scriptWidow Women Join As Teacher In REET Level One In Rajasthan | इनसे हौसला लीजिए: पति की मौत के बाद टूटी लेकिन हार नहीं मानी, जमकर पढ़ाई की और अब लगी सरकारी नौकरी | Patrika News

इनसे हौसला लीजिए: पति की मौत के बाद टूटी लेकिन हार नहीं मानी, जमकर पढ़ाई की और अब लगी सरकारी नौकरी

बहुत सी ऐसी बेटियों ने दु:खों का पहाड़ टूटने के बाद फिर से पढ़ाई शुरू की और एसटीसी और बीएड कर रीट लेवल-1 की परीक्षा पास की।

अलवर

Published: May 27, 2022 05:56:45 pm

अलवर. लहरों से डर कर नौका पार नहीं होती, कोशिश करने वालों की हार नहीं होती, असफलता एक चुनौती है, स्वीकार करो, क्या कमी रह गई, देखो और सुधार करो...। हरिवंश राय बच्चन की यह कविता अलवर की उन बेटियों पर खरी उतरती है जो कम उम्र में विधवा हो गई। अपने परिवार की गाड़ी रूपी रथ को खींचने और बच्चों को मां और पिता दोनों का प्यार व सुरक्षा देने की चुनौती को उन्होंने स्वीकार किया। अलवर जिले की बहुत सी ऐसी बेटियों ने दु:खों का पहाड़ टूटने के बाद फिर से पढ़ाई शुरू की और एसटीसी और बीएड कर रीट लेवल-1 की परीक्षा पास की। सोमवार को काउंसलिंग के बाद इनको स्कूल आवंटित किए तो उनके चेहरे पर खुशी देखते ही बनती थी।

दसवीं के बाद पढ़ाई की, मिली सफलता

ढहलावास की केसंता का कहना है कि मैंने पति की मौत के बाद पढ़ाई नए सिरे से शुरू की। इस समय तक मैंने दसवीं कक्षा तक ही पढ़ाई की थी। फिर मैंने एसटीसी कर नौकरी पाई। मेरे दो बच्चे हैं जिनके भाग्य से यह नौकरी मिली है। मैं बता नहीं सकती कि मैं कितनी खुश हूं।
Widow Women Join As Teacher In REET Level One In Rajasthan
इनसे हौसला लीजिए: पति की मौत के बाद टूटी लेकिन हार नहीं मानी, जमकर पढ़ाई की और अब लगी सरकारी नौकरी
मुसीबत आने के बाद पढ़ाई की

संतोष यादव बताती हैं कि मेरे पति का देहांत 2014 में हो गया था। इसके बाद मैंने 11 वीं कक्षा और एसटीसी की है।मैंने बच्चों को पालते हुए पढ़ाई की। अब पढ़ाई के साथ यह होता है कि आप को अच्छे अंक भी लाने हैं। मैंने जमकर पढ़ाई की और कई सालों की मेहनत के बाद मेरा रीट लेवल प्रथम में सलेक्शन हो गया। अब नौकरी से जीने का सहारा मिल गया।
हार नहीं मानी और पाई मंजिल

अलवर निवासी सीमा कहती हैं कि मेरे पिता अमरचंद ने पति की मौत के बाद मेरा हौसला बढ़ाया और मुझे आगे पढ़ने की सलाह दी। 2016 से लगातार पढ़ने और संघर्ष करने के बाद अब मैं स्कूल शिक्षिका बनी हूं।इस सफलता में बस एक ही बात है कि आप अपने लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए लगातार मेहनत करते रहो, हिम्मत मत हारो।
आंखें भर आई नौकरी पाकर

कोटकासिम की ललिता रानी का नाम जब स्कूल के अलॉटमेंट के साथ बोला गया तो वह भावुक हो गई। ललिता ने रोते हुए पत्रिका को बताया कि कई सालों की मेहनत के बाद यह दिन नसीब हुआ है। 2019 में मेरे पति के देहांत के बाद मेरे ससुर ने पिता की तरह भूमिका निभाई। उनकी प्रेरणा से मैंने एसटीसी और बीए किया।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather. राजस्थान में आज 18 जिलों में होगी बरसात, येलो अलर्ट जारीसंस्कारी बहू साबित होती हैं इन राशियों की लड़कियां, ससुराल वालों का तुरंत जीत लेती हैं दिलशुक्र ग्रह जल्द मिथुन राशि में करेगा प्रवेश, इन राशि वालों का चमकेगा करियरउदयपुर से निकले कन्हैया के हत्या आरोपी तो प्रशासन ने शहर को दी ये खुश खबरी... झूम उठी झीलों की नगरीजयपुर संभाग के तीन जिलों मे बंद रहेगा इंटरनेट, यहां हुआ शुरूज्योतिष: धन और करियर की हर समस्या को दूर कर सकते हैं रोटी के ये 4 आसान उपायछात्र बनकर कक्षा में बैठ गए कलक्टर, शिक्षक से कहा- अब आप मुझे कोई भी एक विषय पढ़ाइएUdaipur Murder: जयपुर में एक लाख से ज्यादा हिन्दू करेंगे प्रदर्शन, यह रहेगा जुलूस का रूट

बड़ी खबरें

महाराष्ट्र में शिवसेना के टूटने से डरे अरविंद केजरीवाल, अपने विधायकों से की ये अपीलपश्चिम बंगाल में कानून व्यवस्था को लेकर चिंतित BJP नेता सुवेंदु अधिकारी, गृह मंत्री अमित शाह लिखा पत्रIndian Navy: 15 अगस्त को भारत की सेवा में तैनात होगा आईएनएस विक्रांतUdaipur Murder: आखिर क्यों कोर्टरूम से निकलते ही मोहम्मद मोहसिन को पहना दी एनआईए ने हथकड़ीसिंगल यूज प्लास्टिक पर प्रतिबंध फिर भी चाय बेचने वाले डिस्पोजल का कर रहे उपयोगChandrashekhar Guruji Murder: कर्नाटक में बेखौफ हुए अपराधी? जाने माने वास्तु शास्त्री की दिन दहाड़े चाकू मारकर हत्याशॉर्ट सर्किल से होटल की तीसरी मंजिल पर लगी आग, मची अफरा-तफरीMaharashtra: ठाणे नगर निगम में पिछले 5 सालों में बढ़ी ट्रांसजेंडर मतदाताओं की संख्या, यहा देखें आँकड़े
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.