बंद शटर के भीतर से आ रही थी आवाज, एसडीएम पहुंचे तो लगी थी भीड़, लगाया 30 हजार जुर्माना

Fine on shop: लॉकडाउन में दुकान खोल कपड़ा (Cloth) बेचने वाले दुकानदार पर प्रशासनिक टीम (Administration team) की कार्रवाई, जिलेभर में में 31 मई तक है लॉकडाउन (Lockdown)

By: rampravesh vishwakarma

Published: 16 May 2021, 11:34 PM IST

अंबिकापुर. कोरोना (Covid-19) के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए प्रशासन द्वारा अंबिकापुर शहर समेत सरगुजा जिले में लॉकडाउन लगाया है। इस दौरान कुछ आवश्यक दुकानों को छोड़कर सभी दुकानों को खुलने पर प्रतिबंध है। इसके बावजूद कई लोग दुकान खोलकर सामान बेच रहे हैं।

ऐसे में प्रशासनिक टीम द्वारा जुर्माना लगाने के साथ सील करने की कार्रवाई की जा रही है। इसी कड़ी में शहर के स्कूल रोड स्थित कपड़ा दुकान का संचालक (Shopkeepers0 बाहर से शटर बंद कर भीतर ग्राहकों को कपड़ा बेच रहा था। सूचना पर एसडीएम मौके पर पहुंचे और उन्होंने संचालक 30 हजार रुपए का जुर्माना (Fine on shopkeepers) लगा दोबारा नियमों का उल्लंघन न करने की समझाइश दी।

Read More: कोरोना पॉजिटिव दुकान संचालक शटर बंद कर ग्राहकों को बेच रहा था कपड़े, एसडीएम को पता चली ये बात तो...


अंबिकापुर एसडीएम प्रदीप साहू ने बताया कि रविवार को निरीक्षण के दौरान स्कूल रोड स्थित भगवती सेल्स कॉर्पोरेशन द्वारा लॉकडाउन अवधि में दुकान खोलकर समान विक्रय किया जा रहा था। दुकान संचालक बाहर से दुकान बंद कर भीतर सामान बेच रहा था।

नियमों के उल्लंघन पर एसडीएम ने दुकान संचालक पर &0 हजार रुपए का जुर्माना लगा दोबारा गलती न करने की हिदायत दी। उलेखनीय है कि कलक्टर संजीव कुमार झा के निर्देशानुसार विभिन्न टीमों के द्वारा निगम क्षेत्रों तथा ग्रामीण क्षेत्रों में नियमो के उल्लंघन करने वालों पर कार्यवाही की जा रही है।

लॉकडाउन अवधि में बेवजह घूमने वालों तथा बिना मास्क के आने-जाने वालों पर जुर्माना लगाया जा रहा हैं। कोरोना के प्रसार को रोकने के लिए दुकानों को बंद रखने की समझाइश दी जा रही है। कार्यवाही के दौरान नायब तहसीलदार मनीष सूर्यवंशी भी उपस्थित थे।

Read More: लॉकडाउन के बीच शहर के ये 3 बड़े व्यापारी दुकान खोलकर बेच रहे थे सामान, एसडीएम ने किया सील


व्यापारियों ने लॉकडाउन बढ़ाने पर जताया है आक्रोश
कलक्टर द्वारा जिले में 31 मई तक लॉकडाउन (Lockdown) अवधि बढ़ाई गई है, इसका व्यापारियों ने विरोध करते हुए आक्रोश जताया है। उनका कहना है कि इतना लंबा लॉकडाउन बढ़ाए जाने को लेकर उनसे प्रशासन ने चर्चा करना तक उचित नहीं समझा।

दुकान बंद होने से व्यापारी वर्ग परेशान है, कर्मचारियों को वेतन नहीं दे पा रहे हैं। उन्हें भरोसा था इस बार कुछ छूट मिलेगी, लेकिन प्रशासन की ओर से कोई छूट नहीं दी गई।

rampravesh vishwakarma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned