इस विश्वविद्यालय ने महिला-पुरुष खिलाडिय़ों को बिना जूतों के चैंपियन बनने भेजा ओडिशा, नंगे पैर खेलेंगे हमारे खिलाड़ी

इस विश्वविद्यालय ने महिला-पुरुष खिलाडिय़ों को बिना जूतों के चैंपियन बनने भेजा ओडिशा, नंगे पैर खेलेंगे हमारे खिलाड़ी
University team

Ram Prawesh Wishwakarma | Publish: Oct, 06 2019 05:18:53 PM (IST) | Updated: Oct, 06 2019 05:18:54 PM (IST) Ambikapur, Surguja, Chhattisgarh, India

Chhattisgarh University: ओडिशा के भुवनेश्वर में पूर्वी क्षेत्र अंतरविश्वविद्यालयीन प्रतियोगिता के लिए कीट विश्वविद्यालय गई है सरगुजा विवि की महिला फुटबॉल, बास्केटबॉल, पुरुष वालीबॉल तथा क्रॉस कंट्री दौड़ की टीमें

अंबिकापुर. सरगुजा का संत गहिरा गुरु विश्वविद्यालय अपने ऐसे कारनामों से सुर्खियों में रहता है, जिससे छात्रों व खिलाडिय़ों को कई बार नुकसान ही हुआ है। किसी विषय के परीक्षा परिणाम में एक साथ सभी छात्रों को शून्य अंक देने का मामला हो या रिवेल्यूएशन रिजल्ट आने से पहले पूरक परीक्षा लेने का।

ऐसे मामले हमेशा यहां से सामने आते रहते हैं। इस बार विश्वविद्यालय ने खेल प्रतिभाओं के साथ छल किया। ओडिशा के भुवनेश्वर स्थित कीट विश्वविद्यालय में सरगुजा से फुटबॉल (महिला), बास्केटबॉल (महिला) और वालीबॉल (पुरुष) टीम तथा कर्नाटक के मंगलौर विश्वविद्यालय में क्रॉस कंट्री टीम भाग लेने गई है।

पूर्वी क्षेत्र अंतरविश्वविद्यालयीन प्रतियोगिता में भाग लेने गई सभी टीमों को विश्वविद्यालय ने टै्रक शूट, ड्रेस तो दिया है लेकिन जूते नहीं दिए गए हैं। ऐसे में खिलाडिय़ों से बेहतर परिणाम की उम्मीद बेमानी होगी। विवि प्रबंधन का कहना है कि जूतों की खरीदी के लिए समय पर निविदा नहीं हो पाई।

जब खिलाड़ी प्रतियोगिता में भाग लेकर आ जाएंगे तो उन्हें जूते वितरित कर दिए जाएंगे। टीम रवानगी के समय कुलपति प्रोफेसर रोहिणी प्रसाद, कुलसचिव विनोद एक्का, खेल समन्वयक डॉ. बीपी तिवारी तथा चारों टीम के कोच, मैनेजरों ने समूह फोटो भी खिंचाई है, लेकिन खिलाडिय़ों को जूते कहां से मिलेंगे, इस पर किसी ने भी ध्यान नहीं दिया, अब इससे बड़ी विडंबना और क्या हो सकती है।

इस विश्वविद्यालय ने महिला-पुरुष खिलाडिय़ों को बिना जूतों के चैंपियन बनने भेजा ओडिशा, नंगे पैर खेलेंगे हमारे खिलाड़ी

47 खिलाड़ी-अधिकारियों का दल ले रहा भाग
भुवनेश्वर के कटक विश्वविद्यालय में संत गहिरा गुरु विश्वविद्यालय की तीन टीमें भाग ले रहीं हंै। फुटबॉल महिला टीम में 18 खिलाड़ी, 1 कोच हंै। बास्केटबॉल महिला टीम में 12 खिलाड़ी एक कोच और एक मैनेजर हैं। वालीबॉल पुरुष टीम में 12 खिलाड़ी एक कोच और एक मैनजर हंै। तीनों में बास्केटबॉल (महिला) टीम के साथ मैनेजर साबिर अली, कोच आकांक्षा केरकेट्टा, वालीबॉल (पुरूष) टीम के साथ मैनेजर आशा रजक, कोच महेश्वर राजवाड़े तथा फुटबॉल (महिला) टीम के साथ मैनेजर ज्योति हैं।


बिना जूतों के ही दौड़ेंगे क्रॉस कंट्री धावक
कर्नाटक के मंगलौर विश्वविद्यालय में क्रॉस कंट्री प्रतियोगिता में विश्वविद्यालय के छह खिलाडिय़ों की टीम गई है, जिसके मैनेजर प्रवीण शर्मा और कोच सुरेश यादव हैं। छह पुरुष खिलाडिय़ों को टै्रकसूट, हाफ पैंट और टी-शर्ट दिए गए हैं। धावकों को जूते नहीं दिए गए हंै।

इस विश्वविद्यालय ने महिला-पुरुष खिलाडिय़ों को बिना जूतों के चैंपियन बनने भेजा ओडिशा, नंगे पैर खेलेंगे हमारे खिलाड़ी

चयन के बाद विवि ने नहीं भेजी शतरंज की टीम
कीट विश्वविद्यालय में यूनिवर्सिटी गेम 2019-20 के दौरान शतरंज (महिला) खिलाडिय़ों को भाग लेना है। ६ से ९ अक्टूबर तक आयोजित प्रतियोगिता में संत गहिरा गुरु विश्वविद्यालय से शतरंज का कोई खिलाड़ी भाग नहीं ले रहा है। २० अगस्त को शासकीय महाविद्यालय बलरामपुर में चयन प्रतियोगिता आयोजित हुई थी।

चयन में पांच पुरुष खिलाड़ी तथा चार महिला खिलाडिय़ों का चयन किया गया था। महिला खिलाडिय़ों में श्री साईं बाबा आदर्श महाविद्यालय से चेतना पाठक, आलमिन, राजीव गांधी शासकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय अंबिकापुर से पूनम बेक तथा शासकीय महाविद्यालय बलरामपुर से वंशिका सोनी हैं।


निविदा देर से होने के कारण हुई समस्या
विश्वविद्यालय के खेल समन्वयक डॉ. बीपी तिवारी ने बताया कि एक बार निविदा हुई थी, जिसे निरस्त कर दिया गया। दूसरी बार निविदा शुक्रवार को हुई। निविदा देर से होने के कारण खिलाडिय़ों के सामान नहीं खरीदे जा सके। खिलाडिय़ों को जूते नहीं दिए गए हंै। स्वयं के जूते का उपयोग करेंगे।

टीम के लौटने के बाद खिलाडिय़ों को जूते दे दिये जाएंगे। उन्होंने बताया कि गत वर्ष भी कुछ टीम के खिलाडिय़ों को जूते नहीं दिए जा सके थे। टीम के लौटने के बाद दिए गए थे।

संत गहिरा गुरु विवि की खबरें पढऩे के लिए क्लिक करें- Saint Gahira Guru University

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned