रकम डबल के चक्कर में 127 लोगों ने चिटफंड कंपनी में जमा किए 27 लाख, पैरों तले खिसक गई जमीन जब..., मंत्री के कहने पर हुई एफआईआर

रकम डबल के चक्कर में 127 लोगों ने चिटफंड कंपनी में जमा किए 27 लाख, पैरों तले खिसक गई जमीन जब..., मंत्री के कहने पर हुई एफआईआर

Ram Prawesh Wishwakarma | Publish: Jun, 14 2019 10:05:05 AM (IST) Ambikapur, Surguja, Chhattisgarh, India

एक युवक ने पहले जमा किए एक लाख, फिर परिचितों व रिश्तेदारों से भी जमा करा दिए लाखों रुपए, स्वास्थ्य मंत्री (Health Minister TS Singhdeo) के निर्देश पर पुलिस ने दर्ज किया अपराध

अंबिकापुर. एक युवक ने चिटफंड कंपनी (Chitfund Company) के झांसे में आकर स्वयं एवं अपने रिश्तेदारों व परिचितों से कुल २७ लाख रुपए निवेश कराया। उसे कंपनी द्वारा बताया गया था कि 5 वर्षों में रकम दोगुनी कर निवेशकों को लौटाई जाएगी। इसके लालच में आकर अन्य 127 लोगों ने अपनी जमा पूंजी निवेश कर दी।

पांच वर्ष पूर्ण होने पर निवेशकों कंपनी से संपर्क किया तो कंपनी द्वारा चेक दिया गया। जब चेक की राशि आहरण के लिए बैंक में लगाई गई तो चेक बाउंस हो गया। फिर धोखाधड़ी की शंका पर निवेशकों ने इसकी शिकायत ११ अपै्रल २०१९ को एसपी सरगुजा से की थी।

इसके बावजूद भी कोई कार्रवाई नहीं होने पर निवेशकों ने इसकी शिकायत स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव से की। फिर स्वास्थ्य मंत्री के निर्देश पर कोतवाली पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ जुर्म दर्ज किया है।


वर्ष 2014 में चिटफंड कंपनी साईं दीप प्रोड्यूसर लिमिडेट सरगुजा में चल रही थी। इसका ऑफिस अंबेडकर चौक पर था। कंपनी द्वारा निवेशकों को पांच वर्ष में रुपए दोगुनी करने का झांसा दिया जाता था। इस झांसे में आकर घुटरापारा पानी टंकी निवासी 40 वर्षीय शंकर राम यादव पिता जगेश्वर राम यादव ने 2014 में 1 लाख 10 हजार 250 रुपए निवेश किया था। इसके बाद वह एजेंट के रूप में कंपनी में काम करने लगा।

उसने अपने रिश्तेदारों व परिचितों सहित 127 लोगों से 27 लाख रुपए कंपनी में निवेश करवाए थे। सभी निवेशकों को 5 वर्ष में रकम दोगुनी करने का लालच (Greed) दिया गया था। 5 वर्ष बाद जब निवेशकों द्वारा जब कंपनी से संपर्क किया गया तो कंपनी द्वारा निवेशकों को चेक काट कर दे दिया गया।

चेक जब बैंक में जमा कराया गया तो वह बाउंस हो गया। इस पर निवेशकों ने पुन: कंपनी से संपर्क किया तो उन्हें पुन: पैसा वापस करवाने का आश्वासन दिया गया। इसके बावजूद भी रुपए वापस नहीं मिले।

इससे निवेशकों को धोखाधड़ी का शिकार होने की आशंका हुई। तब कंपनी के एजेंट शंकर राम ने सभी निवेशकों के साथ 11 अपै्रल 2019 को एसपी सरगुजा से शिकायत की थी। इसके बावजूद भी इस मामले में कोई कार्रवाई नहीं की गई।


स्वास्थ्य मंत्री के निर्देश पर जुर्म दर्ज
एसपी द्वारा चिटफंड कंपनी के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं किए जाने पर पीडि़तों ने इसकी शिकायत स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव से की। फिर ङ्क्षसहदेव के निर्देश पर कोतवाली पुलिस ने कंपनी के संबंधित आरोपियों के खिलाफ जुर्म दर्ज किया है।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned