8वीं की छात्रा से जंगल में हुआ था सामूहिक बलात्कार, 1 आरोपी को आजीवन सश्रम कारावास की सजा

Gangrape: 5 हजार रुपए का अर्थदंड भी लगाया, अर्थदंड न पटाने पर 6 महीने का अतिरिक्त कारावास (Extra imprisonment) की सजा भुगतनी होगी, दूसरा आरोपी था नाबालिग

By: rampravesh vishwakarma

Published: 29 Dec 2020, 05:32 PM IST

अंबिकापुर. 8वीं कक्षा में पढ़ रही 13 वर्षीय छात्रा के साथ अगस्त 2017 में युवक व उसके नाबालिग दोस्त से सामूहिक बलात्कार (Gangrape) किया था। इस दौरान पीडि़ता मवेशियों को चराने गई थी। इसी दौरान दोनों उसे पकड़कर जंगल में ले गए थे और एक ने वारदात (Crime) को अंजाम दिया था।

इस मामले में न्यायालय- अपर सत्र न्यायाधीश, फास्ट ट्रेक स्पेशल कोर्ट अंबिकापुर ने आरोपी युवक को धारा 376 (घ), सहपठित धार 6 तथा लैंगिक अपराधों से बालकों का संरक्षण अधिनियम 2012 की धारा के तहत आजीवन सश्रम कारावास (Lifetime imprisonment) तथा 5 हजार रुपए अर्थदंड की सजा सुनाई है। अर्थदंड की राशि अदा न करने पर 6 माह का अतिरिक्त कारावास की सजा भुगतनी होगी।


गौरतलब है कि 13 वर्षीय एक लड़की कक्षा 8वीं में पढ़ती थी। 27 अगस्त 2017 को वह अपने मवेशियों को लेकर ग्राम चकेरी के सड़ेवानाका जंगल में चराने गई थी। सुबह करीब 11 बजे वह जंगल के किनारे पेड़ के नीचे बैठकर अमरूद खा रही थी।

इसी दौरान उदयपुर थाना क्षेत्र के ग्राम बासेन माझापारा निवासी ललन राम पंडो पिता रामचरण पंडो 19 वर्ष अपने एक नाबालिग दोस्त के साथ पहुंचा। इसके बाद दोनों ने उसका एक-एक हाथ पकड़कर खींचते हुए वहां से 200 मीटर दूर जंगल में ले गए। इसके बाद रामचरण पंडो ने मुंह दबाकर उससे बलात्कार किया।

आरोपियों के चंगुल से छूटकर पीडि़ता अपने घर पहुंची और पूरी बात परिजन को बताई। 28 अगस्त 2017 को उदयपुर थाने में मामले की रिपोर्ट दर्ज कराई गई। इस पर पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ धारा 376 (घ) व 5 (छ) तथा सहपठित धारा 6, लैंगिक अपराधों से बालकों का संरक्षण अधिनियम 2012 की धारा के तहत कार्रवाई करते हुए 29 को उन्हें गिरफ्तार किया।


मिली आजीवन सश्रम कारावास की सजा
इस मामले में फैसला सुनाते हुए अपर सत्र न्यायाधीश, फास्ट ट्रेक स्पेशल कोर्ट ने आरोपी ललन राम पंडो के को धारा 376 (घ) व 5 (छ) तथा सहपठित धारा 6, लैंगिक अपराधों से बालकों का संरक्षण अधिनियम 2012 की धारा के तहत आजीवन सश्रम कारावास की सजा तथा 5 हजार रुपए अर्थदंड से दंडित किया है। अर्थदंड की राशि न पटाने पर 6 माह के अतिरिक्त कारावास की सजा भुगतनी होगी।

Show More
rampravesh vishwakarma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned