यहां पानी नहीं मिला तो अधिकारी की कुर्सी पर ही बैठ गई महिलाएं, कई घंटों तक किया विरोध

यहां पानी नहीं मिला तो अधिकारी की कुर्सी पर ही बैठ गई महिलाएं, कई घंटों तक किया विरोध

Rajeev Goyal | Updated: 22 Dec 2017, 12:42:20 PM (IST) Alwar, Rajasthan, India

यहां पानी नहीं मिला तो अधिकारी की कुर्सी पर ही बैठ गई महिलाएं, कई घंटों तक किया विरोध

अलवर. सर्दी के मौसम में लोगों को पीने के लिए पानी नहीं मिल रहा है। आधा दर्जन कॉलोनियों के परेशान लोग गुरुवार को जलदाय विभाग के कार्यालय में पहुंचे। लोगों ने जमकर जलदाय विभाग के खिलाफ नारे लगाए।
इस दौरान जलदाय विभाग के अधिकारियों ने उनको समझाया व जल्द ही उनकी समस्या का समाधान कराने का आश्वासन दिया। इस पर लोग शांत हुए।

अलवर में लोगों को पीने के लिए पानी नहीं मिल रहा है, लोगों को मजबूरी में टैंकरों के भरोसे रहना पड़ रहा है। तो कुछ लोग आसपास के क्षेत्र से पानी लेकर आते हैं। कई बार जलदाय विभाग के अधिकारियों को शिकायत देने के बाद भी कोई कार्रवाई नहीं होने के विरोध में गुरुवार को शहर की आधा दर्जन कॉलोनी के लोग मनुमार्ग स्थित जलदाय विभाग कार्यालय में पहुंचे। लाल डिग्गी, मेहंदी बाग, पड़ाव की चक्की, एनईबी सहित बड़ी संख्या में कॉलोनी की महिलाएं पार्षद के नेतृत्व में जलदाय विभाग कार्यालय में पहुंची। लोगों ने जलदाय विभाग के खिलाफ नारे लगाए। इस मौके पर पार्षद कपिल राज शर्मा, नरेन्द्र मीणा, नीरंजन लाल सैनी, पूर्व पार्षद रमन सैनी मौजूद थे।


कपिल राज ने बताया कि कुछ समय पहले मैंने धरना दिया था, उस समय जलदाय विभाग के तरफ से बोरिंग कराने का आश्वासन दिया था। लेकिन अभी तक कोई बोरिंग नहीं हुई। मेहंदी बाग क्षेत्र में कई सालों से पानी सप्लाई नहीं हो रहा है।


पड़ाव की चक्की क्षेत्र में लोगों को पानी सप्लाई नहीं मिल रहा है तो, अन्य जगह भी हालात खराब हैं। इस पर जलदाय विभाग के अधिशाषी अभियंता अमर ङ्क्षसह ने जल्द ही बोरिंग लगाने व लाइन को चैक कराने का आश्वासन दिया। इस पर लोग शांत हुए।


गर्मी में कैसे मिलेगा पानी?


सर्दी के मौसम में इस तरह के हालात हैं तो, गर्मी के मौसम में लोगों को पीने के लिए पानी कैसे मिलेगा। क्योंकि सतही पानी की जिले में कोई व्यवस्था नहीं है। इस साल बारिश कम होने से ट्यूबवैल भी तेजी से खराब हो रहे हैं। एेसे में पानी का संकट बढऩे की सम्भावना है।

Show More

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned