प्रियंका गांधी के इस बयान ने कर दिया साफ कि कैसे कांग्रेस प्रत्याशी का नामांकन हुआ था खारिज

प्रियंका गांधी के इस बयान ने कर दिया साफ कि कैसे कांग्रेस प्रत्याशी का नामांकन हुआ था खारिज

Neeraj Patel | Updated: 01 May 2019, 06:37:09 PM (IST) Lucknow, Lucknow, Uttar Pradesh, India

कांग्रेस पार्टी की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी ने बयान ने किया खुलासा, कांग्रेस प्रत्याशी उम्मेद निषाद का नामांकन पत्र खारिज होने की सारी कहानी का खुला राज

अम्बेडकर नगर. कांग्रेस पार्टी की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी ने एक टीवी चैनल को दिए अपने बयान में जिस तरह से कहा है, उससे तो अम्बेडकर नगर लोकसभा क्षेत्र से कांग्रेस प्रत्याशी उम्मेद निषाद का नामांकन पत्र खारिज होने की सारी कहानी के पीछे की चाल लोगों के समझ में आने लगी है। प्रियंका गांधी ने टीवी चैनल को दिए अपने बयान में कहा है कि कांग्रेस पार्टी उत्तर प्रदेश में या जीतने के लिए लड़ रही है या फिर ऐसे प्रत्याशी को खड़ा किया है जो भाजपा का वोट काट सके।

प्रियंका गांधी के इस बयान से न सिर्फ राजनीतिक गलियारों में भूचाल आ गया है बल्कि अब आम मतदाता भी यह समझने लगा है कि भले ही कांग्रेस उत्तर प्रदेश में कुछ सीटों को छोड़कर सभी जगह अपने प्रत्याशी खड़े किए है। हालांकि पिछले लोकसभा में कांग्रेस पार्टी जिस तरह से सिर्फ दो सीटों पर सिमट गई थी, उससे तो यह साफ है कि उत्तर प्रदेश में कांग्रेस के पास कुछ दिखाने के लिए खास नहीं है और शायद भाजपा से जली भुनी कांग्रेस हर हालत में भाजपा को नुकसान पहुंचाने के लिए चुनाव मैदान में है।

उम्मेद निषाद ने नामांकन पत्र में कमी को दूर करने का नहीं लिया था संज्ञान

अम्बेडकर नगर लोकसभा क्षेत्र से कांग्रेस के अधिकृत प्रत्याशी उम्मेद निषाद ने 22 अप्रैल को अपना पहला नामांकन पत्र भरा था। इसके बाद 23 अप्रैल को कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष राज बब्बर के साथ रोड शो निकाल कर भारी लाव लश्कर के साथ उम्मेद निषाद ने तीन सीटों में अपना नामांकन भरा था। 24 अप्रैल को जांच के दौरान जिला निर्वाचन अधिकारी की तरफ से उम्मेद निषाद को दो नोटिस दी गई, जिसमें एक में उनसे अपना बैंक एकाउंट नंबर भरने का निर्देश दिया गया था और दूसरे में नामांकन पत्र के तीन कालम को अधूरा छोड़ा गया था, जिसे पूरा करने का निर्देश दिया गया था।

उम्मेद निषाद ने अपना बैंक एकाउंट तो भर दिया, लेकिन अधूरे तीन कालमों को पूरा नहीं किया, जिसकी वजह से उनका नामांकन पत्र खारिज हो गया। यह कयास तो लोग पहले ही लगा रहे थे। सपा बसपा गठबंधन को लाभ पहुंचाने के लिए कांग्रेस ने कोई साजिश की है, लेकिन जिस तरह से प्रियंका गांधी का बयान सामने आया है, उससे अब लोगों को यह महसूस होने लगा है कि जानबूझ कर अम्बेडकर नगर में कांग्रेस ने अपना पर्चा खारिज कराया है।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned