scriptChandra Grahan 2021: Lord Ganesha cursed moon in anger, since then... | Chandra Grahan 2021: चांद को अपने रूप पर था घमंड, भगवान गणेश का उड़ाया मजाक तो गुस्से में दे दिया था श्राप, तब से... | Patrika News

Chandra Grahan 2021: चांद को अपने रूप पर था घमंड, भगवान गणेश का उड़ाया मजाक तो गुस्से में दे दिया था श्राप, तब से...

Chandra Grahan 2021: पौराणिक कहानी (mythological story) के अनुसार अपने रूप पर गुमान के चलते चांद किसी का भी मजाक (Fun) उड़ा देता था, भगवान गणेश ने जब उसे श्राप दिया तो उसे अपनी गलती का एहसास हुआ और माफी मांगी लेकिन...

अंबिकापुर

Published: November 18, 2021 10:15:22 pm

Chandra Grahan 2021: किसी खूबसूरत चीज की तुलना चांद से की जाती है तो वह अपने आप को और खूबसूरत समझता है। लेकिन चांद को भी कई कष्टों से गुजरना पड़ता है। पौराणिक कहानी के अनुसार चांद को अपने रूप पर घमंड हो गया था और वह किसी का भी मजाक उड़ा देता था।
Lord Ganesha and Moon story
Chandra Grahan 2021
चांद की इस हरकत से सब अपने आप को अपमानित महसूस करते थे। लोगों को अपमानित देख चांद को अच्छा लगता था। एक दिन उसने भगवान गणेश का मजाक उड़ा दिया, इससे वे गुस्से में आ गए और चांद को श्राप दे दिया।
उन्होंने श्राप देते वक्त कहा कि जो कोई भी तुम्हे निहारेगा वह कलंक का भागीदार बनेगा। चांद को जब ये श्राप मिला तो उसकी पत्नियां उससे दूर हो गईं। इसके बाद चांद को अपनी गलती का एहसास हुआ और उसने भगवान गणेश से माफी मांगी।

छलनी से होने लगी चांद की पूजा
भगवान गणेश से जब चांद ने माफी मांगी तो उन्होंने कहा कि मेरा श्राम वापस नहीं आ सकता लेकिन जिस दिन तुम पूरे आकार में होगे, अर्थात पूर्णिमा के दिन लोग तुम्हारी पूजा करेंगे।
यह भी पढ़ें
Chandra Grahan 2021 Niyam: चंद्रग्रहण के दौरान न करें ये काम, ग्रहण से पहले और बाद में जरूर करें ये काम

इसके लिए उन्हें तुम्हारी परछाई की पूजा करनी होगी, तब से चांद की पूजा छलनी से होने लगी और चांद की पत्नियां वापस लौट आईं। उसका वैवाहिक जीवन प्रभावित हुआ था इस वजह से बड़े-बुजुर्ग अविवाहितों को चांद को निहारने से मना करते हैं।

इस साल का अंतिम चंद्रग्रहण
19 नवंबर यानी कार्तिक पूर्णिमा के दिन साल 2021 का अंतिम चंद्र ग्रहण लगने जा रहा है। हालांकि ये ग्रहण भारत में प्रभावी नहीं है क्योंकि ये जिस वक्त लगेगा उस वक्त भारत में दिन रहेगा लेकिन ये जिस वक्त खत्म होगा उस वक्त देश के पूर्वोत्तर राज्यों में सूर्यास्त होगा और तब उस वक्त ये आंशिक रेखा के रूप में नार्थ ईस्ट में नजर आएगा।
ये सदी का सबसे लंबा आंशिक चंद्र ग्रहण कहा जा रहा है। यह भारतीय समय के अनुसार सुबह 11.34 बजे प्रारंभ होगा और शामम 5.33 पर पूर्ण होगा। ग्रहण की कुल अवधि 5 घंटे 59 मिनट रहेगी।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

इन नाम वाली लड़कियां चमका सकती हैं ससुराल वालों की किस्मत, होती हैं भाग्यशालीजब हनीमून पर ताहिरा का ब्रेस्ट मिल्क पी गए थे आयुष्मान खुराना, बताया था पौष्टिकIndian Railways : अब ट्रेन में यात्रा करना मुश्किल, रेलवे ने जारी की नयी गाइडलाइन, ज़रूर पढ़ें ये नियमधन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोग, देखें क्या आप भी हैं इनमें शामिलइन 4 राशि की लड़कियों के सबसे ज्यादा दीवाने माने जाते हैं लड़के, पति के दिल पर करती हैं राजशेखावाटी सहित राजस्थान के 12 जिलों में होगी बरसातदिल्ली-एनसीआर में बनेंगे छह नए मेट्रो कॉरिडोर, जानिए पूरी प्लानिंगयदि ये रत्न कर जाए सूट तो 30 दिनों के अंदर दिखा देता है अपना कमाल, इन राशियों के लिए सबसे शुभ

बड़ी खबरें

विश्व के सबसे लोकप्रिय नेता बने PM Modi, ग्लोबल सर्वे में बाइडेन और ट्रूडो जैसे दिग्गजों को पछाड़ाCorona Update: कोरोना ने बनाया नया रिकॉर्ड, 24 घंटे में 3 लाख 47 हजार नए केस, 2.51 लाख रिकवरदिल्ली में घटते कोरोना मामलों के बीच वीकेंड कर्फ्यू हटाने का फैसला, CM अरविन्द केजरीवाल ने उपराज्यपाल को भेजा पत्र50 साल से जल रही ‘अमर जवान ज्योति’ आज से इंडिया गेट पर नहीं, राष्ट्रीय युद्ध स्मारक पर जलेगीT20 World Cup 2022: ICC ने जारी किया शेड्यूल, इस दिन होगी भारत-पाकिस्तान की टक्करप्रधानमंत्री 5 फरवरी को हैदराबाद में रामानुजाचार्य की 216 फुट ऊंची प्रतिमा का करेंगे अनावरण, 120 किलो सोने से बनी है ये प्रतिमाPariksha Pe Charcha 2022: छात्र, शिक्षक अब 27 जनवरी तक कर सकते हैं आवेदनबोर्ड का नया कदम, परीक्षा के पहले भी होगा परीक्षार्थियों का टेस्ट
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.