नई सरकार के साथ पहली मीटिंग के बाद सख्त हुए कलक्टर, कहा- इसके लिए ईई और ठेकेदार होंगे जिम्मेदार

नई सरकार के साथ पहली मीटिंग के बाद सख्त हुए कलक्टर, कहा- इसके लिए ईई और ठेकेदार होंगे जिम्मेदार

Ram Prawesh Wishwakarma | Publish: Dec, 20 2018 08:45:25 PM (IST) Ambikapur, Surguja, Chhattisgarh, India

वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए हुई बैठक में प्रदेश सरकार के मंत्री ने रिंग रोड व राष्ट्रीय राजमार्गों के काम में तेजी लाने के दिए थे निर्देश

अंबिकापुर. प्रदेश में नई सरकार एक्शन मोड में नजर आ रही है, इसका असर प्रशासनिक तंत्र पर भी देखने को मिल रहा है। बुधवार को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कैबिनेट के दो मंत्री टीएस सिंहदेव व ताम्रध्वज साहू के साथ वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए प्रशासन व पुलिस के अधिकारियों की बैठक लेकर धान खरीदी सहित अन्य कार्यों को लेकर आवश्यक निर्देश दिए थे।

इसमें टीएस सिंहदेव ने अंबिकापुर के रिंग रोड व राष्ट्रीय राजमार्गों पर चल रहे सड़क निर्माण के कार्यों में तेजी लाने के निर्देश दिए थे।

इसके परिपालन में गुरुवार को कलक्टर डॉ. सारांश मित्तर ने जिला कार्यालय के सभाकक्ष में छत्तीसगढ़ राज्य सड़क विकास निगम एवं राष्ट्रीय राजमार्ग के अधिकारियों एवं ठेकेदारों की बैठक लेकर अम्बिकापुर के रिंग रोड निर्माण तथा अम्बिकापुर-बिलासपुर एवं अम्बिकापुर-पत्थलगांव सड़क के निर्माण में गति लाने के निर्देश दिए।

उन्होंने क्रियान्वयन एजेंसी से कहा कि सड़क निर्माण कार्यों में अधिक मशीनरी का उपयोग सुनिश्चित करते हुए सड़क निर्माण कार्यो को शीघ्रता से पूर्ण करायें।


कलक्टर ने रिंग रोड निर्माण की समीक्षा करते हुए कहा कि अम्बिकापुर के चौक-चौराहों पर आवश्यक निर्माण सुनिश्चित करें, ताकि लोगों को असुविधाओं का सामना न करना पड़े। उन्होंने रिंग रोड के एक ओर बनी सड़क के पीक्यूसी हो जाने तथा थोड़ी दूरी के अंतराल से पुन: पीक्यूसी कार्य पूर्ण वाले सड़क को जोडऩे के निर्देश दिए हैं।

रिंग रोड के पीक्यूसी कार्य पूर्ण होने तथा थोड़ी दूरी तक गैप होने पर वाहन चालकों को असुविधाओं का सामना करना पड़ता है, जिसे दृष्टिगत रखते हुए कलक्टर ने सड़क विकास निगम के कार्यपालन अभियंता एमएस धु्रव को तत्काल सड़कों को जोडऩे के निर्देश दिए हैं।

उन्होंने स्पष्ट किया है कि सीजीआरडीसी द्वारा सड़कों के किनारे खोदे गये गड्ढे के कारण होने वाली दुर्घटना के लिए कार्यपालन अभियंता एवं ठेकेदार जिम्मेदार होंगे। उन्होंने लरंगसाय चौक एवं मिशन चौक स्थित पेड़ों को काटने के लिए वन विभाग से तत्काल समन्वय कर पेड़ कटवाने के निर्देश दिए।

कलक्टर ने चौक पर स्थित मूर्तियों को शिफ्ट करने के लिए अनुविभागीय राजस्व अधिकारी से समन्वय करने कहा है। बैठक में वनमण्डलाधिकारी प्रियंका पाण्डेय, जिला पंचायत की मुख्य कार्यपालन अधिकारी नम्रता गांधी, अपर कलक्टर चन्द्रकांता ध्रुव, नगर निगम की आयुक्त सूर्यकिरण तिवारी, अनुविभागीय दण्डाधिकारी अजय त्रिपाठी, प्रभाकर पाण्डेय तथा संबंधित विभाग के अधिकारी एवं ठेकेदार उपस्थित थे।


पीपीपी मॉडल से लगेंगे ट्रैफिक सिग्नल
कलक्टर ने बताया कि चौराहों पर पीपीपी मॉडल से ट्रैफिक सिग्नल लगाए जाएंगे। चौराहों पर लगाए गए सीसीटीव्ही कैमरों को पुलिस विभाग के समन्वय से शिफ्ट किया जाएगा। कलक्टर ने 15 दिवस के भीतर सभी चौराहों पर आवश्यक निर्माण कार्य पूर्ण करने के निर्देश दिए।

भारत माता चौक से जीवन ज्योति हॉस्पिटल तक की दूसरी ओर के रिंग रोड को भी शीघ्र पूर्ण कराने के निर्देश दिए गए हैं। उन्होंने सीजीआरडीसी के कार्यपालन अभियंता को प्रति दिवस सड़क निर्माण कार्यों की प्रगति का प्रतिवेदन प्रस्तुत करने निर्देशित किया है।


मशीनरी बढ़ाकर काम में लाएं तेजी
कलक्टर ने अम्बिकापुर से बिलासपुर एवं अम्बिकापुर से पत्थलगांव राष्ट्रीय राजमार्ग के सड़क निर्माण कार्य की समीक्षा करते हुए कार्यपालन अभियंता बीके पटोरिया को मशीनरी बढ़ाकर कार्य में तेजी लाने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने अटेम नदी से उदयपुर तक 17.8 किलोमीटर की सड़क के चौड़ीकरण कार्य को शीघ्र पूर्ण करने निर्देशित किया है।

उन्होंने बताया कि लगभग 7 किलोमीटर में सड़क चौड़ीकरण का कार्य पूर्ण किया जा चुका है। उन्होंने डांडगांव तक की सड़क का सबग्रेड एवं जीएसबी कार्य 5 जनवरी तक पूर्ण करने के निर्देश दिए हैं। इसी प्रकार अम्बिकापुर से लखनपुर तक लगभग 19 किलोमीटर सड़क चौड़ीकरण कार्य की समीक्षा करते हुए जनपद पंचायत लखनपुर से लहपटरा तक 4.8 किलोमीटर सड़क का पीक्यूसी कार्य शीघ्र पूर्ण करने कहा है।


उपयोग की जा रही सड़कों की कराएं मरम्मत
कलक्टर ने सड़क चौड़ीकरण के दौरान वर्तमान में उपयोग की जा रही सड़कों की आवश्यक मरम्मत कराने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने अम्बिकापुर से पत्थलगांव तक सड़क निर्माण कार्य की समीक्षा करते हुए क्रियान्वयन एजेंसी से कहा कि पेड़ों को कटवाने के लिए वन विभाग तथा विद्युत पोल शिफ्टिंग के लिए विद्युत विभाग के अधिकारियों से समन्वय करने के निर्देश दिए।

कलक्टर ने बताया कि सिलसिला ग्राम से बतौली तक लगभग 1.8 किलोमीटर की सड़क के चौड़ीकरण में जीएसबी का कार्य पूर्ण किया जा चुका है।

उन्होंने रघुनाथपुर से सुआरपारा बतौली तक लगभग 14 किलोमीटर की सड़क का निर्माण 20 जनवरी तक पूर्ण कराने के निर्देश दिए हैं। बतौली से शांतिपारा तक के सड़क की खराब स्थिति को दृष्टिगत रखकर कलक्टर ने आवश्यकतानुसार पैच रिपेयरिंग का कार्य शीघ्र पूर्ण कराने के निर्देश दिए हैं।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned