scriptChhattisgarh School: Teachers worried about education level in CG | शिक्षकों ने छत्तीसगढ़ में शिक्षा के स्तर पर जताई चिंता, कहा- स्कूलों को अफसरों ने बना दिया है प्रयोगशाला | Patrika News

शिक्षकों ने छत्तीसगढ़ में शिक्षा के स्तर पर जताई चिंता, कहा- स्कूलों को अफसरों ने बना दिया है प्रयोगशाला

Chhattisgarh School: छत्तीसगढ़ टीचर्स एसोसिएशन (Chhattisgarh Teachers Association) का कहना कि शिक्षकों (Teachers) का उपयोग अब पढ़ाने में कम जबकि बाबूगीरी (Clerk working) करने में ज्यादा हो गया है, शिक्षकों ने गिनाया कि उनसे क्या-क्या कराया जाता है काम, ऐसे में पढ़ाई होती रहेगी प्रभावित

अंबिकापुर

Published: May 30, 2022 11:42:33 am

अंबिकापुर. Chhattisgarh School: छत्तीसगढ़ टीचर्स एसोसिएशन के प्रदेशाध्यक्ष संजय शर्मा, प्रदेश उपाध्यक्ष हरेंद्र सिंह, जिला अध्यक्ष मनोज वर्मा ने कहा है कि छत्तीसगढ़ के शिक्षा का स्तर बहुत ही गंभीर व चिंतन का विषय है। विभाग के अधिकारी स्कूल को प्रयोगशाला बना दिए हैं, इस कारण शिक्षा स्तर (Education level) में सुधार नामुमकिन हो गया है। 365 दिन में 366 प्रकार की जानकारी मंगाई जाती है। प्रदेश उपाध्यक्ष हरेंद्र सिंह ने बताया कि सभी जानकारी अर्जेंट होती है। शिक्षक कागज, ऑनलाइन व वाट्सएप में ज्यादा जानकारी भेजते हैं, बच्चों से कम जुड़ पाते हैं। शिक्षक जब तक अध्यापन के लिए पूर्णत: मुक्त न हो, अभिभावकों की सहभागिता न हो, स्कूल घर परिवार में शैक्षिक माहौल न हो, तो शिक्षा में सुधार सम्भव नही है।
Chhattisgarh school education level
Teachers association representatives

जिला अध्यक्ष मनोज वर्मा ने बताया कि स्कूल में जाति प्रमाण पत्र, निवास प्रमाण पत्र बनवाना, मध्यान्ह भोजन, छात्रवृत्ति, मतदाता सूची बनाने का कार्य, निर्वाचन, सभी प्रकार का सर्वे, साइकिल वितरण, डाक बनाना, मीटिंगए प्रशिक्षण, टीकाकरण, दवाई वितरण आदि के बाद कुछ समय बच जाए तब पढ़ाई कार्य का समय है। इन्ही सब कार्य में समय निकल जाता है तो आखिर शिक्षक पढ़ाएगा कब।
शिक्षा विभाग एक प्रयोगशाला (Laboratory) बन गया है जहां पर एक कार्य पूरा नहीं होता, उसके पहले दूसरा प्रोजेक्ट लाद दिया जाता है। कुछ दिनों बाद दोनों का पता नहीं चलता कि उस पर हुआ क्या है। वास्तव में शिक्षकों को पढ़ाई कराने का पूर्ण अवसर ही नहीं मिलता। इतने अधिक गैर शिक्षकीय कार्य कराए जाते हैं कि शिक्षक से ज्यादा वह बाबू बन कर रह गया है।
यह भी पढ़ें
इस स्कीम में हर महीने जमा करें मात्र 1515 रुपए, साढ़े 31 लाख रुपए मिलने की है गारंटी

शिक्षा स्तर गिरने का एक और महत्वपूर्ण कारण दर्ज छात्र संख्या में वृद्धि, परन्तु सेटअप 2008 का, जिसमें शिक्षको की सीमित संख्या है, नवीन सेटअप की जरूरत है। शालाओं में कार्यालयीन कार्य की अधिकता भी है। प्राथमिक व माध्यमिक शाला में कम से कम 5 शिक्षक अनिवार्य हो। आज यह स्थिति है अधिकांश शाला में 2 शिक्षक जिसमें 1 पूरा साल भर नए डाक व संकुल मीटिंग में ही व्यस्त रहता है।
यह भी पढ़ें
कॉलेज के 6 दोस्त नहाने गए थे डेम, 2 की डूबकर मौत, दूसरे की 12 घंटे बाद मिली लाश


शिक्षकों से राय लेकर तैयार हो योजना
मनोज वर्मा ने कहा है कि शिक्षा विभाग (Education Department) कोई भी योजना लागू करे, उसे शिक्षक समुदाय के पास पहले सार्वजनिक तौर पर चर्चा में लाना चाहिए, फिर लागू करना चाहिए। शिक्षकों को थोपी गई नित नए अल्पकालिक योजना से शिक्षा गुणवत्ता की कल्पना कोरी है।
ऐसी कोई शिक्षा योजना बन ही नही सकती जो केवल 6 महीने या साल भर में आपको तुरंत रिजल्ट दे सके। एक निरन्तरता व स्थायी, दीर्घकालिक कार्ययोजना, अनुभवी शिक्षकों के सहयोग से बनना चाहिए, न कि 2 या 4 माह की कार्ययोजना।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

VP Jagdeep Dhankhar: 'किसान पुत्र' जगदीप धनखड़ ने ली उपराष्ट्रपति पद की शपथ, झुंंझुनू सहित पूरे राजस्थान में जश्न का माहौलMaharashtra: महाराष्ट्र में स्टील कारोबारी पर इनकम टैक्स का छापा, करोड़ों रुपये कैश सहित बेनामी संपत्ति जब्तJammu-Kashmir: उरी जैसे हमले की बड़ी साजिश हुई फेल, Pargal आर्मी कैंप में घुस रहे 3 आतंकी ढेरममता बनर्जी को एक और झटका, अब पशु तस्करी केस में TMC नेता अनुब्रत मंडल को CBI ने किया गिरफ्तारकाले कारनामों को छिपाने के लिए 'काला जादू' जैसे अंधविश्वासी शब्दों का इस्तेमाल करें बंद, राहुल गांधी ने PM मोदी पर साधा निशानाMaharashtra: महाराष्ट्र में मंत्रिमंडल विस्तार के बाद अब विभाग बंटवारे का इंतजार, गृह और वित्त मंत्रालय पर मंथन जारीमुख्यमंत्री अशोक गहलोत आज फिर दिल्ली पहुंचे ,उपराष्ट्रपति के शपथ ग्रहण समारोह में होंगे शामिलमुफ़्त की रेवड़ी पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा- ये एक गंभीर मुद्दा, कमेटी बनाने के दिए निर्देश
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.