घर बचाने अनशन पर बैठे लोगों के बीच नोटबंदी का भाषण देने लगे रमन के ये मंत्री

सर्वदलीय मंच के बैनर तले व्यवस्थापन की मांग को लेकर बैठे लोगों को जिले के प्रभारी मंत्री ने नोटबंदी का जिक्र कर कांग्रेसियों को जमकर कोसा

By: rampravesh vishwakarma

Published: 10 Nov 2017, 03:41 PM IST

बिश्रामपुर. बिश्रामपुर नगर पंचायत कार्यालय के समक्ष विगत 58 दिन से व्यवस्थापन की मांग को लेकर क्रमिक अनशन पर बैठे लोगों से जिले के प्रभारी मंत्री भइयालाल राजवाड़े ने मुलाकात की। इस दौरान नपं के सभाकक्ष में अनशनकारियों को संबोधित करते हुए प्रभारी मंत्री अचानक मुद्दे से भटक गए और नोटबंदी को लेकर कांग्रेस के प्रदेशव्यापी काला दिवस कार्यक्रम पर जमकर निशाना साधा। मंत्री के इस उद्बोधन की निंदा करते हुए कांग्रेसियों व लोगों ने कहा कि इस मंच से मुद्दे से भटक कर ऐसे भाषण का क्या औचित्य था। ये कोई नोटबंदी की सभा थोड़ी न थी।


प्रभारी मंत्री राजवाड़े ने अनशनकारियों को संबोधित करते हुए कहा कि आप विश्वास रखिए, एक भी घर नहीं टूटेगा। हम आपके साथ हैं। यह मामला मुख्यमंत्री के संज्ञान में है और हम लगातार बात भी कर रहे हैं और मैं विश्वास दिलाता हूं कि किसी का घर नहीं टूटेगा।

सभा को संबोधित करते हुए पूर्व विधायक रेणुका सिंह ने कहा कि की पड़ोसी जिले के विधायक एवं प्रभारी मंत्री भइयालाल राजवाड़े क्ष्ेात्र की सारी समस्याओं को जानते हैं और किसी का भी घर नहीं टूटेगा। इस पर लोगों ने राहत तो महसूस कि लेकिन उनके बीच इस बात की भी चर्चा रही कि अभी तक सरकार के मंत्रियों व सांसद से सिर्फ आश्वासन ही मिलता आया है।

अनशन करते हुए ५८ दिन बीत चुके लेकिन कोई पहल नहीं हो सकी है। वहीं नगर पंचायत अध्यक्ष राजेश यादव ने प्रभारी मंत्री को समस्या से अवगत कराते हुए कहा कि जिस भूमि पर अतिक्रमण है वह एसईसीएल की अनुपयोगी भूमि है। इस पर 50-60 वर्षों से गरीब परीवारों की बसाहट है और एसईसीएल द्वारा हाईकोर्ट का हवाला देकर बार-बार नोटिस बांटने से लोग काफी तनाव की स्थिति में हैं इनको व्यवस्थापन की जरूरत है।

मंच का संचालन दीपेन्द्र सिंह चौहान ने किया। इस दौरान भाजपा जिलाध्यक्ष रामकृपाल साहु, खेल आयोग के सदस्य विजय राजवाड़े, प्रेम कांत, अंचल राजवाड़े, जगदीश गुप्ता सहित दुर्गा शंकर दिक्षित, बलराम शर्मा, दीप्ति स्वाईं, विनोद पटेल, पिंटू यादव, सतीश तिवारी व अन्य लोग उपस्थित थे।


यहां भी नोटबंदी का जिक्र करने से नहीं चूके मंत्री
विगत 58 दिनों से सर्वदलीय मंच के बैनर तले दोनों ही प्रमुख दल भाजपा व कांग्रेस प्रभावितों को उनका हक दिलाने कंधे से कंधा मिलाकर चल रहे हैं लेकिन यहां पहुंचे प्रभारी मंत्री अपनी राजनीति करने से नहीं चूके। उन्होंने अनशन स्थल से नोटबंदी का मुद्दा उठाते हुए कांग्रेस द्वारा मनाए गए काले दिवस को लेकर भाषण देना शुरू कर दिया।

उन्होंने कहा कि कांग्रेसियों का काम है अच्छे कार्यों का विरोध करना, इसलिए वे काला दिवस मना रहे हैं पर आप को चिंता करने की जरूरत नहीं लाल आपके बीच है और आप सब लाल दिवस मनाकर लाल हो जाइए। इस बात पर कार्यक्रम में शामिल कांग्रेसी नेता भड़क गए और कहने लगे की यह सर्वदलीय मंच है,

यहां राजनीति करना ठीक नहीं, हम राजनीति से परे होकर एक जुटता के साथ लोगों के लिए लगे हैं और भरी सभा में मुद्दे से भटक कर राजनीति करना शोभा नहीं देता। इसका भीड़ में शामिल कई लोंगों ने समर्थन किया कि यह सर्वदलीय मंच है किसी अकेले का नहीं।


क्या क्रमिक अनशन समाप्त कर दें
प्रभारी मंत्री के आत्मविश्वास से भरे आश्वासन को सुनकर सभा समाप्ति के बाद बाहर लोगों की भीड़ ने मंत्री जी को घेर लिया और पूछा कि यदि आपको पूरा भरोसा है कि हमारा घर नहीं टूटेगा तो क्या हम सभी अपना क्रमिक अनशन समाप्त कर दें। इस पर प्रभारी मंत्री ने चुप्पी साध ली और कहा कि 15 नवम्बर को हम पुन: आंएगे तब चर्चा करेंगे। इस पर लोगों ने कहा कि हम सब विगत 58 दिनों से अनशन पर है परंतु अब तक प्रशासन की तरफ से कोई भी सुध लेने नहीं पहुचा। इस पर प्रभारी मंत्री ने कलक्टर से बात कर किसी को भेजने की बात कही।


भाजपाई कर रहे राजनीति
हमें अध्यक्ष द्वारा यह कहकर बुलाया गया था कि प्रभारी मंत्री से सर्वदलीय बैनर तले नगर की समस्या को रखना है। लेकिन संचालनकर्ताओं ने इस कार्यक्रम को भाजपामयी कर मुद्दे से भटकते हुए प्रभारी मंत्री कांग्रेसियों को कोसने लगे जबकि मुद्दा नगर बचाने का था। जबकि सर्वप्रथम नगर की समस्या को लेकर कांग्रेसियों ने पुनर्विचार याचिका एवं अध्यादेश लाने की बात रखी व भाजपाई केवल राजनीति कर रहे हैं।
बलराम शर्मा, विधायक प्रतिनिधि


मंच को भाजपामय बनाने की कोशिश
हम सर्वदलीय मंच के तले लोगों के लिए एकजुट है परंतु उसे भाजपामय बनाने की कोशिश की जा रही है। जबकि उन्हें ऐसा विपक्ष कहा मिलेगा जो नगर की समस्या को लेकर स्वयं सरकार से अध्यादेश लाकर लोगों को बचाने की मांग कर रहा है। नेेता प्रतिपक्ष टीएस सिंहदेव ने भी इस पर पत्र लिखा है। भीड़ में सभी दलों को बुलाकर ऐसी ओछी राजनीति करना कहीं से भी सही नहीं है।
दीप्ति स्वाईं, जिलाध्यक्ष महिला कांग्रेस

rampravesh vishwakarma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned