1914 में शुरु हुआ यह स्कूल अब बनेगा उत्कृष्ट हिंदी माध्यम विद्यालय, यहां से पढ़े छात्रों ने बनाई हैं अंतरराष्ट्रीय पहचान

Hindi Medium school: मुख्यमंत्री भूपेश बघेल (CM Bhupesh Baghel) की स्वामी आत्मानंद उत्कृष्ट हिंदी माध्यम विद्यालय की घोषणा पर अमल शुरु, अंग्रेजों के जमाने में स्कूल का ये था नाम

By: rampravesh vishwakarma

Published: 10 Sep 2021, 07:47 PM IST

अंबिकापुर. अंबिकापुर स्थित सरगुजा क्षेत्र का पहला हाईस्कूल तथा वर्तमान में शासकीय बहुउद्देश्यीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय के नाम से संचालित स्कूल अब स्वामी आत्मानन्द उत्कृष्ट हिंदी माध्यम विद्यालय बनेगा।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की घोषणा का अमल करते हुए कलक्टर संजीव कुमार झा के निर्देशानुसार जिला शिक्षा अधिकारी डॉ.संजय कुमार गुहे द्वारा आवश्यक तैयारी प्रारंभ कर दी गई है।


जिला शिक्षा अधिकारी ने बताया कि वर्तमान बहुउद्देशीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय को राज्य शासन के निर्देशानुसार स्वामी आत्मानन्द उत्कृष्ट अंग्रेजी माध्यम विद्यालय की तजऱ् पर उत्कृष्ट हिंदी माध्यम विद्यालय रूप में विकसित किया जाएगा। इसके लिए स्कूल के बाहरी सरंचना में बिना परिवर्तन किए अध्ययन की अत्याधुनिक सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएंगी।

कक्षाओं के अंदरूनी हिस्से की मरम्मत, रंग-रोगन, फर्नीचर, अत्याधुनिक प्रयोगशाला सहित अन्य सुविधाएं रहेंगी। उन्होंने बताया कि वर्तमान में विद्यालय में कक्षा 6 वीं से 12 तक छत्तीसगढ़ माध्यमिक शिक्षा मंडल का हिंदी माध्यम तथा सीबीएसई बोर्ड का अंग्रेजी माध्यम की कक्षाएं संचालित हो रही है।

Read More: Private स्कूलों ने फिर अभिभावकों की जेब पर डाला डाका, सबकुछ जानकर भी प्रशासन मौन

सरगुजा क्षेत्र का यह पहला हाई स्कूल सन 1914 में प्रारंभ हुआ था, तब छात्रों की संख्या 24 थी। शिक्षा का क्षेत्र सीमित होने के कारण मान्यता प्राप्त करने में काफी कठिनाई हुई। वर्तमान शासकीय बहुउद्देश्यीय विद्यालय 1914 से 1955 तक एडवर्ड हाई स्कूल के नाम से जाना जाता रहा।

एडवर्ड हाई स्कूल प्रारंभ में इलाहाबाद तदनन्तर नागपुर बोर्ड से सम्बद्ध रहा। यहां के विद्यार्थियों को रायपुर केंद्र से परीक्षा में सम्मिलित होना पडता था। स्कूल का संचालन वर्तमान नगर पालिक निगम उच्चत्तर माध्यमिक विद्यालय प्रांगण में दो मंजिला भवन में संचालित होता था। लेकिन भूकंप से क्षतिग्रस्त होने के कारण वहां से वर्तमान स्थान पर नया भवन बनाया गया।


वर्तमान विद्यालय भवन अंग्रेजी के ई आकृति में
शासकीय बहुउद्देश्यीय उच्चत्तर माध्यमिक विद्यालय का वर्तमान भवन अंग्रेजी के ई आकृति में निर्मित है जिसे सरगुजा स्टेट के इंजीनियर सीपी वर्मा की देख-रेख में महाराजा स्व. रामानुज शरण सिंहदेव ने करवाया था।

स्कूल का उद्घाटन तत्कालीन युवराज अम्बिकेश्वर शरण सिंहदेव ने 11 नवंबर 1946 को किया। मध्यप्रदेश गठनोपरांत 1955 में शासन ने मल्टी परपज स्कीम लागू किया तब से इसका नाम शासकीय एडवर्ड बहु उच्चतर माध्यमिक विद्यालय हो गया।

Read More: एक SCHOOL ऐसा भी जहां मिलती है दूसरे स्कूल की Marksheet


यहां के छात्रों की पहचान अंतराष्ट्रीय स्तर पर
इस विद्यालय के छात्रों ने राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अपनी पहचान बनाकर विद्यालय की ख्याति बढ़ाई है। यहां के छात्र अमेरिका के बोस्टन विश्वविद्यालय के रीजेंट, मगध विश्वविद्यालय बोधगया के कुलपति, अंतरराष्ट्रीय कवि, सांसद, वैज्ञानिक, न्यायाधीश, आईपीएस, कोच और अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी रहे हैं।

rampravesh vishwakarma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned