भरे बाजार में दिन दहाड़े चुराया चाचा भतीजे का मोबाइल, लोगों ने पीट-पीटकर किया अधमरा

अक्सर लोग मोटर सायकिल या पैदल चलते हुए मोबाइल पर बात करते हुए बेफिक्र रहते हैं

By: आकांक्षा सिंह

Published: 16 May 2018, 11:45 AM IST

म्बेडकर नगर. अक्सर लोग मोटर सायकिल या पैदल चलते हुए मोबाइल पर बात करते हुए बेफिक्र रहते हैं और इस परिस्थिति का कभी कभी सिरफिरे किस्म के युवक नाजायज फायदा उठाकर मोबाइल छीन कर तेजी से भाग निकलते हैं । ऐसे ही एक मामले में एक सिरफिरे की जान पर बन आई । मामला जिले के टांडा कोतवाली क्षेत्र के सूरापुर गाँव का है, जहाँ टांडा अकबरपुर मार्ग पर एक चाचा भतीजा अपनी बाइक से जिला मुख्यालय जा रहे थे कि पीछे से एक मोटरसाइकिल पर सवार दो युवकों ने चाचा भतीजे में से भतीजे राम आशीष की मोबाइल और दो हजार रूपये अचानक छीन कर मोटर साइकिल से जिला मुख्यालय की तरफ ही भाग निकले ।


इस तरह पकड़ में आया एक सिरफिरा
राम आशीष जैसे ही सूरपुर बाजार से अपने चाचा के साथ अकबरपुर जाने के लिए निकले ही थे कि बाजार से बाहर पहुँचते ही दोनों सिरफिरों ने उनकी मोबाइल और नकदी लेकर भागने लगे । राम आशीष भी इन दोनों शातिरों का पीछा अपनी मोटर साइकिल से करना शुरू कर दिया । जिला मुख्यालय स्थित पटेल तिराहे पहुँचने के बाद दोनों शातिर आजमगढ़ रोड पर अपनी मोटर साइकिल घुमा कर भागने लगे । यहाँ भी राम आशीष ने उनका पीछा नहीं छोड़ा और आर टी ओ आफिस के सामने दोनों में से एक तो लोगों की पकड में आ गया, लेकिन दूसरा मोटर साइकिल से भागने में सफल हो गया ।


भीड़ कुछ भी कर जाती, लेकिन पत्रकारों ने बचाई जान
कोतवाली अकबरपुर से मात्र कुछ ही दूरी पर आर टी ओ आफिस के सामने युवक को जिस प्रकार से उस पर मोबाईल और नकदी छीनने का आरोप लगाकर भीड़ ने उसकी पिटाई शुरू कर दी थी, उसे देखकर लोगों के दिल भी काँप गए । कोई इस आरोपी को शातिर बताकर कर लात घूसों से पीट रहा था, तों कोई जमीन पर पटक कर जूते और चप्पलों से पीट रहा था । हालांकि इस पिटाई के दौरान पकड़ा गया युवक अपनी जान बख्सने के साथ ही अपने ऊपर लगाए जा रहे आरोप को भी गलत बता रहा था, लेकिन भीड़ को उसकी न एक सुननी थी और न सुनी । लगभग 15 से 20 मिनट तक आरोपी की इसी तरह पिटाई लोग करते रहे । सूचना पाकर वहां कुछ मीडियाकर्मी और अखबारों के छायाकार भी मौके पर पहुँच गए । मीडियाकर्मियों ने युवक को पिटता देख लोगों को पीटने से मना किया और थोड़ी मशक्कत के बाद लोग इस आरोपी युवक को पीटना छोड़ उसे पुलिस के हवाले कर दिए, जिसके बाद आरोपी की जान बच सकी ।

आकांक्षा सिंह
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned