यह बात सुन नाराज हो गए रेलवे जीएम, डीआरएम से कहा- ...तो बदल दो Train का समय

दक्षिण-पूर्व-मध्य रेलवे के महाप्रबंधक पहुंचे थे अंबिकापुर, अंबिकापुर से अनूपपुर नई ट्रेन चलाने की दी हरी झंडी

By: rampravesh vishwakarma

Published: 07 Jun 2018, 07:53 PM IST

अंबिकापुर. दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे के महाप्रबंधक गुरुवार को विश्व संरक्षा संगोष्ठी सहित विभिन्न कार्यक्रम में शामिल होने अंबिकापुर पहुंचे। दुर्ग-अंबिकापुर ट्रेन के आए दिन देर से पहुंचने की शिकायत पर उन्होंने डीआरएम सहित अन्य अधिकारियों को दो टूक कहा कि अगर समय पर ट्रेन नहीं चला सकते हो तो उसका समय बदल दो।

लोगों की आपत्ति के बाद उन्होंने इस संबंध में जांच कराकर हकीकत जानने की बात कही। इस दौरान रेलवे संघर्ष समिति के अध्यक्ष, कांग्रेसी प्रतिनिधिमंडल व राज्य सभा सांसद ने उनसे मुलाकात कर ज्ञापन सौंपा। रेलवे जीएम ने अंबिकापुर से अनूपपुर तक सुबह नई ट्रेन चलाने की बात कही जो अनूपपुर में रायपुर जानेवाली ट्रेन को लिंक देगी।


दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे के महाप्रबंधक एसएस सोइन गुरुवार की सुबह 9.34 बजे दुर्ग-अंबिकापुर ट्रेन से स्पेशल सैलून से अंबिकापुर पहुंचे। लगभग 1 घंटे बाद वे सैलून से नीचे उतरे। उनके उतरने के बाद ही 10.24 बजे अंबिकापुर से शहडोल के लिए ट्रेन रवाना हुई। रेलवे जीएम के पहुंचने की जानकारी मिलने के बाद राज्य सभा सदस्य रामविचार नेताम ने स्टेशन पहुंचकर उनसे मुलाकात की।

 

Railway GM

इस दौरान कांग्रेस का एक प्रतिनिधिमंडल महापौर डॉ. अजय तिर्की के नेतृत्व में पहुंचा। सभी ने रेलवे महाप्रबंधक के सामने अपनी बातें रखीं। सबसे अधिक शिकायतें दुर्ग-अंबिकापुर ट्रेन के देर से पहुंचने की की गई। रेलवे जीएम को सभी ने कहा कि इस ट्रेन के देर से पहुंचने की वजह से शहडोल ट्रेन भी देर से रवाना होती है और वहां से आगे जाने वाले लोगों को दूसरी ट्रेन का लिंकअप नहीं मिल पाता है। इसकी वजह से कई बार रिजर्वेशन भी रद्द हो जाता है।

इसपर एसएस सोइन ने डीआरएम आर. राजगोपाल से कहा कि अगर समय पर ट्रेन नहीं चला सकते हैं तो इसका समय बदलकर सुबह 10 बजे पहुंचने का कर दें। समय बदलने की बात पर रामविचार नेताम व रेलवे संघर्ष समिति के अध्यक्ष देवेश्वर सिंह ने आपत्ति जताते हुए कहा कि दुर्ग से 7.45 पर ट्रेन रवाना होती है और रायपुर से अधिकांश सवारी बैठते हैं।

रायपुर से यह ट्रेन ८.४५ बजे छूटती है और ऐसे में अगर इसके पहुंचने का समय सुबह 10 बजे कर दिया जाएगा तो लोगों की समस्या बढ़ जाएगी। एसएस सोइन ने कहा कि इस बात को आने के दौरान मैने भी महसूस किया है कि ट्रेन देर से पहुंच रही है। वापस लौटने के बाद इसकी जांच करवाकर समय पर चलाने का काम करेंगे।

उन्होंने बताया कि अभी बिलासपुर से पेंड्रा के बीच तीसरे लाइन का काम चल रहा है। इसकी वजह से रेलवे ट्रैक पर कुछ ज्यादा लोड है इससे भी ट्रेन में कुछ देरी हो रही है। इस दौरान रेलवे डीसीएम रश्मि गौतम सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।


नई ट्रेन के लिए प्रस्ताव भेजने कहा
अंबिकापुर से अनूपपुर तक सुबह 7.30 बजे एक नई ट्रेन चलाने की अनुमति रेलवे जीएम ने डीआरएम को कही। उन्होंने इस संबंध में तत्काल प्रस्ताव बनाकर भेजने की बात कही। डीएसएम रश्मि गौतम ने जीएम को बताया कि पूर्व में ट्रायल बेस पर अंबिकापुर से गोंदिया तक एक ट्रेन चलाई गई थी, उससे रेलवे को आय भी अच्छी हुई थी।

उसके बंद होने के बारे में भी पूछा। जीएम ने कहा कि बिलासपुर से पेंड्रा तक तीसरी लाइन का काम चल रहा है। इसकी वजह से अभी रायपुर तक अनुमति नहीं दी जा सकती है। अनूपपुर तक नई ट्रेन चलाई जा सकती है। उसका समय ऐसा तय करने को कहा कि अनूपपुर में लोगों को रायपुर की तरफ जाने वाली ट्रेन का लिंक मिल सके। ये व्यवस्था दोनों तरफ से तय करने को कहा।


जबलपुर ट्रेन अब रुकेगी सूरजपुर व करंजी स्टेशन
अंबिकापुर से शहडोल तक जाने वाली जबलपुर ट्रेन अंबिकापुर से निकलने के बाद न तो सूरजपुर रोड में और न हीं करंजी स्टेशन पर रूकती है। सभी की मांग को देखते हुए जीएम ने डीआरएम को जरूरत के हिसाब से स्टॉपेज निर्धारित करने को कहा। इसके साथ ही तत्काल सूरजपुर व करंजी स्टेशन में स्टॉपेज निर्धारित करने निर्देशित किया।

Show More
rampravesh vishwakarma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned