scriptconservative culture in pando samaj | पंडो समाज की महिलाएं नहीं तोड़ पा रहीं रूढ़ीवाद की बेडिय़ां | Patrika News

पंडो समाज की महिलाएं नहीं तोड़ पा रहीं रूढ़ीवाद की बेडिय़ां

राष्ट्रपति के दत्तक पुत्रों के विकास व जागरूकता हेतु यूं तो शासन स्तर पर करोड़ों रुपए खर्च किए जा रहे हैं लेकिन मैदानी स्तर पर समाज के लोगों में रूढि़वादी विचारधारा खत्म होती नहीं दिखाई पड़ रही है।

अंबिकापुर

Published: April 25, 2022 05:23:31 pm

जयनगर। राष्ट्रपति के दत्तक पुत्रों के विकास व जागरूकता हेतु यूं तो शासन स्तर पर करोड़ों रुपए खर्च किए जा रहे हैं लेकिन मैदानी स्तर पर समाज के लोगों में रूढि़वादी विचारधारा खत्म होती नहीं दिखाई पड़ रही है। सूरजपुर जिले में राष्ट्रीय राजमार्ग क्रमांक 43 किनारे बसे राष्ट्रपति के दत्तक पुत्रों के ग्राम पंचायत पंडोनगर मेंहालांकि इस संबंध में कई समाजसेवियों व शासन-प्रशासन द्वारा लोगों को जागरूक करने काफी प्रयास समाज की महिलाओं को वर्षों बाद आज भी पुरानी परंपरा के अनुसार प्रति माह 7 दिवस तक नारकीय जीवन यापन करने विवश होना पड़ता है।
conservative culture
पंडो समाज की महिलाएं नहीं तोड़ पा रहीं रूढ़ीवाद की बेडिय़ां
बावजूद इसके मैदानी स्तर पर सभी मेहनत केवल कागजों में ही नजर आती है। राष्ट्रपति के दत्तक पुत्र पंडो समाज की महिलाओं को माहवारी में आज भी पुरानी रूढि़वादी परंपरा के तहत प्रति माह 7 दिनों तक घरों में अलग कमरे में रहने विवश होना पड़ता है। महिलाओं को एक अलग कमरे में रखकर भोजन-पानी की व्यवस्था वहीं अंदर में ही उपलब्ध करा दी जाती है। जिन परिवारों में केवल पति-पत्नी रहते हैंए वहां पर पति को ही अकेले घर का सारा कार्य पूर्ण करने कड़ी मशक्कत करनी पड़ती है।
7 दिनों तक महिला अकेले एक कमरे में ही बंद रहती है और नारकीय जीवन जीने विवश होती है। पंडो समाज की महिलाओं का कहना है कि पुरानी परंपरा के तहत ही हम लोगों को रीति रिवाज का पालन करने विवश होना पड़ता है, जबकि दूसरे समाज में ऐसी कोई प्रथा अब मान्य नहीं रह गई है। इससे यह अंदाज लगाया जा सकता है कि शासन-प्रशासन के पंडो जनजातियों में रूढि़वादी परंपराओं के प्रति जागरूकता के दावे सिर्फ कागजों तक ही सीमित हैं।

नहीं मनाते त्योहार
पंडो समाज की महिलाओं का कहना है कि जब हमें अलग रहना पड़ता है और यदि उस दौरान कोई त्योहार पड़ता है तो उसे परिवार में कोई नहीं मनाता है। जब साफ-सफाई हो जाती है, तब त्योहार को मनाया जाता है। उन्होंने बताया कि साफ -सुथरा रहने पर ही घर में त्योहार की खुशी देखने को मिलती है।

परंपरा का करते हैं पालन
ग्राम पंचायत पंडोनगर के सरपंच आगर साय ने कहा कि हमारे समाज में यह परंपरा सदियों से चली आ रही है, जिसका हमारे द्वारा पूरी निष्ठा के साथ पालन करना पड़ता है। समाज के रीति-रिवाज को नहीं बदला जा सकता है।
इस दिशा में जागरूकता लाना आवश्यक है। महिलाएं अपने भाई और पिता से पैड के लिए पैसे मांगें। शुरुआत में जरूर झिझक होगी, लेकिन इसके बाद पुरानी परंपरा बदलेगी। गांव में भी चौपाल लगा कर इस विषय पर चर्चा कर जागरूकता लाई जा सकती है। हमने इस जागरूकता की शुरुआत ऐसे ही की थी। मोनिका इजारदार, नोडल ऑफिसर, माहवारी स्वच्छता प्रबंधन

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

17 जनवरी 2023 तक 4 राशियों पर रहेगी 'शनि' की कृपा दृष्टि, जानें क्या मिलेगा लाभज्योतिष अनुसार घर में इस यंत्र को लगाने से व्यापार-नौकरी में जबरदस्त तरक्की मिलने की है मान्यतासूर्य-मंगल बैक-टू-बैक बदलेंगे राशि, जानें किन राशि वालों की होगी चांदी ही चांदीससुराल को स्वर्ग बनाकर रखती हैं इन 3 नाम वाली लड़कियां, मां लक्ष्मी का मानी जाती हैं रूपबंद हो गए 1, 2, 5 और 10 रुपए के सिक्के, लोग परेशान, अब क्या करें'दिलजले' के लिए अजय देवगन नहीं ये थे पहली पसंद, एक्टर ने दाढ़ी कटवाने की शर्त पर छोड़ी थी फिल्ममेष से मीन तक ये 4 राशियां होती हैं सबसे भाग्यशाली, जानें इनके बारे में खास बातेंरत्न ज्योतिष: इस लग्न या राशि के लोगों के लिए वरदान साबित होता है मोती रत्न, चमक उठती है किस्मत

बड़ी खबरें

Constable Paper Leak: राजस्थान कांस्टेबल परीक्षा रद्द, आठ गिरफ्तार, 16 मई के पेपर पर भी लीक का सायाबॉर्डर पर चीन की नई चाल, अरुणाचल सीमा पर तेजी से बुनियादी ढांचा बढ़ा रहा चीनगेहूं के निर्यात पर बैन पर भारत के समर्थन में आया चीन, G7 देशों को दिया करारा जवाबLIC IPO : एलआईसी आईपीओ आज होगा सूचीबद्ध, इतने रुपए पर होगी लिस्टिंगमध्यप्रदेश: दो समुदायों में तनाव के बाद देर रात नीमच सिटी में धारा 144 लागू'हिन्दी' बॉक्स ऑफिस पर 'बादशाहत': दक्षिण की फिल्मों का धमाल बॉलीवुड के लिए कड़ी चुनौतीHoroscope Today 17 May 2022: आज इन राशि वालों के जीवन में होगा मंगल ही मंगल, आर्थिक कष्टों का निकलेगा हलWorld Hypertension Day 2022: प्री-हाइपरटेंशन के संकेत को पहचानें, हाई ब्लड प्रेशर से बचा सकते हैं ये उपाय
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.