परियोजना अधिकारियों और सुपरवाइजरों पर भडक़े कलक्टर, कहा- अच्छे काम पर सम्मान तो लापरवाही पर करूंगा कड़ी कार्रवाई

Collector: महिला एवं बाल विकास विभाग के परियोजना अधिकारियों व सुपरवाइजरों पर जताई कड़ी नाराजगी

By: rampravesh vishwakarma

Published: 25 Aug 2020, 03:43 PM IST

अंबिकापुर. बलरामपुर कलक्टर श्याम धावड़े (Collector) ने संयुक्त जिला कार्यालय के सभा कक्ष में महिला एवं बाल विकास विभाग की समीक्षा बैठक ली। बैठक में कलक्टर ने मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान सहित बच्चों एवं गर्भवती महिलाओं के लिए संचालित विभिन्न योजनाओं पर विस्तार पूर्वक चर्चा की।

उन्होंने महिला बाल विकास विभाग के परियोजना अधिकारियों एवं सुपरवाइजरों की कार्यशैली तथा योजनाओं से जुड़े सवालों पर सन्तोषप्रद जवाब न मिलने पर कड़ी नाराजगी जताई। कलक्टर ने कहा कि अच्छा काम करने पर सम्मानित किया जाएगा लेकिन लापरवाही पर कड़ी कार्रवाई भी की जाएगी।


कलक्टर (Collector) ने अधिकारियोंं को कहा कि कोविड-19 के कारण मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान सहित योजनाओं के क्रियान्वयन के तरीके में बदलाव जरूर आया है किन्तु उद्देश्य यथावत है। पूरक पोषण आहार का वितरण डोर टू डोर नियमित रूप से करें तथा अधिकारी पूरी सक्रियता एवं सतर्कता के साथ पोषण आहार की आपूर्ति का समय-समय पर निरीक्षण भी करें।

कलक्टर ने कहा कि मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान राज्य शासन की महत्वाकांक्षी योजना है इसे गंभीरता पूर्वक संचालित किया जाना है तथा इसमे किसी भी प्रकार की लापरवाही स्वीकार नहीं होगी। सुपोषण अभियान हमारा सामाजिक दायित्व भी है तथा एनिमिया और कुपोषण मुक्त सामाज हमारी भावी पीढ़ी के लिए सबसे बड़ा उपहार होगा।

बैठक में महिला बाल विकास विभाग के अधिकारियों द्वारा अण्डा वितरण से जुड़ी समस्याएं बताने पर कलक्टर ने तत्काल निराकरण करने के निर्देश दिये।

उन्होंने कहा कि किसी भी प्रकार की समस्या आने पर उच्च अधिकारियों को अवगत करायें ताकि उनका निराकरण किया सके। बैठक में जिला पंचायत सीईओ हरीश एस, जिला महिला एवं बाल विकास अधिकारी जेआर प्रधान, समस्त परियोजना अधिकारी एवं सुपरवाइजर उपस्थित थे।


जवाब नहीं दे पाए परियोजना अफसर-सुपरवाइजर
बैठक में कलक्टर ने एक-एक कर परियोजना अधिकारियों तथा सुपरवाईजरों से चर्चा करते हुए सुपोषण अभियान में उनके द्वारा किये गये कार्यों की समीक्षा की। समीक्षा के दौरान अधिकारियों के जवाब सन्तोषप्रद न मिलने पर कड़ी कार्यवाही करने की बात कही।

उन्होंने अधिकारियों से दो टूक कहा कि अपने काम के साथ न्याय करें तथा सर्वोच्च प्राथमिकता प्राप्त मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान में अपना सर्वश्रेष्ठ प्रर्दशन दें। कार्यक्षेत्र में समस्याएं आती है उसका उचित सामाधान कर अपना कार्य करना है जो अधिकारी अच्छा कार्य करेंगे उन्हे सम्मानित किया जाएगा, लेकिन लापरवाही करने पर कड़ी कार्यवाही भी की जाएगी।


रेडी टू ईट की गुणवत्ता में न हो कमी
कलक्टर ने कहा कि अधिकारी क्षेत्र भ्रमण के दौरान रेडी टू ईट में शामिल किये जाने वाले पोषण आहार की निर्धारित मात्रा एवं गुणवत्ता की जांच अनिवार्य रूप से करें। रेडी टू ईट की गुणवत्ता में कमी पाये जाने पर संबंधित समूह के विरूद्ध कड़ी कार्यवाही करने के निर्देश दिये।

उन्होंने कहा कि अधिकारी सुपोषण तथा एनिमिया मुक्त अभियान में सरपंच, पंच, जनप्रतिनिधियों एवं ग्रामीणों को अनिवार्य रूप से शामिल कर उनका सहयोग लें।

rampravesh vishwakarma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned