की ओर आए और पुलिस को देख फिल्मी स्टाइल में फायर कर दिया। गोली चलाने से भी गोतस्करों को भागने की राह नहीं मिली तो वे 1.49 बजे पिकअप को लेकर वापस एसएमडी सर्किल की ओर भागे। लेकिन यहां भी गोतस्करों की दाल नहीं गल पाई और सामने सिगमा के कांस्टेबलों को देख घबरा गए। गो तस्करों ने आनन फानन में यहां भी फायर कर दिया। फायर की आवाज सुन पुलिस के अलर्ट होने से गोतस्कर घबरा गए और रात 1.55 बजे वे एसएमडी सर्किल पर लगी बेरिकेटिंग को तोड़ काली मोरी ओवर ब्रिज की ओर भागने लगे। रात 2.05 बजे जैसे ही गोस्तकर ओवरब्रिज पर पहुंचे तो नीचे पुलिस को उनका सिर चकरा गया और उन्होंने पुलिस पर ताबड़तोड़ फायर करना शुरू कर दिया। यहां पुलिस ने भी गोतस्करों के वाहन पर फायर करना शुरू कर दिया। सभी जगह पुलिस से घिरा देख गोस्तकर रात 2.10 बजे बचने के लिए जनता कॉलोनी की ओर से भागे लेकिन उनकी पिकअप रात 2.20 बजे जनता कॉलोनी के मोड पर फंस गई। पुलिस से घिरने और गाड़ी को मोड़ पर फंसता देख गोतस्कर फिल्मी अंदाज में पिकअप से उतर पैदल ही फरार हो गए। खास बात यह रही कि फिल्मों की तर्ज पर गोतस्कर पुलिस की गोली का शिकार हुए अपने साथी को गाड़ी में मृत हालत में छोड़कर रात 2.24बजे भाग गए। अंत में फिल्मी अंदाज में पुलिस गोतस्करों का पीछा करते हुए घटना स्थल पर पहुंची और गाड़ी की तलाशी ली। पुलिस ने अंधेरे में लाइट के सहारे लावारिस हालत में खड़ी गाड़ी को कब्जे लिया और इसी के साथ ही घटना का पटाक्षेप हुआ।

दो गोलियां शीशे व दो गाड़ी की बॉडी से निकली पार

पुलिस ने गोतस्करों पर सात राउण्ड गोलियां चलाई। इनमें से दो गोलियां उनकी गाड़ी की आगे की बॉडी में लगीं, जो बॉड़ी को चीरते हुए पार निकल गईं। वहीं, दो गोलियां गाड़ी के आगे वाले शीशे में ड्राइवर सीट से कुछ दूरी पर लगी, जिनमें से एक गोली केबिन के पीछे लगे शीशे को तोड़ती निकल गई। वहीं, दूसरी केबिन के पीछे की बॉड़ी को भेद निकल गई। पुलिस ने मौके से इनके भी साक्ष्य उठाए।

यूं चला घटनाक्रम

रात 1.25 बजे स्कीम नम्बर 8 में गोतस्करों ने गाड़ी में भरा गोवंश।
रात 1.33 बजे सिगमा के सिपाहियों ने पुलिस कंट्रोल रूम पर दी सूचना।
रात 1.38 बजे तस्कर गाड़ी लेकर एसएमडी सर्किल पर पहुंचे, वहां कोतवाली पुलिस मिली।
रात 1.42 बजे तस्कर गाड़ी लेकर प्रताप ओडिटोरियम की तरफ आए, वहां पहला फायर किया।
रात 1.49 बजे तस्कर फिर एसएमडी सर्किल जाने लगे, कुछ दूरी पर खड़े सिगमा पर तस्करों ने दूसरा फायर किया।
रात 1.55 बजे तस्कर एसएमडी सर्किल पर बेरिकेटिंग तोड़ते हुए काली मोरी ओवर ब्रिज की तरफ भागे।
रात 2.05 बजे ओवरब्रिज के नीचे एनईबी पुलिस खड़ी हुई थी, यहां पुलिस व तस्करों के बीच फायङ्क्षरग हुई।
रात 2.10 बजे तस्कर जनता कॉलोनी की तरफ भागे।
रात 2.20 बजे तस्करों की गाड़ी जनता कॉलोनी के मोड पर फंसी।
रात 2.24 बजे बदमाश गाड़ी को मौके पर छोड़कर फरार हो गए।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned