Video : जब बच्चों की सिटी पर चलने लगा शहर, अब महीने में 2 दिन संभालेंगे ट्रैफिक व्यवस्था

अचानक शहर के चौक-चौराहों पर स्काउट-गाइड के डे्रस में बच्चों को शहर की ट्रैफिक व्यवस्था संभालते देख लोग पड़े अचंभे में, यातायात जवानों ने दी ट्रेनिंग

By: rampravesh vishwakarma

Published: 18 Aug 2017, 05:31 PM IST

अंबिकापुर. शहर के सभी चौक-चौराहों की ट्रैफिक व्यवस्था शुक्रवार को अचानक बच्चों को सौंप दी गई। उनकी सिटी बजते ही गाडिय़ां रुकने और चलने लगीं। यह देख वाहन चालक भी संशय में पड़ गए। जब उन्हें पता चला कि स्काउड-गाइड व रोवर्स-रेंजर्स को ट्रैफिक व्यवस्था संभालने की ट्रेनिंग दी जा रही है तब वे बच्चों का सहयोग करने लगे।

अंबिकापुर शहर के गांधी चौक, अंबेडकर चौक, घड़ी चौक, संगम चौक, महामाया चौक, बिलासपुर चौक, रामानुजगंज चौक सहित अन्य चौक-चौराहों पर यह नजारा सुबह 10 से 4 बजे तक देखा गया। बताया जा रहा है कि ये बच्चे महीने में 2 बार यातायात जवानों की निगरानी में शहर की ट्रैफिक व्यवस्था संभालेंगे।


पुलिस व यातायात विभाग के सहयोग से भारत स्काउट्स-गाइड्स छत्तीसगढ़ द्वारा वाहन चालकों को ट्रैफिक नियमों की जानकारी देने व खुद प्रशिक्षण प्राप्त करने शुक्रवार को शहर की ट्रैफिक व्यवस्था संभाली गई। इससे पूर्व एसएसपी आरएस नायक, एएसपी आरके साहू व यातायात प्रभारी भारद्वाज सिंह द्वारा सरगुजा जिले के स्काउटर्स-गाइडर्स व रोवर्स-रेंजर्स को सड़क पर चलने के 11 नियम बताए गए।

इसी कड़ी में अंबिकापुर सहित जिलेभर के चौक-चौराहों में स्काउट-गाइड्स ने यातायात व्यवस्था संभाली। बच्चों ने चौक-चौराहों पर खड़े होकर यातायात जवानों के साथ वाहन को रुकने व जाने के इशारे किए। इस दौरान स्काउट-गाइड के छात्र-छात्राएं हाथ में यातायात नियम से संबंधित तख्ती भी लिए थे।

वे तख्ती दिखाकर वाहन चालकों को यातायात के नियम भी बताते रहे। इस कार्यक्रम में शहर के मल्टीपरपज स्कूल, होलीक्रॉस स्कूल, सेंट जेवियर्स स्कूल, संत हरकेवल दास स्कूल, अंबिका मिशन स्कूल सहित जिलेभर के अन्य स्कूलों के स्काउटर्स-गाइडर्स व रोवर्स-रेंजर्स शामिल हुए। अंबिकापुर शहर के गांधी चौक, अंबेडकर चौक, घड़ी चौक, संगम चौक, महामाया चौक, बिलासपुर चौक, रामानुजगंज चौक सहित अन्य चौक-चौराहों पर यह नजारा सुबह 10 से 4 बजे तक देखा गया।


महीने में 2 बार संभालेंगे व्यवस्था
बच्चों को यातायात के प्रति जागरुक करने यह कार्यक्रम शुरु किया गया है। इसके तहत महीने में 2 बार बच्चे यातायात जवानों की निगरानी में सुबह 10 से शाम 4 बजे तक चौक-चौराहों पर ट्रैफिक व्यवस्था संभालेंगे।

rampravesh vishwakarma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned