खून के छींटे देखते-देखते जंगल में पहुंच गया युवक, यहां पिता की औंधे मुंह पड़ी लाश देख उड़ गए होश, फिर...

Chhattisgarh Crime: दो दिन से घर नहीं पहुंचा था पिता, गांव के ही एक व्यक्ति के घर गया तो बाहर दिखे खून के छींटे, टांगी से वार कर पहले की गई हत्या (Murder) फिर फेंक दिया गया शव

By: rampravesh vishwakarma

Updated: 03 Dec 2019, 05:26 PM IST

अंबिकापुर. गांधीनगर थाना क्षेत्र अंतर्गत ग्राम बलसेढ़ी के जंगल में मंगलवार की सुबह एक अधेड़ की लाश मिलने से सनसनी फैल गई है। वह 2 दिन से घर से लापता था। 1 दिसंबर की शाम वह घर से निकला था। उसका पुत्र जब खोजते हुए 3 दिसंबर की सुबह गांव के ही एक व्यक्ति के घर पहुंचा तो बाहर खून के छींटे दिखे। (Chhattisgarh Crime)

उसी दिशा में वह बढ़ते वह जंगल में पहुंचा, यहां पिता की औंधे मुंह लाश (Murder) देख उसके होश उड़ गए। लाश के पास ही खून लगा बोरा भी मिला। सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची और पंचनामा पश्चात शव बरामद किया। जिस व्यक्ति के साथ मृतक अंतिम बाद देखा गया था वह घर से फरार है। पुलिस की शक की सुई उसी पर घूम रही है।

गांधीनगर थाना क्षेत्र के ग्राम बलसेढ़ी निवासी रामभरोस चेरवा पिता रूपसाय 45 वर्ष राजमिस्त्री था। रविवार की शाम वह घर से निकला लेकिन रातभर वापस नहीं आया। परिजनों ने उसकी खोजबीन शुरु की लेकिन कहीं पता नहीं चला। दूसरे दिन भी उसकी कोई खबर नहीं मिली।

इसी बीच गांव वालों ने उसके पुत्र टाइगर को बताया कि उसका पिता गांव के ही आनंद चेरवा व विवेक उर्फ बोधा के साथ दिखा था। मंगलवार की सुबह वह आनंद के घर गया तो उसने बताया कि रामभरोस के संबंध में कोई भी जानकारी होने से इनकार कर दिया। जब पुत्र उसके घर से बाहर निकला तो वहां खून के छींटे दिखाई दिए।

खून के छींटे देखते हुए वह गांव से लगे जंगल में पहुंच गया। यहां पिता की औंधे मुंह लाश देख उसके होश उड़ गए। इसके बाद उसने गांव में इसकी जानकारी दी। सूचना पर गांधीनगर टीआई राहुल तिवारी दल-बल व फोरेंसिक एक्सपर्ट के साथ मौके पर पहुंचे। (Chhattisgarh crime)

शव की जांच की गई तो गर्दन के पास टांगी से वार (Murder in Ambikapur) किए जाने के निशान मिले। फिर उन्होंने पंचनामा पश्चात शव को बरामद कर पीएम के लिए मेडिकल कॉलेज अस्पताल भिजवाया। इस दौरान वहां ग्रामीणों की भीड़ लगी रही।


तीनों ने पी थी शराब, आनंद घर से फरार
बताया जा रहा है कि घर से निकलने के बाद मृतक रामभरोस ने आनंद व विवेक उर्फ बोधा के साथ गांव में ही शराब का सेवन किया था। शराब पीने के बाद रामभरोस से पानी पीने की इच्छा जताई तो घर पास होने के कारण आनंद उसे अपने घर ले गया था, जबकि बोधा अपने घर आ गया था।


घर में चल रही थी लिपाई-पुताई
मृतक रामभरोस का पुत्र टाइगर जब पिता को खोजते हुए आनंद के घर पहुंचा तो उसके घर लिपाई-पुताई चल रही थी। घर के बाहर खून के छींटे थे। वहीं लाश मिलने के स्थान पर भी खून लगा बोरा मिला। आनंद भी अपने घर से फरार है। फिलहाल पुलिस की शक की सुई आनंद के इर्द-गिर्द ही घूम रही है।

अंबिकापुर की क्राइम की खबरें पढऩे के लिए क्लिक करें- Ambikapur Crime

Show More
rampravesh vishwakarma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned