मंत्री बृजमोहन ने कहा था हटाओ कब्जा, इधर BJP जिलाध्यक्ष उसी का मांग रहे पट्टा

लोक सुराज में जिले के प्रभारी मंत्री को मिली थी महामाया पहाड़ पर अवैध कब्जे की शिकायत, भाजपा ने एक दिन पहले प्रशासन से की की थी तत्काल कार्रवाई की मांग

अंबिकापुर. लोक सुराज में शिकायत मिलते ही जिले के प्रभारी मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने महामाया पहाड़ से सभी प्रकार के अवैध कब्जे पर जिला प्रशासन को कार्रवाई करने के निर्देश दिए थे। प्रभारी मंत्री के निर्देश पर प्रशासन द्वारा शुरू की गई कार्रवाई का भाजपा नगर मंडल ने एक दिन पहले समर्थन किया था।

वहीं अब भाजपा जिलाध्यक्ष नजूल भूमि पर काबिज लोगों को पट्टा दिए जाने के पक्ष में खड़े नजर आ रहे हैं। इस तरह की दोहरी राजनीति से भाजपा के ही अंदर इस मुद्दे को लेकर कलह नजर आ रहा है। साथ ही लोग भी असमंजस में हैं कि भाजपा आखिर चाहती क्या है।

लोक सुराज अभियान के दौरान जिले के प्रभारी मंत्री बृजमोहन अग्रवाल को महामाया पहाड़ पर किए गए अतिक्रमण को लेकर कुछ लोगों द्वारा शिकायत की गई थी। शिकायत पर प्रभारी मंत्री ने जिला प्रशासन को 15 दिन के भीतर कार्रवाई करने के निर्देश दिए थे। इसके बाद राजस्व, वन विभाग व नगर निगम द्वारा संयुक्त कार्रवाई शुरू करते हुए कब्जाधारियों का सर्वे कर उन्हें नोटिस जारी किया था। वन विभाग द्वारा नोटिस देकर 3 दिन के भीतर कब्जाधारियों को कब्जा खाली करने के निर्देश दिए गए थे।

इसके पूर्व नगर निगम ने 543 व राजस्व विभाग ने 134 लोगों को नोटिस जारी किया था। इसके बाद से ही शहर की राजनीति गरमा गई है। कांग्रेस जहां शुरू से ही कब्जाधारियों के पक्ष में खड़ी नजर आ रही है। वहीं भाजपा नगर मंडल अध्यक्ष विद्यानंद मिश्रा व नगर महामंत्री कैलाश मिश्रा की अगुवाई में गुरुवार को कलक्टर से मुलाकात कर महामाया पर कब्जाधारियों के खिलाफ तत्काल कार्रवाई किए जाने की मांग की गई थी।

इसके बाद शुक्रवार को भाजपा जिलाध्यक्ष अखिलेश सोनी ने बयान जारी करते हुए जहां महामाया पहाड़ को संरक्षित करने की बात कही है, वहीं वनभूमि क्षेत्र में जिन कब्जाधारियों को शासन द्वारा पट्टा जारी किया गया है एवं भविष्य में जो पट्टा दिए जाने की पात्रता में संलग्र हैं उनको कार्रवाई से अलग रखा जाने की बात कही है।

इसके साथ ही उन्होंने कहा है कि अतिक्रमण जो कानूनन नहीं है उसका भाजपा विरोध करती है। उन्होंने अपने बयान में यह भी कहा है कि भाजपा ने शासकीय या नजूल भूमि के संदर्भ में किसी प्रकार की भी आपत्ति नहीं की है और न ही भविष्य में करेगी।

भाजपा जिलाध्यक्ष अखिलेश सोनी ने कहा कि भाजपा शासन से यह मांग करती रही है कि नजूल भूमि पर काबिज लोगों को पट्टा दिया जाये एवं उनके कब्जे को किसी भी प्रकार का नुकसान न पहुंचाया जाये। नगर भाजपा व भाजपा जिला कार्यालय द्वारा महामाया पहाड़ को लेकर अलग-अलग रुख से अब लोग भी असमंजस की स्थिति में हैं।

कांग्रेस फैला रही है भ्रम
भाजपा जिलाध्यक्ष अखिलेश सोनी ने अपने बयान में कहा है कि नजूल भूमि पर पट्टे के वितरण का प्रकरण भाजपा के प्रयास से ही शासन के सामने विचाराधीन है। किन्तु भाजपा के इस पक्ष को कांग्रेस एव विपक्षियों द्वारा तोड़-मरोड़ कर प्रस्तुत किया जा रहा है ताकि लोगों बरगलाया जा सके और महामाया पहाड़ श्रृंखला की वन भूमि पर वर्ग विशेष के कब्जाधारियों को बचाया जा सके।

पहाड़ संरक्षित करने के साथ पट्टा देने की मांग
भाजपा जिलाध्यक्ष ने जहां महामाया पहाड़ श्रृंखला की वन भूमि को किसी भी स्थिति में संरक्षित किए जाने की बात करते हुए इसे नगर के पर्यावरण संरक्षण के लिए आवश्यक बताया है। इसके साथ ही आध्यात्मिक एवं सांस्कृतिक रूप से भी बचाये जाने की वकालत की है। लेकिन दूसरी तरफ नजूल व शासकीय भूमि पर काबिज लोगों को पट्टा दिलाये जाने की बात कही है। उन्होंने कहा है कि नजूल भूमि पर वर्षों से काबिज लोगों को पट्टा दिया जाना चाहिए।

जिलाध्यक्ष के बयान की नहीं है जानकारी
भाजपा नगर मंडल द्वारा गुरुवार को कलक्टर से मुलाकात कर महामाया पहाड़ के संदर्भ में एक ज्ञापन सौंपा गया था, जिसमें तत्काल कार्रवाई किए जाने की मांग की गई थी। भाजपा जिलाध्यक्ष द्वारा बयान जारी किए जाने की मुझे जानकारी नहीं है।
विद्यानंद मिश्रा, नगर मंडल अध्यक्ष, भाजपा
Show More
Pranay Rana
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned