scriptPrisoners death: Continuous death of prisoners in Central jail | सेंट्रल जेल में लगातार हो रही बंदियों की मौत से हड़कंप, क्षमता है 1020 की लेकिन बंद हैं 2400 से ज्यादा | Patrika News

सेंट्रल जेल में लगातार हो रही बंदियों की मौत से हड़कंप, क्षमता है 1020 की लेकिन बंद हैं 2400 से ज्यादा

Prisoners death: आजीवन कारावास (Lifetime imprisonment) की सजा काट रहे बंदी की हो गई मौत, 15 से 31 मई के बीच 3 बंदियों ने तोड़ा था दम (3 prisoners death), नहीं रुक रहा है बंदियों की मौत का सिलसिला, एक महिला डॉक्टर (Female doctor) के भरोसे 2400 बंदी और कैदी

अंबिकापुर

Published: June 04, 2022 02:47:27 pm

अंबिकापुर. Prisoners death: केन्द्रीय जेल अंबिकापुर में बीमारी से बंदियों की मौत का सिलसिला जारी है। बुधवार की सुबह आजीवन कारावास की सजा काट रहे एक और बंदी की मौत इलाज के दौरान मेडिकल कॉलेज अस्पताल में हो गई। पिछले 15 दिन के अंदर 4 बंदियों की मौत के मामले सामने आ चुके हैं। इसे लेकर जेल प्रशासन (Jail Administration) में भी हड़कंप है। केन्द्रीय जेल अधीक्षक (Jail Suprintendent) का कहना है कि क्षमता से अधिक बंदी होने के कारण गर्मी के मौसम में वे अलग-अलग बीमारी से पीडि़त हो रहे हैं। वहीं एकमात्र महिला डॉक्टर होने के कारण भी परेशानी हो रही है। उन्होंने स्वास्थ्य कैंप (Health Camp) लगाने उच्चाधिकारियों को पत्र भी लिखा है।
Prisoners death
Central jail Ambikapur

शिवनाथ गोंड़ पिता शिवरतन गोड़ उम्र 48 वर्ष सूरजपुर जिले के चंदौरा चौकी क्षेत्र के ग्राम रूपनियापानी का रहने वाला था। वह वर्ष 2014 में हत्या के मामले में सूरजपुर जेल में बंद था। इसके बाद उसे वर्ष 2015 में आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई थी, तब से उसे केन्द्रीय जेल अंबिकापुर में शिफ्ट कराया गया था।
1 जून की सुबह 5.30 बजे उसकी अचानक तबियत खराब हो गई। केन्द्रीय जेल अस्पताल में उसका इलाज कराया गया। उसकी स्थिति गंभीर देखते हुए चिकित्सक ने उसे तत्काल मेडिकल कॉलेज अस्पताल (Medical college hospital) रेफर कर दिया। यहां जांच के दौरान चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया। वहीं इससे पूर्व मई महीने में ही 5 और बंदियों की मौत हो चुकी है।

15 से ज्यादा बंदी अभी भी हैं अस्पताल में भर्ती
मई-जून की गर्मी से लोग बेहाल हैं। वहीं इसका असर केन्द्रीय जेल (Central Jail) में भी देखा जा रहा है। तेज धूप व उमस भरी गर्मी से केन्द्रीय जेल में आजीवन कारावास की सजा काट रहे बंदी बीमार हो रहे हैं। आंकड़ों पर नजर डालें तो १३ मई से १ जून के बीच ४ बंदियों की मौत इलाज के दौरान अंबिकापुर मेडिकल कॉलेज अस्पताल में हो गई है।
जेल अधीक्षक के अनुसार सभी अलग-अलग बीमारी से पीडि़त थे। वहीं देखा जाए तो हर दिन केन्द्रीय जेल से किसी न किसी बंदी को इलाज के मेडिकल कॉलेज अस्पताल में भर्ती कराया जा रहा है।
अस्पताल का जेल वार्ड बंदी मरीजों से भरा पड़ा है। केन्द्रीय जेल अधीक्षक के अनुसार लगभग 15 बंदी अस्पताल में भर्ती हंै। वहीं बुधवार को 20 बंदियों को इलाज के लिए अस्पताल भेजा गया था। इसमें 5 बंदियों की तबियत ज्यादा खराब रहने के कारण उन्हें भर्ती कराया गया है।

क्षमता से अधिक हैं बंदी
पिछले 15 दिनों में 4 बंदियों की मौत की घटना पर केन्द्रीय जेल अधीक्षक राजेन्द्र गायकवाड़ का कहना है कि बंदियों की मौत अलग-अलग बीमारी से हुई है। वहीं तेज धूप व उमस भरी गर्मी के बीच क्षमता से अधिक बंदी केन्द्रीय जेल में हैं।
केन्द्रीय जेल अंबिकापुर में बंदियों की रखने की क्षमता मात्र 1020 है जबकि 2400 से ज्यादा बंदी केन्द्रीय जेल में बंद हंै। इतने बंदियों के बीच मात्र एक महिला डॉक्टर है। यहां पुरूष डॉक्टर की भी नियुक्ति नहीं की गई है। इसका भी खामियाजा बंदियों को भुगतना पड़ता है।

स्वास्थ्य कैंप के लिए लिखा पत्र
केन्द्रीय जेल अधीक्षक राजेन्द्र गायकवाड़ ने बताया कि मौसम के उतार चढ़ाव होने के कारण बंदी बीमार हो रहे हैं। बंदियों की बीमारी को देखते हुए सीएमएचओ व अस्पताल अधीक्षक को पत्र लिखा है ताकि केन्द्रीय जेल में स्वास्थ्य कैंप लगाया जा सके। कैंप लगाने से बीमारी का पता चल पाएगा और स्थिति में सुधार हो सकता है। अस्पताल में मात्र एक महिला डॉक्टर होने के कारण परेशानी हो रही है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

Train Accident: महाराष्ट्र के गोंदिया में रेल हादसा, पैसेंजर ट्रेन ने मालगाड़ी को मारी टक्कर; 50 से अधिक यात्री घायलJammu Kashmir News: जम्मू के सिधरा में एक ही परिवार के छह लोग की संदिग्ध स्थिति में मौत, पुलिस कर रही छानबीनदिल्ली में आज पीएम मोदी की अध्यक्षता में केंद्रीय कैबिनेट की बैठक, मंत्रिमंडल विस्तार की अटकलें तेजगुलाम नबी ने कांग्रेस को दिया झटका, ठुकराया JK कैंपेन कमेटी का पद, बताया ये कारणदिल्ली में फिर डरा रहा कोरोना, बीते 7 महीने में सबसे ज्यादा पॉजिटिविटी रेट, अलर्ट मोड पर अस्पतालMartyrdom: शेखावाटी का फिर एक लाल देश के नाम कुर्बान, आठ महीने की गर्भवती है पत्नीAlwar Mob Lynching: चिंरजीलाल को भीड़ ने चोर समझकर मार डाला, 7 आरोपी गिरफ्तारबिलासपुर से जोधपुर आ रही ट्रेन मालगाड़ी से टकराई, जानें कितने हुए घायल
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.