ड्यूटी ज्वाइन करते ही आईपीएस कांबले ने बताया कि कैसे होती है पुलिसिंग, पुलिस कलम की भी सिपाही

IPS join duty: सरगुजा के नए एसपी (New SP) आईपीएस अमित तुकाराम कांबले ने ग्रहण किया पद्भार, 2009 बैच के आईपीएस (IPS) हैं कांबले

By: rampravesh vishwakarma

Published: 03 Jul 2021, 07:59 PM IST

अंबिकापुर. सरगुजा के नए एसपी अमित तुकाराम कांबले ने शनिवार को पदभार ग्रहण कर लिया। पदभार संभालते ही उन्होंने को-ऑर्डिनेशन सेंटर में पत्रकारों से चर्चा की। उन्होंने कहा कि सभी को साथ लेकर व जनता से सामंजस्य बनाकर पुलिसिंग करेंगे।

अपराध नियंत्रण पर विशेष फोकस रहेगा। जनता का साथ नहीं मिलता है तो लोगों की सुरक्षा करना मुश्किल हो जाएगा। पुलिस भी कलम की सिपाही होती है।

Read More: आईपीएस अमित को सरगुजा और भावना को सूरजपुर एसपी की कमान, आईजी व एएसपी का भी ट्रांसफर


उन्होंने कहा कि थाने में योग्य व्यक्ति को पदस्थापना दी जाएगी। जिला एक आदमी के भरोसे नहीं चलता बल्कि एक टीम काम करती है, इसलिए सभी को साथ लेकर चलना है। जो काम करेगा, वही उस पद पर रह सकता है। एसपी कांबले वर्ष 2009 बैच के आईपीएस हैं।

उन्होंने माओवाद प्रभावित क्षेत्र नारायणपुर, दंतेवाड़ा, बस्तर, गरियाबंद में भी सेवाएं दी हैं। उन्होंने कहा कि खुफिया तंत्र को मजबूत करने की आवश्यकता है। इसे और विकसित करने का प्रयास किया जाएगा।

Read More: बुलेट से रात में थाने पहुंचे SP को नहीं पहचान पाए पुलिसकर्मी, फिर हुआ यह


जनता को विश्वास में लेना होगा
एसपी ने कहा कि जनता को विश्वास होना चाहिए कि पुलिस हमारे लिए काम कर रही है। बिना जनता के सहयोग के पुलिसिंग फेल है। लोगों के बीच सौहाद्र्रपूर्ण वातावरण बनाना होगा। थाने में पहुंचे फरियादी को किसी तरह की कोई परेशानी नहीं होनी चाहिए। उसकी बातों को गंभीरता से सुनना चाहिए, ताकि उसे न्याय मिल सके।


साप्ताहिक अवकाश पर विचार
साप्ताहिक अवकाश की आवश्यकता है, लेकिन कुछ प्रोफेशन ऐसे है जहां यह सम्भव नहीं हो पाता। हमारे यहां ड्यूटी रोस्टर के हिसाब से पुलिसकर्मियों से काम कराया जाता है। साप्ताहिक अवकाश पर भी विचार किया जाएगा। पुलिसकर्मियों की हर समस्या को गंभीरता से सुना जाएगा, ताकि उन्हें काम के प्रति विश्वास जगे।

Read More: एसआई ने धमकी देकर युवक से मांगे रुपए, कहा- नहीं दोगे तो बनाऊंगा सह आरोपी, एसपी से शिकायत


नशे के खिलाफ जारी रहेगा अभियान
नशा के खिलाफ अभियान चलाने पूरा प्रयास किया जाएगा और इसके जड़ तक जाएंगे। वहीं आदतन अपराधियों पर भी नजर रहेगाी। अपराधियों को हर संभव सजा दिलाने का प्रयास किया जाएगा। पुलिस कलम की भी सिपाही होती है। कलम के वार में आवाज नहीं आती है, पर सजा गंभीर होती है।

rampravesh vishwakarma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned