उल्टी-दस्त से पिता-पुत्री की मौत, दूधमुंहा बेटा हो गया अनाथ, 2 किमी पैदल चलकर पहुंचीं एसडीएम

diarrhea: उल्टी-दस्त की चपेट में मृतक की पत्नी भी, दूधमुंहा बेटे को भी अस्पताल (Hospital) में कराया गया है भर्ती, नदी पर पुल नहीं बनने के कारण अस्पताल पहुंचने में होती है देर

By: rampravesh vishwakarma

Published: 18 Sep 2021, 09:29 PM IST

अम्बिकापुर. मैनपाट के सुपलगा में उल्टी दस्त से पिता-पुत्री की मौत हो गई है। वहीं परिवार के दो लोग गंभीर है, इसमें मृतका की मां व 6 महीने का बच्चा भी शामिल है।

वहीं स्वास्थ्य विभाग मौत का कारण उल्टी दस्त नहीं बल्कि अन्य बीमारी बता रहा है। जबकि सूचना मिलने पर एसडीएम दीपिका नेताम ने पूरी टीम के साथ गांव में पहुंचकर हालात की जानकारी ली। रास्ता नहीं होने के कारण एसडीएम को 2 किमी पैदल चलना पड़ा।


मैनपाट के ग्राम सुपलगा निवासी टोर्री मझवार उम्र 45 वर्ष की तबियत कुछ दिनों से खराब थी। उसे इलाज के लिए मेडिकल कॉलेज अस्पताल में भर्ती कराया गया था। 13 सितंबर को अस्पताल से छुट्टी कराने के बाद उसे घर ले जाया गया था। 17 सितंबर की देर रात उसे उल्टी-दस्त शुरू हो गया और देखते ही देखते उसकी मौत हो गई।

Read More: मैनपाट में डायरिया से 10 दिन में 6 की मौत, Collector ने इन्हें लगाई फटकार

वहीं उसकी विवाहित बेटी फुलासो उम्र 23 वर्ष भी उल्टी दस्त से पीडि़त थी। उसे इलाज के लिए कमलेश्वरपुर अस्पताल में भर्ती कराया गया यहां शनिवार की दोपहर उसकी भी मौत हो गई। वहीं मृतका फुलासो का 6 माह का बेटा दीपक भी बीमार है, उसे गंभीर अवस्था में कमलेश्वरपुर से अम्बिकापुर मेडिकल कॉलेज रेफर किया गया है।

मृतक टोर्री मझवार की पत्नी केंदी बाई भी उल्टी-दस्त से पीडि़त बताई जा रही है। उसे भी कमलेश्वरपुर अस्पताल में भर्ती कराया गया है।


पहुंचविहीन है सुपलगा
सरगुजा जिले के मैनपाट के सुपलगा पहुंचविहीन है। बीच में मछली नदी होने के कारण बारिश के दिनों में आवागमन रुक जाता है। स्थानीय लोगों के अनुसार मृतका फुलासो की तबियत खराब होने पर उसे किसी तरह झेलगी में ढोकर नदी पार कराया गया था और इलाज के लिए कमलेश्वरपुर अस्पताल में भर्ती कराया गया था, यहां उसकी मौत हो गई। फुलासो की मौत हो जाने से 6 माह का दुधमुंहा बेटा अनाथ हो गया।

Read More: मैनपाट में मौतों का कारण जानने पहुंचे हेल्थ सचिव व हेल्थ डायरेक्टर


गांव पहुंचा प्रशासन
उल्टी-दस्त से दो लोगों की मौत की खबर सुनते ही जिला प्रशासन में हड़कंप मच गया। एसडीएम दीपिका नेताम को पूरी टीम के साथ 22 किलोमीटर घूम कर गांव जाना पड़ा। सुपलगा पहुंचविहीन होने के कारण अधिकारियों को लगभग डेढ़ से 2 किलोमीटर पैदल चलकर गांव जाना पड़ा।


सीएमएचओ बोले-उल्टी दस्त से मौत नहीं
सरगुजा जिले के सीएमएचओ पीएस सिसोदिया ने कहा कि उल्टी-दस्त से कोई मौत नहीं हुई है, वहां एक आदमी था, उसको अचानक कार्डियक अरेस्ट आ गया था, इसकी वजह से मौत हुई है। वहीं उसकी बेटी को पेट में दर्द होने के कारण कमलेश्वरपुर अस्पताल में भर्ती कराया गया था, यहां उसकी मौत हो गई।

rampravesh vishwakarma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned