पुलिस को देखकर भागने लगा युवक, दौड़ाकर पकड़ा तो बोरे से निकला नशा

क्राइम ब्रांच व गांधीनगर पुलिस की संयुक्त कार्रवाई, 92 हजार रुपए है बाजार में गांजे की कीमत, पुलिस ने एनडीपीएस एक्ट के तहत की कार्रवाई

By: rampravesh vishwakarma

Published: 29 Aug 2017, 08:00 PM IST

अंबिकापुर. गांजा तस्कर को मुखबिर की सूचना पर क्राइम ब्रांच व गांधीनगर पुलिस ने सरगवां मुख्य मार्ग से गिरफ्तार किया। पिछले एक वर्ष से आरोपी ओडिशा से गांजा लाकर उत्तरप्रदेश व सूरजपुर जिले के भटगांव में खपा रहा था। युवक के पास से पुलिस को 9 किलो 200 ग्राम गांजा भी मिला। जब्त गांजे की कीमत 92 हजार रुपए बताई जा रही है। पुलिस ने युवक को गिरफ्तार कर उसके खिलाफ एनडीपीएस एक्ट के तहत कार्रवाई की है।

सरगुजा जिले के एडिशनल एसपी रामकृष्ण साहू ने बताया कि नशे के खिलाफ एसएसपी के मार्गदर्शन में विशेष अभियान चलाया जा रहा है। सीएसपी आरएन यादव के मार्गदर्शन में गांधीनगर व क्राइम ब्रांच की संयुक्त टीम को अवैध मादक पदार्थ की जानकारी एकत्रित करने को भी लगाया गया है। मुखबिर से सोमवार की रात क्राइम ब्रांच की टीम को जानकारी मिली की एक युवक सरगवां मुख्य मार्ग पर बाइक से गांजा लेकर आ रहा है।

जानकारी मिलते ही क्राइम ब्रांच व गांधीनगर पुलिस की टीम मौके पर पहुंच गई। इसी बीच सरगवां के पास स्प्लेंडर बाइक का चालक पुलिस को देखकर भागने लगा। इससे पुलिस को बाइक चालक की गतिविधियों पर संदेह हुआ। इसके बाद पुलिस टीम ने दौड़ाकर पकड़ लिया और उसकी तलाशी ली तो उसके पास एक सफेद रंग का बोरा था। उसमें ९ किलो २०० ग्राम गांजा था।

पूछताछ में उसने अपना नाम लालचंद अगरिया पिता जगसाय अगरिया 35 वर्ष, निवासी ग्राम परसडीहा वाड्रफनगर तथा वर्तमान में सरगवां में स्थित किराये के मकान में रहना बताया। पुलिस के अनुसार युवक के पास से बरामद गांजे की कीमत लगभग ९२ हजार रुपए है। पुलिस ने युवक को धारा 20बी एनडीपीएस के तहत गिरफ्तार कर लिया है।

कार्रवाई में गांधीनगर टीआई सुरेश भगत, एएसआई समरेन्द्र सिंह, आरक्षक अरविन्द उपाध्याय, विजय रवि, संजय नागेश, विकास सिन्हा, क्राइम ब्रांच प्रभारी भूपेश सिंह, प्रधान आरक्षक रामअवध सिंह, धीरज गुप्ता, आरक्षक उपेन्द्र सिंह, विकास सिंह, मनीष यादव, अमित विश्वकर्मा, जयदीप सिंह, भोजराज पासवान, दशरथ राजवाड़े, राकेश शर्मा, बृजेश राय, विवेक राय सहित अन्य लोग शामिल थे।


एक वर्ष में 2 क्विंटल खपा चुका है गांजा
युवक ने एडिशनल एसपी को बताया कि पिछले एक वर्ष से वह गांजे का कारोबार कर रहा है। ओडिशा में उसका दोस्त है, जो गांजा वहां से महीने में दो बार भेजता है। एक बार में उसके घर 10 से 20 किलो गांजा पहुंचाया जाता है। इसे वह उत्तरप्रदेश के मिर्जापुर जिले व भटगांव व जरही क्षेत्र में खपाता था। अब तक वह 2 क्विंटल से अधिक गांजा खपा चुका है। इसके पूर्व कभी भी वह किसी भी पुलिस के गिरफ्त मे ंनहीं आया है।


ओडिशा से आता है गांजा लेकिन गिरफ्तारी के बाद नहीं होती कार्रवाई
हमेशा पुलिस गांजा तस्करों को गिरफ्तार करती है। आरोपी के गिरफ्तारी के दौरान अक्सर उनके द्वारा यह बताया जाता है कि वे ओडिशा से गांजा लाकर अन्य जगहों पर खपाते हैं। पुलिस के सामने कई बार आरोपियों द्वारा नाम भी बताया जाता है। लेकिन हमेशा गिरफ्तारी कर मुख्य आरोपी को पकडऩे का प्रयास पुलिस नहीं करती है अथवा गांजा के ट्रैक को तोडऩे का प्रयास भी नहीं करती है। ताकि ओडिशा की तरफ से आने वाले गांजे को सरगुजा की सीमा पर ही रोका जा सके।

Show More
rampravesh vishwakarma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned